Breaking News
  • करौली: ट्रक ने बुजुर्ग को कुचला, मौके पर ही मौत, सड़क पार कर डीजल लेने जा रहे थे बुजुर्ग
  • श्रीगंगानगर: हड्डा रोडी के मामले में हाईकोर्ट में सुनवाई आज
  • भरतपुर: सेवर थाने के बहनेरा गांव के पास ट्रक ने कार में मारी टक्कर, कार सवार की मौत, एक घायल
  • बीकानेर- गंगाशहर के उदयरामसर गांव में एक व्यक्ति ने फांसी लगाकर जान दी
  • चित्तौड़गढ़: विद्युत निगम के एईएन के घर चोरी, हजारों का सामान ले उड़े चोर
  • अलवर : बहरोड में NH-8 पर अज्ञात बदमाशों ने लाखों रुपए के सामान से भरी गाड़ी लूटी
  • कोटा: स्वाइन फ्लू को लेकर आज भी घरों में सर्वे
  • धौलपुर- पिकअप और टैम्पो में भिड़ंत, तीन की मौत, एनएच 11 पर सरमथुरा के पास हादसा
  • जोधपुर: लोहावट पुलिस ने चोरी के मामले में एक व्यक्ति को किया गिरफ्तार
  • जयपुर: शाहपुरा में 7 मार्च के गोलीकांड में घायल युवक की मौत, बाजार बंद, लोग आक्रोशित
  • श्रीगंगानगर: कांग्रेस कमेटी की ओर से किसानों की विभिन्न मांगों को लेकर कलेक्ट्रेट के समक्ष प्रदर्शन
  • भरतपुर: पुलिस लाइन में कांस्टेबल और हेड कांस्टेबल के पद के लिए परीक्षा
  • जयपुर- शाहपुरा में गोलीकांड में व्यापारी की मौत के बाद व्यापारियों ने करवाया बाजार बंद
  • भीलवाड़ा: खेत में खड़ी फसल से अफीम के डोडे चोरी
  • प्रतापगढ़: पानमोड़ी गांव के पास हादसे में युवक की मौत
  • जयपुर- भाजपा महिला मोर्चा अध्यक्ष आज जाएंगी महारानी कॉलेज, हॉस्टल की छात्राओं से करेंगी काउंसलिंग
  • जयपुर- अवैध शराब की ब्रिक्री करते जवाहर नगर पुलिस ने एक महिला को पकड़ा
  • जोधपुर: बालेसर कस्बे में 2 महिलाओं ने एक घर में अकेली महिला को नशीला पदार्थ सुंघाकर सोने के आभूषण लूटे, महिलाओं का सीसीटीवी फुटेज किया जारी
  • जयपुर- मुरलीपुरा पुलिस ने दो वाहन चोर पकडे, सात बाइक बरामद
  • बीकानेर: खाजूवाला इलाके में 13 साल की बच्ची से दुष्कर्म का मामला, सौतेली मां और एक अन्य पर आरोप
  • बीकानेर- जूनागढ़ किले की खाई में लगी आग, कोई जनहानि की सूचना नहीं
  • सवाईमाधोपुर: निजी भूमि पर सरकारी बोरवेल लगाने के मामले सरसोप की पूर्व सरपंच समेत 3 गिरफ्तार
  • सवाईमाधोपुर के सरसोप गांव की पूर्व सरपंच और तत्कालीन सचिव समेत दो अन्य गिरफ्तार, निजी भूमि पर सरकारी बोरवेल लगाने का मामला
  • भरतपुर: कामां कस्बे की बिजली व्यवस्था ठप, 4 दिन से चल रही समस्या, लोग परेशान
  • सीकर- बढ़ाढर के पास पलटी बस, एक दर्जन से अधिक यात्री घायल
  • जयपुर- जैतपुरा में एईएन व तकनीकी कर्मचारियों में नोकझोंक, एईएन को निलंबित करने की मांग
  • कोटपूतली- शराब से भरा ट्रक पकड़ा, तीन गिरफ्तार
  • जयपुर- राजस्थान कच्ची बस्ती महासंघ का ज्योति नगर टी पॉइंट पर विरोध प्रदर्शन
  • जोधपुर: शॉर्ट सर्किट की वजह से उत्कर्ष प्लाजा में लगी आग, दमकल ने आग पर पाया काबू
  • बूंदी- नैनवां में युवक छत से गिरा युवक, मौत
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

