Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

ये अफ्रीकी व्यक्ति एटीएम के डाटा से यूं उड़ा लेता था राशि, अब तक लगा चुका है लाखों की चपत!

Patrika news network Posted: 2017-05-14 15:30:50 IST Updated: 2017-05-14 15:30:50 IST
  • आजकल एटीएम का इस्तेमाल बढऩे के साथ ही अपराध का ग्राफ भी बढऩे लगा है। इसका ताजा उदाहरण शनिवार को देखने को मिला। यहां एक अफ्रीकी व्यक्ति गिरफ्त में आया है जो एटीएम के पासवर्ड से क्लोन बना कर लाखों की चपत लगा चुका है।

जोधपुर

एटीएम कार्ड से डाटा लेने के बाद क्लोन बनाने व खाते से 80 हजार रुपए निकालने के मामले में पुलिस ने नाइजीरियाई युवक व एक स्थानीय युवक को गिरफ्तार किया है। स्थानीय युवक कार्ड स्वैप करने के बहाने एटीएम कार्ड लेकर डाटा हथिया लेता। जिसे मुम्बई भेजकर एटीएम का क्लोन बनाकर मंगवाते और फिर खाते से राशि निकाल लेते। आरोपियों से कई वारदातें खुलने की संभावना है।


तांत्रिक ने किया नाबालिग से दुष्कर्म का प्रयास

सदर बाजार थानाधिकारी डॉ. गौतम डोटासरा ने बताया कि उम्मेद चौक निवासी हरिप्रकाश दर्जी के बैंक खाते से गत 29 मार्च को अस्सी हजार रुपए निकाल लिए गए थे। यह राशि नई सड़क पर एटीएम से निकाली गई थी। जबकि एटीएम कार्ड हरि के पास ही था। वह तुरन्त एटीएम पहुंचा और खाते में शेष 70 हजार रुपए अन्य खाते में स्थानान्तरित करवाए थे। इस संबंध में 5 अप्रेल को मामला दर्ज किया गया। इस बीच, गत दिनों पाली में एटीएम कार्ड का क्लोन बनाकर ठगी करने का गिरोह पकड़ा गया। पूछताछ में हरिप्रकाश व महामंदिर थाना की वारदातें करना भी सामने आया।


ससुराल जा रहा युवक नहर में डूबा

तब पुलिस का एक दल पाली पहुंचा व मूलत: नाइजीरिया हाल मुम्बई निवासी ओलेन रिवाजू ओला बाबा व महामंदिर की दूसरी पोल शक्ति नगर निवासी जितेन्द्र सोनी पुत्र श्यामलाल को प्रोडक्शन वारंट पर गिरफ्तार कर जोधपुर लाए, जहां कोर्ट ने दोनों को दो-दो रिमांड पर भेजने के आदेश दिए। सदर कोतवाली थानाधिकारी इन्द्र सिंह जांच कर रहे हैं।


जोधपुर के इस होटल के कमरों में हो रहा था शर्मनाक काम, शामिल थे स्टूडेंट और टीचर

यह है मामला

हरिप्रकाश गत 29 मार्च को खाते में सत्तर हजार रुपए जमा कराने के लिए नई सड़क स्थित एटीएम गया था, लेकिन उसका कार्ड स्वैप नहीं हुआ। ठीक पीछे खड़े जितेन्द्र ने कहा कि वह उसका कार्ड स्वैप कर सकता है। उसने हरि से कार्ड लिया और स्वैप कर दिया। तब हरि ने पासवर्ड दबाकर राशि जमा करवा दी। वह एटीएम से लौट गया। रात साढ़े ग्यारह बजे नई सड़क वाले एटीएम से ही चालीस हजार रुपए निकाल लिए गए व दूसरे लेन-देन में चालीस हजार रुपए किसी अन्य के खाते में स्थानान्तरित करवा लिए गए थे। वह तुरंत एटीएम भी पहुंचा, लेकिन वहां कोई नहीं मिला था।


अकेले रह रहे विश्वविद्यालय के कर्मचारी ने उठाया ये कदम, जानिए जोधपुर के किन हादसों ने दहलाया

एेसे चुराते डाटा, बनकर आता क्लोन

उप निरीक्षक भगाराम ने बताया कि कार्ड स्वैप होने पर हरि ने राशि जमा की तो पास खड़े जितेन्द्र ने पासवर्ड भी देख लिए थे। जितेंद्र के हाथ में एक सूक्ष्म मशीन थी। स्वैप करने के लिए एटीएम कार्ड लेने के बाद उसने हरि के एटीएम से डाटा उस मशीन में ले लिए थे। जिसे उसने तुरन्त मुम्बई में मौजूद नाइजीरियन ओलेन को भेज दिए। उसने डाटा से एटीएम का क्लोन बनाया और जोधपुर में जितेन्द्र के पास भिजवा दिया था। पासवर्ड के बारे में उसे पहले से जानकारी थी। जिसकी मदद से उसने रात को अस्सी हजार रुपए निकाल लिए थे। क्लोन बनाने के लिए नाइजीरियाई युवक ने साढ़े चार हजार रुपए लिए थे।

rajasthanpatrika.com

Bollywood