Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

जोधपुर का नाम आते ही मुख्यमंत्री कुर्सी से उछल जाती होंगी: पूर्व मुख्यमंत्री गहलोत

Patrika news network Posted: 2017-07-13 15:43:41 IST Updated: 2017-07-13 15:43:41 IST
  • जोधपुर में कल किसान रैली के दौरान कांग्रेसी कार्यकर्ताओं पर पुलिस की ओर से लााठीचार्ज के विरोध में आज कांग्रेसी नेताओं ने पत्रकार वार्ता की। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि सरकार ने शांति पूर्ण विरोध कर रहे किसानों व कार्यकर्ताओं पर धारा लगाकर उनके साथ अन्याय किया है।

जोधपुर.

जोधपुर में कल किसान रैली के दौरान कांग्रेसी कार्यकर्ताओं पर पुलिस की ओर से लााठीचार्ज के विरोध में आज कांग्रेसी नेताओं ने पत्रकार वार्ता की। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि सरकार ने शांति पूर्ण विरोध कर रहे किसानों व कार्यकर्ताओं पर धारा लगाकर उनके साथ अन्याय किया है। वहीं भोपालगढ़ में इसके विरोध में कस्बा बंद रखा गया और कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने स्थानीय बस स्टैंड पर टायर जलाकर एवं सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन किया। अशोक गहलोत ने वार्ता के दौरान चुटकी लेते हुए कहा कि मुख्यमंत्री तो जोधपुर का नाम सुनते ही कुर्सी से उछल जाती होंगी। राजेंद्र सोलंकी के पक्ष में बोलते हुए उन्होंने कहा कि विकास करने वालों को तो छ: महीने मेरी मदद करने के लिए गुजरात भेज दिया है।


READ MORE- जोधपुर: किसानों के समर्थन में रैली निकाल रही कांग्रेस ने किया पथराव, पुलिस लाठीचार्ज में कई घायल

युवक कांग्रेस की किसान अधिकार पदयात्रा पर बुधवार को हुए लाठीचार्ज को पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक षडयंत्र और राज्य सरकार के इशारे पर हुई कार्रवाई बताया। पत्रिका की खबर का हवाला देते हुए गहलोत ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि पत्थर किसके हाथों में थे, पुलिस वालों के हाथों में। उन्होंने कहा कि बुधवार के घटनाक्रम में लाठीचार्ज की नौबत क्यों आई, इसे लेकर वे मुख्यमंत्री से जांच की मांग करेंगे। उन्होंने पुलिस पर सवाल उठाए कि क्या युवक कांग्रेस कार्यकर्ता हथियार लेकर प्रदर्शन कर रहे थे। यदि विरोधाभास हुआ तो यह लाठीचार्ज कलक्ट्रेट पर ही होता, लेकिन पुलिस ने पावटा तक घेरकर और भाग-भागकर कार्यकर्ताओं को पीटा, यह कौनसा लाठीचार्ज हुआ। कार्यकर्ता कोई लाठी खाने तो निकला नहीं था। यदि ऐसा होता तो एक तरफ लाठियां होती और दूसरी तरफ पत्थर होते या दोनों तरफ पत्थर होते।


READ MORE- उधर सांवराद में कफ्र्यू, इधर जोधपुर में रैली को पुलिस ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

गहलोत ने कहा कि यह पूरी घटना षडय़ंत्र थी, जो सरकार के इशारे पर हुई। प्रदर्शन पूरे देश में होते हैं और कई बार कार्यकर्ता बेरीकेटिंग पार करने की कोशिश करते हैं। उस समय पुलिस की ड्यूटी होती है कि वह रिक्वेस्ट करें और नहीं माने तो उन्हें जबरदस्ती बस में भरकर ले जाए। लेकिन कल की घटना पूरी तरह एक षडय़ंत्र थी। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood