Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

इंसानी गिरफ्त में खौफनाक पैंथर भी था सहमा हुआ, आजाद होने पर यूं जताई खुशी, देखें वीडियो

Patrika news network Posted: 2017-03-20 12:17:12 IST Updated: 2017-03-20 12:17:12 IST
  • घणामगरा से पकड़े गए पैंथर को इंसानी गिरफ्त में रखा गया तो सहमा हुआ था, लेकिन जब उसकी हालत में सुधार हुआ और उसे जंगल में छोड़ा गया तो उसकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं था। वो दौड़ कर जंगल में एेसे गया मानो एक नई जिंदगी मिल गई हो। देखें वीडियो

जोधपुर

जोधपुर जिले के घणामगरा गांव में सौंफ के खेत से 26 फरवरी को पकड़े गए युवा पैंथर को रविवार शाम अरावली के जंगल में सफलतापूर्वक छोड़ दिया गया। पकड़े गए युवा पैंथर के शरीर में 5 मार्च को माइक्रोचिप लगाने की प्रक्रिया सफलतापूर्वक पूरी की गई। जोधपुर के माचिया जैविक उद्यान में जयपुर चिडि़याघर के वन्यजीव विशेषज्ञ डॉ. अरविन्द माथुर, जोधपुर के वन्यजीव चिकित्सक डॉ. श्रवणसिंह राठौड़ और लूणी के पशु चिकित्सक डॉ. राजकुमार माथुर ने माइक्रो चिप लगाने के दौरान पैंथर के शरीर से डीएनए के सेम्पल भी एकत्र किए।


READ MORE: खींचन में दिखी वॉटर हेन, प्रवासी पक्षियों के जमावड़े से बर्ड टूरिज्म की बढ़ रही उम्मीदें

सेम्पल को तेलंगाना राज्य के हैदराबाद स्थित लेबोरेट्री सेन्टर फॉर एन्डेंजर्ड स्पेशिस (लेकोन्स) में जांच के लिए भेजा गया। केन्द्रीय चिडि़याघर प्राधिकारण के नियमानुसार करीब 15 दिन तक आब्जर्वेशन में रखने के बाद रविवार को पैंथर की जांच के बाद पूर्ण स्वस्थ होने पर उसे पुन: उसके प्राकृतवास में छोड़ दिया गया। उपवन संरक्षक एमएस राठौड़ के निर्देश पर पैंथर को जंगल में छोडऩे गई वन्यजीव टीम डॉ. श्रवणसिंह राठौड़, क्षेत्रीय वन अधिकारी महेन्द्रपाल, सहायक वनपाल मनोहरसिंह, बंशीलाल, महिला वनरक्षक लीला विश्नोई व निरमा विश्नोई, ड्राइवर सज्जनसिंह मौजूद रहे।

rajasthanpatrika.com

Bollywood