Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

video- आमदनी तो दूर मजदूरी के पैसे देने पड़ सकते है घर से

Patrika news network Posted: 2017-05-18 22:42:09 IST Updated: 2017-05-18 22:42:42 IST
video- आमदनी तो दूर मजदूरी के पैसे देने पड़ सकते है घर से
  • -प्याज की नई तो क्रॉप तैयार पर दामों में हो रही गिरावट -किसानों केा रुला रहे गिर रहे प्याज के भाव

जैसलमेर. सरहदी जैसलमेर जिले के खेत खलिहानों में प्याज की नई फसल पक कर तैयार होने के साथ ही जिले के बाजारों में प्याज की कीमतों में जबरदस्त गिरावट का दौर शुरू हो गया है। 
जानकारों की माने तो गत एक सप्ताह में ही प्याज की कीमतो में 50 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है और आगामी दिनों में कीमतों में अधिक गिरावट होने की संभावना भी जताई जा रही है। जानकारों की माने तो अभी प्याज की नईक्रॉप आने की शुरूआत होने वाली है और कीमतों में गिरावट भी हो गई। अभी  हालात यह है कि वर्तमान में मिल रही कीमतों से प्याज की बुवाई से तुड़ाई की लागत भी नहीं निकल रही। ऐसे में प्याज एक बार फिर किसानो के लिए घाटे का सौदा साबित हो सकता है। 
कमीशनखोरी में उलझी मेहनत
जानकारों की माने तो किसानों की मेहनत ‘कमीशनखोरी’ में उलझकर रह गई। जानकारों के अनुसार जिले के बाजारों में छुटकर व थोक के भावों में आ रहा बड़ा अंतर किसानों को गरीब व व्यापारियों को मालामाल बनाने वाला साबित हो रहा है। उनके अनुसार छुटकर व थोक के भावों में दो गुना से अधिक का अंतर आ रहा है, जो किसानो के साथ हो रहे छल को उजागर करता है। 
यह आ रहा भावों में अंतर
किसानों को बाजार में 100 रुपए से 150 रुपए प्रति मन प्याज के भाव मिल रहे है, जबकि आम ग्राहक को वही प्याज 12 से 15 रुपए प्रति किलो (४८० से ६०० रुपए  प्रति मन ) की दर से बेचे जा रहे है।  जानकार यह भी बताते हैं कि अभी प्याज की आवक शुरू हुई है। जैसे-जैसे प्याज की आवक बढ़ेगी, वैसे-वैसे कीमतो में प्याज के भावों में अधिक गिरावट होने की गुंजाइश है। 
नहीं हो रही सरकारी खरीद
जैसलमेर में प्यास की सरकारी खरीद नहीं होने से भी किसानों को सरकार की ओर से निर्धारित भावों से भी प्याज की कीमत नहीं मिल रही। भावों में हो रही गिरावट से किसानों के सपनों को धूमिल कर रहे हैं। हकीकत यह है प्याज के दाम याथावत रखने के लिए भी कोई ठोस योजना नहीं बनने से मुनाफाखोर प्याज का भंडारण कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर किसान को प्याज का लागत मूल्य नहीं मिल रहा है और किसानों को मजबूरी में औने-पौने दामों में अपनी मेहनत की कमाई बेचनी पड़ रही है। 
यह है हकीकत
किसान जयराम व बलबीरसिंह बताते हैं कि सरहदी जैसलमेर जिले में प्याज के भावों ने फिर से किसानों की रुला दिया है। होलसेल मंडी में प्याज के भावों में शुरू हुआ दामों में गिरावट से किसानों को बड़ा नुकसान झेलना पड़ रहा है। होलसेल बाजार में प्याज 3 से 6  रुपए रुपए प्रति किलो के भाव से बिक रहे है। 6  रुपए के भाव नासिक के प्याज के मिल रहे है, जबकि स्थानीय बाजार से तीन रुपए प्रतिकिलो से प्याज की खरीद  हो रही है। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood