Breaking News
  • आईपीएस प्रोबेशनर एस दीपक आत्माराम को बर्खास्त किया गया
  • जम्मू-कश्मीर: अनंतनाग के बिजबेहरा में मंत्री अब्दुल रहमान वीरी की कार पर पत्‍थर फेंके गए
  • सेंसेक्स 172.37 अंकों की बढ़त के साथ 29,409.52 पर बंद, निफ्टी में 55.60 अंकों का उछाल
  • नागौर: अज्ञात वाहन की टक्कर से बाइक पर जा रहे भाई-बहिन घायल, इंदास की सरहद की घटना
  • करौली: करंट लगने से एक की मौत
  • टोंक: टोडारायसिंह में विवाहिता ने फंदा लगा की आत्महत्या
  • कोटा: बोरखेड़ा इलाके में महिला ने फंदा लगा की आत्महत्या
  • चूरू: पिकअप पलटने से एक की मौत, पांच घायल, राजपुरा गांव की घटना
  • जयपुर: कुएं में गिरने से वृद्धा की मौत, गजाधरपुरा गांव की घटना
  • झुंझुनूं: सूरजगढ़ में कुए में गिरने से युवक की मौत, भूडनपुरा गांव की घटना
  • जोधपुर: गगाड़ी गांव की नहर में कूदकर महिला ने की आत्महत्या
  • कोटा: देईखेड़ा गांव में महिला ने विषाक्त खाया, अस्पताल में भर्ती
  • पाली: कार लूट के आरोपी को भेजा जेल,निम्बली में लूटी थी कार
  • टोंक: पिल्लर गिरने से एक जने की मौत, उनियारा की घटना
  • झुंझुनू: दहेज प्रताडना के मामले में आरोपी पति को किया गिरफ्तार, छापौली का मामला
  • झुंझुनू: लोहार्गल में व्यक्ति की जेब से एक लाख रुपए पार
  • ब्रह्माकुमारी संस्थान संयुक्त मुख्य प्रशासिका दादी हृदयमोहिनी को डॉक्टरेट की उपा​धि से नवाजा जाएगा
  • जयपुरः अशोक मार्ग आैर हवा सड़क को १०० फुट किया जाएगा
  • टोंक: ट्रैक्टर-ट्रॉली से कुचलकर बालक की मौत, हिंगोनिया गांव की घटना
  • कोटपूतली के स्टेट बैंक आॅफ पटियाला में लगी आग,पुलिस व दमकल मौके पर पहुंची
  • जयपुरः 22 गोदाम से महेश नगर फाटक तक ४० फुट होगी सड़क
  • जयपुर: महेश नगर फाटक से गोपालपुरा बायपास तक होगी 60 फुट सड़क
  • जयपुर: महेन्द्र सिंह शेखावत बने भाजयुमो के राष्ट्रीय सचिव
  • जयपुर:दौलतपुरा टोल प्लाजा पर एक लाख के सिक्के पकड़े,एक कार जब्त,एक गिरफ्तार
  • बडगाम एनकाउंटर: पत्थरबाजी के दौरान CRPF के 43 और स्थानीय पुलिस के 20 जवान जख्मी
  • चांद नहीं दिखा,अब बुधवार रात को होगी उर्स की पहली महफ़िल
  • आज से शुरू हुआ नव संवत्सर, नवऱात्र पर घर-घर हुई घट स्थापना
  • 4 को रामनवमी का अवकाश होने के कारण हो सकता है उर्स की छुट्टी में परिवर्तन
  • अलवर :खेरली में ट्रेन की चपेट में आने से अध्यापक की मौत
  • सरकार ने गेहूं, तुअर दाल पर 10 प्रतिशत आयात शुल्क लगाया
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

