Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

जोधपुर में पर्यावरण सरंक्षण को मुखर हुए स्वर, जस्टिस भाटी ने कहा प्राकृतिक संसाधन बचाने के हों समन्वित प्रयास

Patrika news network Posted: 2017-07-17 09:27:50 IST Updated: 2017-07-17 10:01:58 IST
  • इन्टैक जोधपुर चैप्टर व मेहरानगढ़ म्यूजियम ट्रस्ट की साझा मेजबानी में मेहरानगढ़ दुर्ग के चौकेलाव महल में रविवार शाम आयोजित 'कन्जर्वेशन ऑफ दी कम्युनिटी एरिया ओरण/चारणोत' विषयक दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी के समापन समारोह में उदबोधन दे रहे थे।

जोधपुर

राजस्थान उच्च न्यायालय के न्यायाधीश पुष्पेन्द्रसिंह भाटी ने कहा भूमि-अधिकरण हमारे समाज में कैंसर की तरह फैल रहा है। प्राचीन समय में जितने भी प्राकृतिक संसाधन थे उनमें देवी-देवताओं का वास माना जाता था। आज इस भावना का हृास हो रहा है। वे इन्टैक जोधपुर चैप्टर व मेहरानगढ़ म्यूजियम ट्रस्ट की साझा मेजबानी में मेहरानगढ़ दुर्ग के चौकेलाव महल में रविवार शाम आयोजित 'कन्जर्वेशन ऑफ  दी कम्युनिटी एरिया ओरण/चारणोत' विषयक दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी के समापन समारोह में उदबोधन दे रहे थे।


जोधपुर में किरण माहेश्वरी ने कहा प्रदेश के सरकारी कॉलेजों में अब मिलेगी इसकी फ्री सुविधा..


जस्टिस भाटी ने कहा कि समाज का प्रत्येक व्यक्ति प्राकृतिक संसाधनों के विनाश के लिए जिम्मेदार है। अगर हमें इन्हें सुरक्षित रखना है तो फि र से लोगों में ओरण/देव भूमियों को सुरक्षित करने के लिए समन्वित प्रयास करने होंगे। समारोह अध्यक्ष गजसिंह ने कहा कि प्राचीन नहरों का उचित देखरेख नहीं होने के कारण आमजन को सामान्य व बरसात के दिनों में अत्यन्त कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। हमें अपनी प्राकृतिक संपदाएं सुरक्षित रखने के लिए युवाओं को जोडऩा होगा, ताकि वे इसका महत्व समझ सकें। उन्होंने सभी विषय विशेषज्ञों और विद्वानों को दो-दिनों तक इस विषय पर गहन व शोधपूर्ण चर्चा करने के लिए बधाई दी।


जोधपुर के माचिया में पहुंच गई हैं 'गोल्फ कार्ट', अब परिवार संग एक गाड़ी में बैठ घूमने का लें मजा


समापन समारोह में वरिष्ठ निदेशक, प्राकृतिक विरासत विभाग, इन्टैक नई दिल्ली के मनु भटनागर ने कहा कि दो दिवसीय कार्यशाला में हुए मंथन के निष्कर्ष इन्टैक मुख्यालय की ओर से सम्बन्धित विभागों में भिजवा कर अमल में लाने का प्रयास किया जाएगा। कृषि व पारिस्थितिकी विकास संस्थान/ओरण फ ोरम, अलवर के संस्थापक अमनसिंह ने कार्यशाला प्रतिभागियों की ओर से तैयार 'जोधपुर घोषणा पत्र' सदन में प्रस्तुत किया। घोषणा पत्र सम्बन्धित सरकारी एजेंसियों को भेजा जाएगा।


जोधपुर के माचिया में पहुंच गई हैं 'गोल्फ कार्ट', अब परिवार संग एक गाड़ी में बैठ घूमने का लें मजा


इन्टैक जोधपुर चैप्टर के संयोजक डॉ. महेन्द्रसिंह तंवर ने बताया कि राष्ट्रीय संगोष्ठी के दूसरे दिन रविवार को पहले सत्र में भोपाल की एनजीटी अधिवक्ता जुबिया साजिद, बाड़मेर के संयोजक यशोवद्र्धन शर्मा, शैलेन्द्रपाल सिंह, बीकानेर इंटैक संयोजक पृथ्वीराज रतनू, जैसलमेर इन्टैक चैप्टर के संयोजक गोपालसिंह भाटी ,उदयपुर के प्रो. पी.एस. राणावत, सुनील दुबे, डॉ. दिलीपकुमार नाथाणी , इन्टैक नई दिल्ली के डॉ. मनु भटनागर और काजरी के डॉ. जे.पी.सिंह ने ओरण संरक्षण के बारे में महत्वपूर्ण सुझाव और जानकारियां दीं। संचालन कल्पना चाम्पावत ने किया। समारोह में मेहरानगढ़ म्यूजियम ट्रस्ट के निदेशक करणीसिंह जसोल सहित शहर के पर्यावरणविद मौजूद थे।

rajasthanpatrika.com

Bollywood