पत्रिका अभियान - घर -घर पहुंच रहा जहर दबे पांव रसोई में पहुंच रहा खतरा

Patrika news network Posted: 2017-05-18 22:48:36 IST Updated: 2017-05-18 22:48:36 IST
पत्रिका अभियान - घर -घर पहुंच रहा जहर 
दबे पांव रसोई में पहुंच रहा खतरा
  • जीरे का छुहारा, पोषक मूंग व ताकतवार चना बिगाड़ रहा स्वास्थ्य ! -छिडक़ाव के सात दिन में घर में फल-सब्जी पहुंचने से मंडरा रहा खतरा

जैसलमेर.  अनजाने में बाजार से खरीद कर ला रहे फल, सब्जी व अनाज में घुला ‘जहर’ रसोई के माध्यम से हमारे शरीर में पहुंच कर न केवल रोग प्रतिरोधक क्षमता को कम कर रहे है, बल्कि हमारे शरीर को बीमारियो का घर भी बना सकते है। जानाकारो की माने तो रसाई के माध्यम से दबे पांव आने वाला इस बिन बुलाए ‘खतरे’ से स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचने की आशंका बनने से इनकार नहीं किया जा सकता। उनके अ नुसार यदि स्प्रे के दौरान अधिक रसायन का छिडक़ाव हो चुका है तो सब्जी का स्वाद बढ़ाने में प्रयुक्त होने वाला जीरा  ‘जहर’ उगलने का काम कर सकता है, जो आगे जाकर लीवर पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है, जिससे हमारी पाचन क्रिया कमजोर हो जाती है। जानकारों की माने तो जीरे को झुलसा रोग से बचाने के लिए मोनोक्रोटोफोस ३६ का मापदंड से अधिक किया जा रहा उपयोग स्वास्थ्य पर हानिकारक असर पैदा करने का काम करता है। यही ‘जहर’ सब्जी के माध्यम से हमारे शरीर में पहुंचकर पाचन शक्ति को कमजोर करने के साथ लीवर को खराब करता है। कई बार रसायानों की अधिकता से कैंसर की बीमारी को भी निमंत्रण मिल जाता है। नजर नहीं आने वाले रसायन खेतों से पककर घरों की रसाई तक पहुंच रही सब्जियों व धान के जरिए शरीर में पहुंचने से  पोषण कम और जहर अधिक मिल रहा है। 
पशु भी नहीं सुरक्षित 
जानकारों की माने तो सब्जियों में कीटनाशक स्प्रे  सही नहीं माना जाता, लेकिन इसका उपयोग धड़ल्ले से हो रहा है। स्प्रे करने के आठ दिन तक सब्जियों पर असर रहता है और इस दौरान पौधे को चाटने वाले पशु व पक्षी भी असमय काल का ग्रास बन जाते हैं। स्प्रे करने के एक सप्ताह के भीत्तर ही सब्जियां बाजार से हमारी रसाई तक पहुंच जाए तो स्वास्थ्य पर खतरा मंडराने लगता है। 
क्या करें और क्या न करें 
-घर में आ रही सब्जियों का उपयोग तीन अलग-अलग गर्म पानी में धोने के बाद करें।   
-फसलों को रोग से बचाने के लिए मापदंड से अधिक कीटनाशक का छिडक़ाव न किया जाए 
-कृषि कार्यों में इस तरह की स्थिति न आने देने के लिए जागरुकता जरूरी है। 

बढ़ रही समस्या 
कीटनाशक से पाचन शक्ति प्रभावित होने से लीवर खराब होने की समस्या बढ़ रही है। अभी ध्यान नहीं दिया तो आने वाले समय में भवावह स्थिति बनने की आशंका है। 
- प्रकाश छंगाणी कृषि विशेषज्ञ व भू-प्रबंध वैज्ञानिक

rajasthanpatrika.com

Bollywood