Breaking News
  • जयपुरः कांग्रेस विधायक गोविन्द डोटासरा ने कहा, सदन में विपक्ष खोलेगा सरकार के झूठ की पोल
  • भरतपुरः कोटा की घटना के विरोध में सेवानिवृत्त पुलिस कर्मियों ने एसपी को सौंपा ज्ञापन
  • उदयपुरः यूआईटी की बजट बैठक 25 को, होगी विकास की कई बड़ी घोषणाएं
  • जोधपुर: लोहावट डिस्कॉम के कनिष्ठ अभियंता बाबूलाल विश्नोई बर्खास्त, ACB ने 2011 में रिश्वत लेते पकड़ा था
  • खेतड़ी(झुंझुनूं)- छात्रसंघ कार्यालय उद्घाटन विवाद, छात्रसंघ अध्यक्ष महेन्द्र गुर्जर ने कॉलेज के गेट पर शुरू किया धरना
  • कोटा: VMOU में छपाई सामग्री में अनियमितता का मामला, एसीबी की टीम ने खंगाले रिकार्ड
  • दौसा- अनशन स्थल पर ही सात फेरे लेगा अनशनकारी, सिंकदरा में आठ ​दिन से चल रहा है अनशन, एसबीसी चयनित अभ्यर्थियों की नियुक्ति का मामला
  • श्रीगंगानगर- नकली दवाइयां बेचने के दोषी को 9 साल का कठोर कारावास, 90 हजार का जुर्माना
  • टोंक: कोटा में विधायक-पुलिस विवाद, जाट समाज के युवा उतरे पुलिस के समर्थन में, कलक्टर को सौंपा ज्ञापन
  • जयपुर- बस्सी में पीएचईडी कार्यालय पर एसीबी का छापा
  • हनुमानगढ़- भादरा के चक 9 एमआरएस में युवक का शव मिला, हत्या की आशंका
  • बूंदी- चंबल की नहरों में पानी की मांग को लेकर देईखेड़ा में किसानों का प्रदर्शन
  • जयपुरः हाई प्रोफाइल ब्लैकमेलिंग मामले मे एसओजी ने पांच आरोपितों के खिलाफ पेश किया दूसरा चालान
  • बूंदीः देई क्षेत्र में रात 10 बजे बाद भी बज रहे डीजे के विरोध में छात्रों का प्रदर्शन
  • भीलवाड़ा: दवाइयों से भरा ट्रक खड्डे में गिरा, एनएच सत्तूर के निकट हुआ हादसा
  • चित्तौड़गढ़- कनौज में पैंथर ने किया दो बकरियों का शिकार, एक महीने में तीसरी घटना
  • भीलवाड़ाः मांडल में एसबीबीजे के बाहर से रुपए भरा बेग लेकर भागते बाल अपचारी को ग्रामीणों ने दबोचा
  • डूंगरपुर- आरा मोड़ पर जीप पलटी, तीन घायल
  • जयपुर- बगरु पुलिया के पास चार वाहन भिड़े, तीन लोग घायल
  • पुष्करः आज आएंगे इटली के राजदूत अंजोलोनी, महाशिवरात्रि पर करेंगे पुष्कर सरोवर की पूजा अर्चना
  • केंद्रीय वाणिज्य मंत्री निर्मला सीतारमण का जयपुर आगमन 27 को, इंडिया-सीएलएमवी बिजनेस कॉन्क्लेव में करेंगी शिरकत
  • जैसलमेर: चार हजार रुपए के लिए मौसा की हत्या करने वाला गिरफ्तार
  • बूंदी- गोठड़ा में गैस भभकने से महिला झुलसी, कोटा रैफर
  • जयपुर- गोविंदगढ़ में विवाहिता ने लगाई फांसी, सीएससी में रखवाया शव
  • डींग-सड़क दुर्घटना में बाइक सवार तीन घायल, नरायना कटता के पास हादसा
  • टोंक- सेदरिया गांव में पांच घरों में लगी आग
  • सवाईमाधोपुर- राज बाग कच्ची बस्ती में घरेलू सिलेंडर में लगी आग, दमकल ने आग पर पाया काबू
  • भरतपुर- कामा क्षेत्र में ट्रैक्टर चपेट में आने से बाइक सवार घायल, अस्पताल में भर्ती
  • बीकानेर: पलाना के पास बस पलटी, 15 घायल
  • जोधपुर: किशोर बाग के पास बस ऑपरेटरों में झगड़ा, रूट को लेकर विवाद
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

यह पत्थर है मेहरानगढ़ और उम्मेद भवन की शान, सालों बरकरार रहती है जोधपुर के छीतर की मजबूती और चमक

