Breaking News
  • जोधपुर: बीआरटीएस बसों के लिए बनेंगे १० नए बस शेल्टर
  • जयपुर: एयरपोर्ट पर कस्टम विभाग ने पकड़ा 90 किलो चंदन, एक ​महिला सहित 3 गिरफ्तार
  • जोधपुर: यूडी टैक्स जमा करने के विशेष अभियान में निगम को 76 लाख की आय
  • झुंझुनूं: चूड़ीना(पचेरी)मेले में हुई मारपीट के मामले में दो गिरफ्तार
  • बीकानेर: एसपी मेडिकल काॅलेज में पीजी की 14 सीटें और बढ़ी
  • जयपुर: CCD में कॉकरोच का वीडियो बनाने वाले युवक पर स्टाफ से छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज
  • धौलपुर: जारोली गांव में जमीन विवाद के मामले में फायरिंग, 2 लोग घायल
  • डूंगरपुर: हाइवे पर कार गड्ढे में गिरी, 4 लोग घायल
  • करौली: कुड़गांव के सेमरदा गांव के घर में आग लगने से 92 हजार रुपए नकद जले
  • करौली: मासलपुर कस ताली गांव में 11 केवी की लाइन टूटने से लगी आग, 3 खेतों में गेहूं की फसल जली
  • जोधपुर: ट्रेनों में अतिरिक्त कोच की अवधि 30 अप्रेल तक बढ़ाई
  • जोधपुर: मेडिकल कॉलेज में हुआ 87वां देहदान, सरस्वती नगर निवासी मूलचंद भट्टी का आज किया देहदान
  • बांसवाड़ा: नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी को दस साल कठोर कारावास की सजा
  • चूरू: सुजानगढ़ में रेलवे गेट के बीच फंसा ट्रक, ट्रक चालक गिरफ्तार और ट्रक जब्त
  • जयपुर: CCD में कॉकरोच का वीडियो बनाने वाले युवक पर स्टाफ से छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज
  • टूटा दस साल का रिकॉर्ड, जयपुर का तापमान 41.4 डिग्री पर
  • हनुमानगढ़: टिब्बी तहसील में करीब दो साल पहले हुए दोहरे हत्याकांड के आरोपी विजय पूनिया को जेल, मुख्य आरोपी विनोद पूनिया अभी तक फरार
  • जैसलमेर: सदर पुलिस थाना ने कई साल से फरार स्थाई वारंटी को किया गिरफ्तार
  • सादुलपुर: गणगौर मेले में उमड़ी भीड़, तीन महिलाओ की अज्ञात चोरों ने तोड़ी सोने की चेन
  • BS-3 वाहनों पर बैन से खरीददारों की मौज, बाइक-स्कूटी पर 22 हजार तक की छूट
  • देशभर में गर्मी ने किया लोगों का बुरा हाल, मार्च में ही बरसने लगी आसमान से आग
  • पाली और जोधपुर में केंद्रीय विद्यालय को स्वीकृति,केंद्रीय विद्यालय संगठन ने जारी की
  • पाली और जोधपुर जिले में केंद्रीय विद्यालय को मिली स्वीकृति
  • मेडिकल कॉलेज के लिए सीकर में एमसीआई की टीम, भवन व एसके अस्पताल का निरीक्षण
  • जयपुर: दौलतपुरा टोल प्लाजा पर 2 लाख 16 हजार रुपए के पुराने नोट पकड़े, 3 गिरफ्तार, कार जब्त
  • सवाईमाधोपुर:सिलेण्डर चोर गिरोह से 21 सिलेण्डर, 3-4 लाख का इलेक्ट्रॉनिक सामान बरामद
  • बांसवाडा: तलवार दिखाकर मोबाइल व पर्स लूटने के मामले में मुख्य आरो​पी सहित दो गिरफ्तार
  • बांसवाडा:बिल्डर ने वृद्धा का हाथ तोड़ा, बेटे का सिर फोड़ा, फ्लेट के कब्जे का मामला
  • भीलवाडा : सुभाषनगर थाना क्षेत्र में चेन लूट की दो वारदात
  • अजमेर: स्मेक के साथ तस्कर मोहम्मद अली गिफ्तार, 600 ग्राम स्मेक की बरामद
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

