Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

सांवराद की घटनाओं से जैसलमेर हाई अलर्ट पर !

Patrika news network Posted: 2017-07-13 21:56:46 IST Updated: 2017-07-13 21:56:46 IST
सांवराद की घटनाओं से जैसलमेर हाई अलर्ट पर !
  • -आनंदपाल आंदोलन से जुड़े लोगों पर नजर -पूरे पुलिस तंत्र को चौकस रहने के निर्देश

जैसलमेर. आनंदपाल सिंह के पैतृक गांव नागौर जिलान्तर्गत सांवराद में बुधवार को व्यापक विरोध प्रदर्शन के बाद भडक़ी हिंसा के चलते सीमावर्ती जैसलमेर जिले में पुलिस को हाई अलर्ट पर रखा गया है। इसके अंतर्गत पुलिस और खुफिया एजेंसियों की ओर से आनंदपाल आंदोलन से जुड़े लोगों पर नजर रखी जा रही है, वहीं विशाल भू-भाग वाले जैसलमेर जिले में सभी पुलिस थानों व चौकियों को सतर्क रहने के लिए निर्देशित किया गया है। बुधवार रात जैसे ही सांवराद में आंदोलनकारियों व पुलिस के बीच हिंसक झड़पों के समाचार जैसलमेर तक पहुंचे, यहां भी पुलिस प्रषासन सतर्क हो गया। राज्य स्तर से भी जैसलमेर पुलिस को क्षेत्र में पूरी चौकसी बरतने के निर्देष जारी किए गए हैं। अलबत्ता बुधवार की घटनाओं के बाद गुरुवार को जैसलमेर में कहीं कोई विरोध के स्वर सुनाई नहीं दिए।
जैसलमेर से बड़ी संख्या में गए लोग
इससे पहले बुधवार को नागौर जिले के सांवराद गांव में आनंदपाल सिंह के एनकाउंटर की सीबीआई से मांग सहित अन्य मांगों के समर्थन में आयोजित विरोध प्रदर्शन में भाग लेने के लिए जैसलमेर जिला भर से बड़ी संख्या में राजपूत और रावणा राजपूत समाजों के लोग वहां पहुंचे। जैसलमेर में इस आंदोलन से जुड़े नगरपरिषद के पूर्व सभापति अशोक तंवर ने दावा किया कि जिले के जैसलमेर, पोकरण, फतेहगढ़ उपखंडों के अलग-अलग क्षेत्रों व गांवों से 8 से 10 हजार लोग अपने-अपने साधनों से सांवराद पहुंचे थे।जबकि खुफिया एजेंसी के आंकलन के अनुसार जैसलमेर से सांवराद जाने वालों की तादाद 800 से 1000 के बीच रही।
नेता बच रहे जुबान खोलने से 
इस बीच जैसलमेर से भाजपा के विधायकों सहित  कई नेता आनंदपाल मसले पर बोलने से बचते नजर आ रहे हैं। इस मामले में अब तक जैसलमेर विधायक छोटूसिंह भाटी ने कोई बयान दिया है और न ही पोकरण विधायक शैतानसिंह राठौड़ ने। बुधवार को जैसलमेर प्रवास पर आए राजस्थान खाद बीज निगम के अध्यक्ष शंभूसिंह खेतासर भी यहां पत्रकारों की ओर से आनंदपाल के संबंध में लगातार सवाल किए जाने से असहज हो गए थे और उन्होंने इस आंदोलन का ठीकरा कांग्रेस पर फोड़ा था। उधर, विपक्षी कांग्रेस के नेता जैसलमेर में इस आंदोलन में हिस्सेदारी निभा रहे हैं। गौरतलब है कि जैसलमेर के दोनों विधानसभा क्षेत्र राजपूत बाहुल्य वाले हैं।

स्थितियों पर नजर
सांवराद की घटनाओं के मद्देनजर जैसलमेर जिले में पुलिस पूरी तरह से अलर्ट है। सभी थाना पुलिस को भी सतर्क रहने के लिए निर्देर्शित किया गया है। जिले में हालांकि पूर्णतया षांति व्यवस्था कायम है।
-गौरव यादव, जिला पुलिस अधीक्ष् ाक, जैसलमेर

rajasthanpatrika.com

Bollywood