इस प्रशिक्षक ने एेसा क्या किया कि दिव्यांग बच्चों की कमी ही बन गई उनकी ताकत

Patrika news network Posted: 2017-03-02 00:20:29 IST Updated: 2017-03-02 00:20:29 IST
इस प्रशिक्षक ने एेसा क्या किया कि दिव्यांग बच्चों की कमी ही बन गई उनकी ताकत
  • कोई सुन नहीं सकता, तो कोई बोल नहीं सकता। कोई देख नहीं सकता, तो कोई ठीक चल भी नहीं सकता। इनमें कई मंदबुद्धि वाले भी हैं।

जोधपुर

कोई सुन नहीं सकता, तो कोई बोल नहीं सकता। कोई देख नहीं सकता, तो कोई ठीक चल भी नहीं सकता। इनमें कई मंदबुद्धि वाले भी हैं। इसके बावजूद इन बच्चों की कमी को ही ताकत बनाने का काम कर रहे हैं कोच महेश कुमार पारीक। वे दिव्यांग बच्चों को विभिन्न खेलों का प्रशिक्षण देकर उनका हौसला बढ़ा रहे हैं और उनको राष्ट्रीय-अन्तरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं के लिए तैयार कर रहे हैं।

बड़े भाई से मिली प्रेरणा

महेश ने बताया कि वर्ष 1996 में एमए अंग्रेजी में करने के बाद ट्यूशन किए। इस दौरान इनके बड़े भाई, जो मानसिक विमंदित व दिव्यांग बच्चों के लिए काम करते थे, ने दिव्यांग बच्चों को प्रशिक्षित करने के लिए प्रेरित किया। इसके बाद इन्होंने इन्हीं विशेष बच्चों के लिए काम करने का निर्णय लिया।


 इसके लिए इन्होंने स्पेशल एजुकेशन का प्रशिक्षण लिया। इसके बाद भोपाल से मानसिक विमंदित बच्चों के प्रशिक्षण के लिए फाउण्डेशन कोर्स किया। वहां उन्होंने श्रवण बाधित, दृष्टि बाधित, शारीरिक दिव्यांग व मानसिक विमंदित बच्चों को खेलों में पारंगत बनाने का प्रशिक्षण लिया।

55 राष्ट्रीय खिलाड़ी तैयार किए

महेश वर्ष 2008 में मानसिक विमंदित बच्चों के विकास के लिए एक केन्द्र से जुड़ गए और बच्चों को प्रशिक्षण देने लगे। इस दौरान, इन्होंने दिव्यांग बच्चों के लिए काम करने वाले राष्ट्रीय संघ स्पेशल ओलंपिक भारत (एसओबी) से जुडऩे के लिए मास्टर ट्रेनर का सर्टिफिकेट कोर्स किया और मास्टर ट्रेनर बने। इन 9 सालों में इन्होंने 55 बच्चों को राष्ट्रीय स्तर तक पहुंचाया। साथ ही, दो बच्चों को दिव्यांगों की अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर होने वाली प्रतियोगिता के लिए प्रशिक्षित किया। 


इनमें एक बच्चे को वर्ष 2011 में एथेन्स में आयोजित वल्र्ड समर गेम साइकिलिंग चैम्पियनशिप के लिए प्रशिक्षित किया था। वर्तमान में एक मानसिक मंदबुद्धि बालिका को आस्ट्रेलिया में आयोजित होने वाली वल्र्ड विंटर गेम के लिए तैयार कर रहे हैं।

 प्रतिभा निखारना व तैयार करना ध्येय

महेश ने बताया कि मानसिक विमंदित व दिव्यांग बच्चों की प्रतिभा निखार कर विभिन्न कॉम्पीटिशन के लिए तैयार किया जाता है। इन बच्चों को क्रिकेट के अलावा सभी खेलों का प्रशिक्षण दिया जाता है, और खेल खिलाए जाते हैं। विशेष बच्चों को प्रशिक्षित करने में बहुत धैर्य व संयम की जरूरत होती है। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood