Breaking News
  • अजमेर: रेलवे की परीक्षा आज, प्रदेश में 5 केन्द्रों पर 16 लाख अभ्यार्थी देगें परीक्षा
  • दौसा- लालसोट के सलेमपुरा गांव के पास दो वाहन भिड़े, 3 की मौत की खबर, तीन घायल
  • जयपुर- ब्लैकमेलिंग कांड के आरोपितों नितेश और नवीन की तलाश में गुजरात गई पुलिस टीमेे खाली हाथ लौटी
  • जोधपुर- सुवालिया इलाके में रहने वाली एक महिला ने लगाया गैंग रेप का आरोप, पुलिस ने दर्ज किया मामला
  • जयपुर-चौमूं थाना पुलिस ने हथियार लेकर घूमते दो युवकों को पकड़ा
  • सीकर- रामगढ़ इलाके में बारातियों से भरी बस पलटी, 4 लोगों की मौत
  • नई दिल्लीः कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नारायण दत्त तिवारी अपने बेटे रोहित शेखर के साथ आज भाजपा में होंगे शामिल
  • बहरोड़ (अलवर): कार ने राहगीरों को मारी टक्कर, 3 लोग गंभीर रूप से घायल, पुलिस ने टोल नाके पर पकड़ा
  • नीमराणा (अलवर): फौलादपुर पुलिया के पास हाइवे पर खड़े डंपर से टकराई बस, 25 यात्री घायल
  • जोधपुरः सलमान की बहन अलवीरा कोर्ट पहुंचीं, सलमान होटल से कोर्ट के लिए रवाना, थोड़ी देर में सलमान पर फैसला
  • जोधपुरः अवैध हथियार मामले में सलमान खान बरी
  • उदयपुर: डबोक इलाके में बड़ा हादसा, कोयले से भरे ट्रेलर ने 5 कारो को लिया चपेट में, 3 लोग हुए घायल
  • बीकानेर- श्रीगंगानगर में एसीबी की बड़ी कारवाई, खनिज विभाग के दो अधिकारी रिश्वत लेते गिरफ्तार
  • पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव की वजह से जम्मू-कश्मीर में भारी हिमपात की संभावना
  • जम्मू-कश्मीर: पुलिस ने कुलगाम में चलाया बचाव राहत अभियान, 80 लोगों को बचाया
  • दिल्ली : दिल्ली-डिब्रूगढ़ के लिए उड़ान भरने वाले इंडिगो विमान में आई तकनीकी खराबी, कोलकाता में इमर्जेंसी लैंडिंग
  • बूंदी : बांसी में जहरीले कीडे के काटने से युवक की मौत
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

आसाराम मामले की सुनवाई जेल में करने की याचिका पर जवाब तलब

Patrika news network Posted: 2016-11-29 18:47:19 IST Updated: 2016-11-29 18:47:19 IST
आसाराम मामले की सुनवाई जेल में करने की याचिका पर जवाब तलब
  • राजस्थान हाईकोर्ट ने नाबालिग छात्रा के यौन उत्पीडऩ के मामले की सुनवाई सेशन न्यायालय के बजाय सेंट्रल जेल में करने को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए आरोपी आसाराम व उनके सहयोगी आरोपियों को तीन जनवरी तक जवाब पेश करने के लिए कहा है।

जोधपुर

राजस्थान हाईकोर्ट ने नाबालिग छात्रा के यौन उत्पीडऩ के मामले की सुनवाई सेशन न्यायालय के बजाय सेंट्रल जेल में करने को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए आरोपी आसाराम व उनके सहयोगी आरोपियों को तीन जनवरी तक जवाब पेश करने के लिए कहा है। राज्य सरकार व पुलिस ने राजस्थान हाईकोर्ट में याचिका पेश करते हुए आसाराम मामले की नियमित सुनवाई सेशन न्यायालय (जोधपुर जिला) की बजाय सेंट्रल जेल में ही करने की गुहार की गई थी। 

READ MORE: जोधपुर के पेट्रोल पंप पर बड़ा हादसा, फ्यूल भरवाते समय बाइक में लगी आग

वरिष्ठ न्यायाधीश गोविन्द माथुर व न्यायाधीश संजीव प्रकाश शर्मा की खण्डपीठ ने मंगलवार को सुनवाई करते हुए मौखिक रूप से कहा कि हाईकोर्ट द्वारा पूर्व में बयानबाजी ना करने के निर्देश होने के बाद भी आसाराम हर बार पेशी पर आने के दौरान बयानबाजी क्यों कर रहा है। पिछली सुनवाई पर हाईकोर्ट ने नोटिस जारी करते हुए सभी आरोपियों से जवाब तलब किया था। नोटिस तामिल होने के बाद मंगलवार को बचाव पक्ष की ओर से अधिवक्ता कोर्ट में पेश हुए और जवाब के लिए समय मांगा।

READ MORE: तीन साल बाद राज्य सरकार ने निकाली रोडवेज में भर्ती, 191 पदों पर मिली मंजूरी

हाईकोर्ट ने किया था पाबंद

गौरतलब है कि पूर्व में आसाराम मामले की सहआरोपी संचिता उर्फ शिल्पी की ओर से दायर याचिका को निस्तारित करते हुए हाईकोर्ट ने आसाराम मामले की सुनवाई सेशन न्यायालय में ही करने के आदेश दिए थे। सुरक्षा कारणों के चलते 3 अगस्त, 2015 को हाईकोर्ट प्रशासन ने एक नोटिस जारी करते हुए मामले की सुनवाई सेंट्रल जेल में ही करने के निर्देश दिए थे। जिसके बाद हाईकोर्ट प्रशासन के आदेशों को खण्डपीठ में चुनौती दी गई थी। जिस पर हाईकोर्ट ने 14 सितम्बर, 2015 को कुछ निर्देशों के साथ सुनवाई को दुबारा सेशन न्यायालय में करने के आदेश दिए थे। साथ ही निर्देश दिए थे कि आसाराम व उसके समर्थक किसी प्रकार का रास्ते में व्यवधान नहीं करेंगे।

READ MORE: मोदी के कैशलेस इंडिया का सपना हो रहा साकार, पेट्रोल पंपों पर 5 गुना बढ़ा कार्ड से भुगतान

सुरक्षा कारणों से फिर लगाई याचिका

हाईकोर्ट के आदेश के बाद सुनवाई सेशन न्यायालय में शुरू की गई, लेकिन आसाराम के समर्थक कोर्ट परिसर के बाहर हंगामा कर रहे हैं। पुलिस ने सुरक्षा कारणों, आसाराम की स्वयं की सुरक्षा एवं आम नागरिकों की सुरक्षा को देखते हुए हाईकोर्ट में दुबारा याचिका लगाकर सुनवाई को शिफ्ट करने की गुहार की थी। सरकार की ओर से राजकीय अधिवक्ता शिवकुमार व्यास ने कहा कि कोर्ट के निर्देशों के बावजूद आसाराम हर बार मीडिया के समक्ष बयानबाजी कर रहा है। साथ ही कोर्ट परिसर के बाहर आसाराम समर्थकों का जमवाड़ा रहता है। जिससे अनहोनी का खतरा रहता है। इस पर हाईकोर्ट ने तीन जनवरी को जवाब पेश करने के लिए कहा है।

rajasthanpatrika.com

Bollywood