भूमिपुत्रों ने गेहूं बिसराया-चना मन भाया

Patrika news network Posted: 2016-12-01 00:57:06 IST Updated: 2016-12-01 00:57:06 IST
भूमिपुत्रों ने गेहूं बिसराया-चना मन भाया
  • भूमिपुत्र अब गेहूं की बुवाई से मुंह मोडऩे लगे है, अब इससे अधिक मुनाफा कमाने की चाह कहे या परिस्थितियां लेकिन यह सच्चाई है कि किसान अधिक मुनाफा देने वाली चना, सरसों, जीरा, इसबगोल जैसी फसलों को ज्यादा तरजीह दे रहे है।

बिलाड़ा/जोधपुर

भूमिपुत्र अब गेहूं की बुवाई से मुंह मोडऩे लगे है, अब इससे अधिक मुनाफा कमाने की चाह कहे या परिस्थितियां लेकिन यह सच्चाई है कि किसान अधिक मुनाफा देने वाली चना, सरसों, जीरा, इसबगोल जैसी फसलों को ज्यादा तरजीह दे रहे है। जो आने वाले दिनों में  गेहूं के भावों में तेजी ला सकती है। यह हकीकत केवल जोधपुर जिले की ही नहीं संभागभर के जिलों की भी स्थिति बयां कर रही है।

रबी फसल बुवाई के आंकड़ों के अध्ययन पर किसानों के मन की बात साफ नजर आ जाती है, कृषि विभाग की ओर से उपलब्ध करवाए रबी 2016 -17 बुवाई के आंकड़े काश्तकार की मनोस्थिति को जानने के लिए पर्याप्त है। किसानों की ओर से अब अनाज उत्पादन की बजाय जिन फसलों से अधिक मुनाफा हो सकता है और वर्तमान में जिनके बाजार अच्छे है, किसान उनकी बुवाई अधिक कर रहे है। गेहंू जहां औसतन 2000 रुपए प्रति क्विंटल है, वहीं चना 10 हजार रुपए प्रति क्विंटल है।

किसानों का मानना है कि गेहूं-जौ तो खरीदकर भी काम चलाया जा सकता है, लेकिन उपलब्ध जमीन में अधिक मुनाफे वाली फसलें चना, तारामीरा, सरसों, जीरा की बुवाई की जाए तो उनकी आर्थिक समृद्धि तेजी से बढ़ सकती है। जोधपुर जिले में (कृषि विभाग के अनुसार) रबी बुवाई का लक्ष्य कुल 4 लाख 5 सौ हैक्टयर था, मगर अब तक 2 लाख 10 हजार हेक्टयर में ही बुवाई हुई है।

रबी बुवाई (हेक्टेयर में)

फसल- लक्ष्य- बुवाई, प्रतिशत

गेहूं 6 0000-27000- 45

जौ  1000-630-63

चना 10000-18000-180

सरसों 1 लाख 22 हजार-1 लाख 10 हजार-90

तारामीरा 30000-35000-116

फसलों के वर्तमान बाजार भाव

गेहूं  2000 से 3000

जौ 1500 से 16 00

चना 10100 से 11500

सरसों 4600 से 4900

तारामीरा 4000 से 4100

इनका कहना है

अक्टूबर माह में बारिश एवं इस दौरान चना के बाजार भावों में उछाल के चलते चना की बुवाई अधिक हुई है। गेहूं  की बुवाई अंतिम दौर में है लेकिन यह सही है कि किसानों में गेहूं  के बजाय अधिक मुनाफा देने वाली फसलों की रुख किया है।

- वी.एस. सोलंकी, कृषि उप निदेशक, जोधपुर।

rajasthanpatrika.com

Bollywood