Breaking News
  • बूंदी: नमाना क्षेत्र में 10 साल के बच्चे की संदिग्ध अवस्था में मौत
  • हनुमानगढ:दो पेट्रोल पंप पर आयकर सर्वे, एक ने सरेंडर किए 10 लाख
  • जयपुर : गणगौर पर जयपुर शहर में आधा दिन का अवकाश, राज्य सरकार के सभी कार्यालय दोपहर डेढ़ बजे तक खुलेंगे
  • उदयपुर: फतहसागर में कूदी युवती का देर रात तक नहीं चला पता
  • राजस्थान विश्वविद्यालय की बीएससी द्वितीय वर्ष के फिजिकल केमेस्ट्री की निरस्त परीक्षा अब 30 मार्च को होगी
  • जयपुर : चित्रकूट कॉलोनी में जुआ खेलते 13 गिरफ्तार, 38970 रुपए और 8 वाहन जब्त
  • उदयपुर: फर्जी कंडक्टर को पकड़ा,अभिरक्षा में भेजा
  • जैसलमेर : पोकरण में आयकर विभाग की कार्रवाई, दस्तावेजों की जांच में जुटी है टीम
  • भरतपुर: कुबेर में मरीज को दिखाने अस्पताल आए व्यक्ति की बाइक हुई चोरी
  • भीलवाड़ा: करेड़ा कस्बे में फिर बढ़ाई धारा 144, अब 4 अप्रेल तक रहेगी लागू
  • नागौर: कांकरिया पम्प हाउस के विद्युत कनेक्शन में फॉल्ट, आधे शहर में 3 दिन से पेयजलापूर्ति बाधित
  • जोधपुर: मार्च लेखाबंदी के कारण आज से जीरा मंडी में नहीं होगा व्यापार
  • सीकर:खातीवास में पैंथर की सूचना से इलाके में दहशत
  • जयपुर-एसओजी ने गलता गेट स्थित गोदाम पर छापा, पकड़ा भारी मात्रा में विस्फोटक
  • जोधपुर- हाईकोर्ट ने किए तीस न्यायिक अधिकारियों के तबादले
  • बीकानेर- दो साल से कर रहे थे दुष्कर्म, निजी स्कूल के आठ शिक्षकों पर मामला दर्ज
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

इस शहर में सक्रिय है यह खतरनाक गैंग

Patrika news network Posted: 2017-03-21 08:51:55 IST Updated: 2017-03-21 08:53:12 IST
इस शहर में सक्रिय है यह खतरनाक गैंग
  • जोधपुर शहर में लॉरेंस गैंग सक्रिय है। डॉक्टर व टै्रवल एजेंसी मालिक के घर पर फायरिंग व मर्सिडीज जलाने के मामले में गैंगस्टर कैलाश मांजू बोला- मेरा कोई लेना-देना नहीं है। इस सम्बंध में कैलाश मांजू ने वीडियो जारी किया है। पुलिस कमिश्नर व चौपासनी हाउसिंंग बोर्ड थानाधिकारी पर आरोप लगाए हैं।

जोधपुर

चिकित्सक सुनील चाण्डक व ट्रैवल्स मालिक मनीष जैन के मकान पर फायरिंग व मर्सिडीज को आग लगाने के कारणों व गुर्गों का अभी तक पता नहीं लग पाया है, लेकिन पुलिस यह जरूर मान रही है कि जोधपुर में पंजाब की लॉरेंस विश्नोई गैंग सक्रिय होने लगी है। 

पुलिस का दल उससे पूछताछ करने पंजाब भी जा सकता है। इधर, कैलाश मांजू ने वीडियो वायरल करते हुए इस प्रकरण में खुद को निर्दोष बताया है। सूत्रों की मानें तो कुख्यात अपराधी लॉरेंस विश्नोई वर्तमान में पंजाब की फरीदकोट जेल में बंद है। 