इक्कीसवीं सदी में भी महिलाओं को अधिकारों से वंचित करना सदमे जैसा: हाईकोर्ट

Patrika news network Posted: 2017-03-11 08:03:59 IST Updated: 2017-03-11 08:03:59 IST
इक्कीसवीं सदी में भी महिलाओं को अधिकारों से वंचित करना सदमे जैसा: हाईकोर्ट
  • राजस्थान उच्च न्यायालय ने राज्य सरकार की ओर से महिला अभ्यर्थी को अपने ही नियमों के विपरीत उसके अधिकारों से महरूम करने पर बहुत अफसोस का इजहार किया है। अदालत ने महिला याचिकाकर्ता को एक महीने में नियमानुसार नियुक्ति देने के आदेश दिए हैं।

जोधपुर

राजस्थान हाईकोर्ट ने राज्य सरकार की ओर से एक महिला अभ्यर्थी को अपने ही नियमों के विपरीत जाकर उसके अधिकार से वंचित करने पर कड़ी टिप्पणी करते हुए महिला याचिकाकर्ता को एक माह में नियमानुसार नियुक्ति प्रदान करने के आदेश दिए हैं। 

अधिकार पाने से वंचित होना पड़ेगा !

जस्टिस निर्मलजीत कौर ने महिला दिवस के अवसर पर आदेश पारित करते हुए कहा कि यह सोचते हुए ही सदमा लगता है कि इक्कीसवीं सदी में महिला अभ्यर्थी को उस राज्य में रोजगार का अधिकार पाने से वंचित होना पड़ेगा, जिसमें वह पैदा हुई, पढ़ी, पली और बड़ी हुई। 

अपने राज्य में संपत्ति मिल सकती है

एक ओर तो सरकार ने पिता की संपत्ति में बेटियों को भी बराबरी का हकदार माना है यानी उस महिला को अपने राज्य में संपत्ति तो मिल सकती है, लेकिन उसकी शादी यदि दूसरे राज्य में हो गई तो उसे रोजगार नहीं मिलेगा।

शादी हरियाणा में हुई है

मामले के अनुसार याचिकाकर्ता हनुमानगढ़ निवासी मंजू स्वामी ने टीचर्स ग्रेड तृतीय भर्ती 2012 में ओबीसी महिला वर्ग में आवेदन किया था। उसने परीक्षा के बाद ओबीसी महिला वर्ग के कट ऑफ से अधिक 150.91 अंक प्राप्त किए। उसने भर्ती के लिए 20 अप्रेल 2012 को जारी विज्ञापन के अनुसार अपने पिता के नाम के साथ पैतृक जिले का ओबीसी प्रमाण पत्र भी प्रस्तुत किया, लेकिन तब उससे उसका विवाह प्रमाण पत्र भी मांगा गया। इस पर पता चला कि उसकी शादी हरियाणा में हुई है।

दूसरे राज्य का प्रमाण पत्र नहीं मान सकते

इसे बहाना बनाते हुए सरकार ने उसके पैतृक जिले का प्रमाण पत्र अमान्य करार देते हुए कहा कि वह दूसरे राज्य का प्रमाण पत्र नहीं मान सकते, इसलिए उसे सामान्य व ओबीसी क्रीमिलेयर में मानेंगे। जिसके कट ऑफ ज्यादा है। 

प्रमाण पत्र आदि पेश करने की शर्त

इस पर याचिकाकर्ता के अधिवक्ता यशपाल खिलेरी ने याचिका दायर करते हुए कहा कि सरकार ने खुद अपने विज्ञापन में जारी की गई शर्तों में विवाहित महिला अभ्यर्थियों को अपने पैतृक जिले के प्रमाण पत्र आदि पेश करने की शर्त रखी है। इसके अलावा राज्य सरकार के एक सर्कुलर में भी इसी तरह का नियम बताया गया है। जबकि इन सबके विपरीत जा कर सरकार ने याचिकाकर्ता को उसके अधिकार से वंचित किया है।

rajasthanpatrika.com

Bollywood