Patrika news network Posted: 2017-02-16 00:41:24 IST Updated: 2017-02-16 00:41:24 IST
यह पत्थर है मेहरानगढ़ और उम्मेद भवन की शान, सालों बरकरार रहती है जोधपुर के छीतर की मजबूती और चमक
  • जोधपुर के छीतर पत्थर की खासियत है कि यह सदियों बाद भी नया लगता है। इसका उदाहरण है 558 साल पुराना जोधपुर का मेहरानगढ़ फोर्ट जो आज भी जस का तस है।

जोधपुर

कहावत है कि जोधपुर की दो ही चीजें प्रसिद्ध हैं छीतर के खंडे और खावन गंडे। इसका अर्थ है छीतर का पत्थर अपनी अनूठी खासियत के कारण प्रसिद्ध है और दूसरा यहां लजीज खाने-पीने के शौकीन बड़ी संख्या में है। जोधपुर के छीतर पत्थर की खासियत है कि यह सदियों बाद भी नया लगता है। इसका उदाहरण है 558 साल पुराना जोधपुर का मेहरानगढ़ फोर्ट जो आज भी जस का तस है।

इसकी गगनचुम्बी और विशालकाय दीवारें सदियों बाद भी नएपन का आभास देती हैं। वहीं उम्मेद भवन में लगा यह पत्थर इस इमारत और शहर की आभा को विश्व में लगातार बढ़ा रहा है। यही वजह है कि छीतर का पत्थर मारवाड़ ही नहीं अपितु देश-विदेश में अपनी पहचान बना रहा है। 

कायल हैं विदेशी पर्यटक

558 सालों के दौरान मेहरानगढ़ ने कितने ही अकाल और कितने ही तूफान देखे। यहां तक कि बाढ़ भी आई, लेकिन छीतर के पत्थरों पर खड़ा यह मेहरानगढ़ आज भी अडिग रूप से खड़ा है। यह छीतर का कमाल है कि हर साल विदेशों से लाखों पर्यटक इसे देखने आते हैं।

 पानी से गलता नहीं, बढ़ जाती है चमक

देश के अन्य पत्थर जहां पानी के कारण गलने लग जाते हैं और पपड़ी बनकर पत्थर निकलने लग जाता है। यहां तक कि पानी से पत्थर काला होने लग जाता है, लेकिन छीतर पत्थर की खासियत है कि यह पानी से गलता नहीं है। यहां तक कि पत्थर की पपड़ी नहीं बनती, बल्कि पानी गिरने से इस पत्थर की चमक और बढ़ जाती है। इसलिए इसे रंगने की आवश्यकता भी नहीं रहती।

वजनी और मजबूत

वहीं अन्य पत्थरों की अपेक्षा यह अधिक वजह सह सकता है। अन्य पत्थरों की अपेक्षा इस पत्थर में ढाई गुणा ज्यादा वजन होता है। इसके चलते इसका लोडिंग और ट्रांसपोर्ट का खर्च ज्यादा आता है।

 

बारीक गढ़ाई के लिए होता है प्रयोग

छीतर के पत्थर का उपयोग मकान की फ्रंट एलिवेशन बनाने में, बारीक गढ़ाई के कार्य में, मकान की छत डालने और मकान की दीवार बनाने में किया जाता है। पुराने समय में इस पत्थर को सीधे ही उपयोग में लिया जाता था, लेकिन आजकल मशीनों के माध्यम से कटिंग करवा कर इसका इस्तेमाल किया जा रहा है। इसलिए मार्बल की तरह अब यह और भी खूबसूरत दिखाई देता है। इसका रंग बादामी है।

फैक्ट फाइल

3500 खानें हैं जोधपुर में छीतर पत्थर की

1200 से 1400 टन माल एवरेज सालाना एक खान से निकलता है

300 से 350 रुपए प्रति घनफुट की दर से बिक रहा है बेहतरीन छीतर पत्थर

80 से 100 रुपए प्रति घनफुट की दर से बिकता है हल्का छीतर पत्थर


सदियों बाद भी नया जैसा

इस पत्थर की खासियत है कि यह सबसे ज्यादा मजबूत है और सदियों बाद भी नया बना रहता है। उम्मेद भवन में लगा भी यह पत्थर ऐसा दिखता है, जैसे आज ही लगाया गया हो। आज भी इस पत्थर की मांग राजस्थान ही नहीं पूरे देश में रहती है। हालांकि वजनी पत्थर होने के कारण ट्रांसपोर्ट में यह महंगा पड़ता है, इसलिए हर कोई इसे नहीं लेता। छीतर का पत्थर कई हेरिटेज इमारतों और सरकारी भवनों की आभा बिखेर रहा है।

-पूनाराम गहलोत, अध्यक्ष, फिदूसर पत्थर उद्योग एवं विक्रेता संघ

rajasthanpatrika.com

Bollywood