Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

जोधपुर का ऑटोमोबाइल फर्नीचर गोरों के बीच हो रहा हिट, यूरोप में बढ़ी डिमांड

Patrika news network Posted: 2017-06-18 19:29:11 IST Updated: 2017-06-18 19:29:11 IST
जोधपुर का ऑटोमोबाइल फर्नीचर गोरों के बीच हो रहा हिट, यूरोप में बढ़ी डिमांड
  • वक्त के साथ पुरानी या हैरिटेज गाडि़यों का दौर भले ही समाप्त हो गया हो, लेकिन आज भी इनका क्रेज बना हुआ है। जोधपुरी हैण्डीक्राफ्ट में लकड़ी व लोहे के अलावा आजकल ऑटोमोबाइल फर्नीचर बायर्स की पहली पसंन्द बनता जा रहा है।

जोधपुर

वक्त के साथ पुरानी या हैरिटेज गाडि़यों का दौर भले ही समाप्त हो गया हो, लेकिन आज भी इनका क्रेज बना हुआ है। अब इनका उपयोग हैण्डीक्राफ्ट फर्नीचर में किया जा रहा है, जिनकी अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर बहुत डिमाण्ड है। जोधपुरी हैण्डीक्राफ्ट में लकड़ी व लोहे के अलावा आजकल ऑटोमोबाइल फर्नीचर बायर्स की पहली पसंन्द बनता जा रहा है। पुरानी हो चुकी गाडि़यों के पुर्जों को फर्नीचर में उपयोग करके जोधपुर के इनोवेटिव निर्यातकों ने हैण्डीक्राफ्ट में एक नई रेंज विकसित कर दी है, जिनकी आज विदेशों में बहुत डिमांड है। यूरोप इस फ र्नीचर रेंज का सबसे बड़ा खरीदार है। जोधपुर से ऑटोमोबाइल फर्नीचर जर्मनी, फ्रांस, स्पेन व अमरीका में निर्यात किया जाता है ।


जोधुपर के इस हाई-वे पर विकास के नाम पर हजार पेड़ों की बलि, करोड़ों खर्च कर लगाए पौधे भी नहीं बचे!

जोधपुर के फेयर में हुई शुरुआत


ऑटोमोबाइल फर्नीचर की शुरुआत सबसे पहले वर्ष 2010 में जोधपुर में आयोजित प्रथम इंटरनेशनल फेयर इंडियन हैण्डीक्राफ्ट एण्ड एक्ससरीज शो में हुई। फेयर में पुरानी विन्टेज कारों की बॉडी का उपयोग करके फर्नीचर की डिजाइन विकसित की गई, जो उस फेयर में सभी ग्राहकों के लिए एक आकर्षण का केन्द्र बनी हुई थी। बाद में यहां के निर्यातकों ने स्कूटर, टै्रक्टर, ट्रक, मोटरसाइकिल आदि के ऑटोमोबाइल फर्नीचर की रेंज विकसित की, जिसका विदेशी ग्राहकों में बहुत क्रेज हैं।


आर्थिक रूप से कमजोर छात्राओं को जोधपुर में यहां मिलेगी हॉस्टल की सुविधा

इनका कहना है

ऑटोमोबाइल श्रृंखला के फर्नीचर तैयार करने के लिए बहुत मेहनत व दक्षता की जरूरत होती है। पहले पुरानी गाडि़यों के कबाड़ डीलर्स के यहां चक्कर काटकर काम में आने बाली गाड़ी सलेक्ट करते हैं, फिर उसे फैक्ट्री में तैयार कर फिनीशिंग के साथ फर्नीचर का रूप देते है। ऑटोमोबाइल फ र्नीचर की डिमांड विदेशो के अलावा रेस्टोरेन्ट व फॉर्म हाउस में अधिक होती है।

मनीष पुरोहित, ऑटोमोबाइल फर्नीचर निर्यातक

जोधपुर में निरंकारी मंडल के समागम में बाल कव्वालों ने यूं जीता दिल, देखें दिलकश पेशकश

पुराने खटारा और खराब हो चुके वाहनों के पुर्जो के साथ ऐसे पुर्जे व उपकरण जो वाहन में किसी प्रकार से प्रयोग नहीं किए जा सकते, उन सभी को मिलाकर फर्नीचर तैयार किया जाता है। टै्रक्टर की टूटी हुई पुरानी सीट को मिलाकर घूमने वाली कुर्सी तैयार की जाती है। टै्रक्टर के बोनट का प्रयोग इस प्रकार किया जाता है कि वह टेबल का काम करता है। इन ऑटोमोबाइल फ र्नीचर पर पहिए लगाए जाते हैं, जिनसे इन फर्नीचर्स को एक जगह से दूसरी जगह शिफ्ट करने में आसानी होती है। ट्रक के इंजन के बाहर लगे बोनट को दुरुस्त करके काउंटर तैयार किया जाता है, इन फर्नीचर्स की विदेशों में बहुत डिमाण्ड है।

डॉ. भरत दिनेश, अध्यक्ष, जोधपुर हैण्डीक्राफ्ट एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन


जोधपुर में यूं फर्जी कॉल्स से ठगे जा रहे लोग, कहीं आप तो नहीं फंस रहे इन कॉल्स में

प्रतिवर्ष बढ़ता जा रहा निर्यात

वर्ष------------ निर्यात करोड़ में

2010-11------- 11

2011-12------- 40

2012-13------- 61

2013-14------- 90

2014-15------- 105

2015-16-------- 136

2016-17-------- 160

rajasthanpatrika.com

Bollywood