मारने के लिए सुपारी ली थी

उसने जैन ट्रैवल्स संचालक मनीष जैन को मारने के लिए सुपारी ली थी। लॉरेंस से कुछ साथी सचिन, भावेश, आरजू व प्रवीण जोधपुर सेंट्रल जेल में बंद हैं। पुलिस को संदेह है कि फायरिंग की घटना के तार पंजाब से जोधपुर जेल तक जुड़े हुए हो सकते हैं। सेंट्रल जेल प्रशासन से पुलिस ने इनके बारे में जानकारी मांगी है। पुलिस लॉरेंस व उसके साथियों की कॉल डिटेल खंगाल रही है।

पंजाब की गैंग से खलबली

अब तक पुलिस को यह भनक नहीं थी कि पंजाब का कुख्यात अपराधी लॉरेंस विश्नोई की गैंग जोधपुर में सक्रिय हो चुकी है, लेकिन इस वारदात में उसका नाम आने व प्रारंभिक स्तर पर जांच के खुलासे के बाद पुलिस भी मानने लगी है कि लॉरेंस गैंग इसमें लिप्त है। इससे पुलिस में भी खलबली मची हुई है। 

फेसबुक पर भी सक्रिय

संदेह है कि लॉरेंस व साथियों ने सोपू नाम से स्टूडेंट ऑर्गेनाइजेशन ऑफ पंजाब विश्वविद्यालय संगठन बना रखा है। यह संगठन फेसबुक पर भी सक्रिय है। संगठन के युवा अवैध वसूली का काम करते हैं। इसमें जोधपुर के भी कई युवा जुड़े हुए हैं। पुलिस इसकी पड़ताल भी कर रही है। सोशल मीडिया पर इसकी गतिविधियों पर पुलिस की नजर है।

वीडियो फुटेज से मिल रहा है हुलिया

गत दिनों जैन ट्रैवल्स कार्यालय पर जो युवक बंदूक लेकर घूमता हुआ सीसीटीवी में कैद हुआ, उसकी शक्ल व जेल में बंद लॉरेंस के साथियों से गत दिनों जेल में मिलने पहुंचे एक शख्स की शक्ल मिल रही है। इस कारण पुलिस को संदेह है कि इसके तार जेल से भी जुड़े हुए हो सकते हैं।

मांजू ने यह कहा वीडियो में

लगातार पुलिस की गिरफ्त से दूर कैलाश मांजू ने सोमवार को दो वीडियो वायरल किए। इसमें उसने पुलिस कमिश्नर और चौपासनी हाउसिंग बोर्ड थानाधिकारी पर रुपए नहीं देने के कारण जबरन मामलों में नाम घसीटने का आरोप लगाया। मांजू ने कहा कि फायरिंग प्रकरण से उसका कोई लेना-देना नहीं है। ट्रैवल्स संचालक जैन उसका मित्र है। इस नाते जैन के कहने पर उस नम्बर पर कॉल किया, जिस नम्बर से जैन को धमकाने का कॉल आया। इस पर पता चला कि कॉल करने वाला लॉरेंस विश्नोई है।उसने लॉरेंस को जैन से दूर रहने की बात कही। 

घसीटने का प्रयास किया जा रहा

साथ ही आरोप लगाया कि गत दिनों पुलिस कमिश्नर के लिए चौपासनी हाउसिंग बोर्ड थानाधिकारी जब्बरसिंह ने उससे 25 लाख रुपए मांगे, यह रकम नहीं देने के कारण हर प्रकरण में उसे घसीटने का प्रयास किया जा रहा है। तत्कालीन चौपासनी हाउसिंग बोर्ड थानाधिकारी चंद्रप्रकाश ने कमिश्नर के कहने पर उसे झूठा नहीं फंसाया, इस कारण तत्कालीन थानाधिकारी को हटा दिया था।

हर पहलू से कर रहे हैं जांच

फायरिंग मामले में अभी तक कोई सफलता नहीं मिली है। हर पहलू से जांच की जा रही है। काफी गोपनीय तरीके से साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं। उम्मीद है कि शीघ्र ही पूरे मामले का पर्दाफाश कर देंगे।

- समीरकुमार सिंह, पुलिस उपायुक्त (पश्चिम) जोधपुर


rajasthanpatrika.com

Bollywood