Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

यहां ठेकेदार की मनमर्जी से होते हैं काम

Patrika news network Posted: 2017-05-19 11:51:56 IST Updated: 2017-05-19 11:51:56 IST
यहां ठेकेदार की मनमर्जी से होते हैं काम
  • भीनमाल के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में नवजात बच्चों की सार-संभाल के लिए बन रहे स्पेशल न्यू बर्न केयर यूनिट का निर्माण कार्य ठेकेदार की मनमर्जी से हो रहा है

भीनमाल. राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में नवजात बच्चों की सार-संभाल के लिए बन रहे स्पेशल न्यू बर्न केयर यूनिट का निर्माण कार्य मंथर गति से चल रहा है। यहां ठेकेदार की मनमर्जी से कार्य हो रहा है। हाल यह हैकि निर्माण कार्य एक दिन शुरू रहता है तो 15-20 दिन बंद रहता है। ऐसे में करीब तीन माह गुजरने के बाद भी निर्माण कार्य कोईखास गति नहीं पकड़ पाया है। वहीं चिकित्सालय के प्रथम फ्लोर पर बन रहे वार्ड के निर्माण के लिए सिविल वर्क का सामान भी यही बिखरा पड़ा रहता है। इसके अलावा फ्लोर पर जगह-जगह मिट्टी जमा रहती है। इस निर्माणाधीन वार्ड के पास जननी सुरक्षा वार्ड भी है। ऐसे में प्रसूताओं को भी दिक्कत उठानी पड़ रही है। चिकित्सा विभाग के अधिकारियों का कहना है कि ठेकेदार को कार्य तेजी से पूर्ण करने के लिए नोटिस भी दिया है, इसके बावजूद भी कार्य गति नहीं पकड़ रहा है। गौरतलब है कि  राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत राजकीय चिकित्सालय में 18  लाख की लागत से स्पेशल न्यू बर्न केयर यूनिट का निर्माण हो रहा है। जन्म से ही अविकसित, अपरिपक्व, बीमार व कमजोर बच्चों के परिजनों को निजी चिकित्सालय में नहीं पहुंचना पड़ेगा। (प.सं.)

जून में होना है पूर्ण

राजकीय चिकित्सालय में नवजात, कमजोर व अविकसित बच्चों के सारवार के लिए स्पेशल न्यू बर्न केयर यूनिट का कार्य जून में पूर्ण होना है। पिछले तीन माह से वार्ड में दीवारों की मरम्मत व नवीनीकरण का कार्य भी पूर्र्ण नहीं हो पाया है। इसके अलावा दीवारों से प्लास्टर उखडऩे से जगह-जगह विद्युत वायरिंग भी बिखरी पड़ी है। चिकित्सालय के अधिकारियों का कहना है कि ठेकेदार की ओर से कार्य शुरू करने के बाद भी 10 दिन ही कार्य किया है।

मिलेगा फायदा

राजकीय चिकित्सालय में स्पेशल न्यू बर्न केयर यूनिट के निर्माण से कमजोर व गरीब तबके के लोगों को काफी राहत मिलेगी। कमजोर व गरीब वर्ग के लोगों को नवजात बच्चों के इलाज के लिए निजी चिकित्सालयों में नहीं जाना पड़ेगा। निजी चिकित्सालयों के स्पेशल न्यू बर्न केयर यूनिट में बीमार बच्चों की सारवार के लिए रोजाना 1500-2000 रुपए खर्च होते हैं।

इनका कहना है...

चिकित्सालय में स्पेशल न्यू बर्न केयर यूनिट का निर्माण मंथर चाल से हो रहा है। ठेकेदार की ओर से 10 दिन ही कार्य किया है। इसके लिए अधिकारियों को अवगत करवाया है।

-डॉ. एमएम जांगिड़, प्रभारी, सीएचसी-भीनमाल

स्पेशल न्यू बर्न केयर यूनिट के निर्माण कार्य जून में पूर्ण होना है। कार्य मंथर होने से ठेकेदार को नोटिस दिया है। समय पर पूर्ण नहीं होने पर जुर्माना लगाएंगे।

-सीएल हठीला, सहायक अभियंता, एनएचएम, जालोर

rajasthanpatrika.com

Bollywood