Breaking News
  • जोधपुर- बाप उपखंड के माण्डली में पांच कच्चे मकानों में लगी आग, हजारों की नकदी सहित लाखों का सामान खाक
  • डूंगरपुर- कसारिया के पास गरासिया फला में घरेलू गैस सिलेंडर भभकने से घर में लगी आग, कोई जन​हानि नहीं
  • जयपुर- सिरसी रोड पर स्थित तीन दुकानों में चोरी, व्यापारियों में आक्रोश
  • जयपुर- सिरसी रोड पर स्थित तीन दुकानों में चोरी, व्यापारियों में आक्रोश
  • बीकानेर- पीबीएम अस्पताल से देर रात बंदी फरार, पुलिस ने कराई नाकाबंदी, हाथ नहीं लगा
  • बीकानेर- बज्जू के तेजपुरा में शॉर्ट सर्किट से मकान में लगी आग में जला लाखों का सामान
  • कोटा- बपावर के पास मोतिया खाल की पुलिया से नीचे गिरा ट्रक, चालक की मौके पर ही मौत
  • सवाई माधोपुर- शिवाड़ के घुश्मेश्वर महादेव मंदिर में संगीतमय राम कथा शुरू
  • श्रीगंगानगर- राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष मनन चतुर्वेदी ने बाल अधिकारों के संबंध में लिया फीडबैक
  • सवाईमाधोपुर- राजस्थान दिवस के उपलक्ष्य में मान टाउन क्लब में क्राफ्ट मेला शुरू
  • जयपुर- हरमाडा पुलिस ने दौलतपुरा टोल पर शराब से भरा ट्रक पकड़ा
  • जयपुर- नाईजीरियन ने नाईजीरियन युवक से ही की नौ लाख की ठगी, सांगानेर थाना पुलिस ने किया दो को गिरफ्तार
  • श्रीगंगानगर- कृष्णा टॉकीज के पास ट्रक की टक्कर से बिजली के पांच पोल और दो डीपी क्षतिग्रस्त
  • सवाईमाधोपुर- छप्परपोश में आग से बुजुर्ग माता-पिता के साथ बेटा भी झुलसा, मलारना डूंगर के दिवाड़ा गांव हादसा
  • जयपुर- आरबीआई बैंक के बाहर नोट बदलवाने को लेकर पहुंचे कुछ लोग
  • जयपुर- आदर्श नगर थाना पुलिस ने पकड़ा चोरी की बाइक बेचने की फिराक में घूम रहे वाहन चोर को
  • जयपुर- आदर्श नगर थाना पुलिस ने पकड़ा चोरी की बाइक बेचने की फिराक में घूम रहे वाहन चोर को
  • जयपुर- चौमू में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे युवक ने लगाई फांसी, तीन दिन पहले ही किराये लिया था कमरा
  • नागौर- मिंडा के पास मालगाड़ी की चपेट में आने से युवक की मौत
  • जोधपुर- पंजाब से प्रोडक्शन वारंट पर लाया गया कुख्यात अपराधी लॉरेंस बिश्नोई आठ दिन के रिमाण्ड पर
  • नागौर- मिंडा कस्बे में खाना बनाते समय घरेलू गैस सिलेंडर भभका, बड़ा हादसा टला
  • श्रीगंगानगर- डॉक्टर अशोक गुप्ता की तलाश में रायसिंहनगर में अस्पताल पर छापा मारा, लेकिन नहीं मिला डॉक्टर
  • हिंडौन सिटी- बजरिया में शराब की दुकान खोले जाने के विरोध में धरने पर बैठी महिलाएं
  • अलवर- युवक ने की आत्महत्या, शाहजहांपुर के पास सकतपुरा बावद निवासी था मृतक
  • सिरोही- पुलिस लाइन स्थित क्वार्टर में हैडकांस्टेबल ने लगाई फांसी
  • जयपुर- विधायक रमेश मीणा को सदन से निष्कासित करने की मांग, संसदीय कार्यमंत्री राजेंद्र राठौड़ ने रखा विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव
  • राजसमंद- आमेट की मार्बल फैक्ट्री में करंट लगने से युवक की मौत
  • भीलवाड़ा- दो दिन पहले खेत में झुलसी मासूम की जयपुर में इलाज के दौरान मौत, बदनौर के करमा का बाड़िया गांव में हुआ था हादसा
  • हनुमानगढ- भादरा के भिरानी थाने से युवक के भाग निकलने पर ग्रामीणों ने जताया आक्रोश, डाबड़ी के ग्रामीणों ने युवक को पकड़कर सौंपा था पुलिस को
  • धोलपुर- गांधीपार्क के पास बाजार में पेड़ गिरने से छप्परपोश दुकानें ध्वस्त, बिजली लाइन भी टूटी
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

शीतलाष्टमी पर दो दिन की रहती थी छुट्टी, रामनिवास बाग में जमता था गालीबाजी का अखाड़ा

Patrika news network Posted: 2017-03-20 13:52:17 IST Updated: 2017-03-20 13:52:17 IST
शीतलाष्टमी पर दो दिन की रहती थी छुट्टी, रामनिवास बाग में जमता था गालीबाजी का अखाड़ा
  • रियासतकाल में शीतलाष्टमी पर दो दिन की छुट्टी रहती और एक दिन भट्टियां विश्राम लेती...

जयपुर।

मौसम पलटने के बाद संक्रामक रोगों से बचाने वाली शीतला माता को पूरा ढूंढाड़ 'सैढ़ळ माई' के नाम से पूजता है। रियासतकाल में शीतलाष्टमी पर दो दिन की छुट्टी रहती और एक दिन भट्टियां विश्राम लेती। इस दिन रामनिवास बाग में गालीबाजी का अखाड़ा जमता और तांगा रेहडिय़ों की दौड़ होती। पशु वध व मांस बिक्री पर कड़ा प्रतिबंध था। घरों में भोजन बनाने की सरकारी मुनादी रहती। 


चाकसू में शील डूंगरी पर माता का भोग भी सिटी पैलेस से जाता। सप्तमी पर घरों में गुलगुले, पकौड़ी, पापड़ी, खीचड़ा, राबड़ी, बेसन की चक्की आदि व्यंजन बनते, जिनका दूसरे दिन भोग लगता। माता के पुजारी कुम्हार पहले से ही घरों में पूजन के बर्तन दे जाते। ब्रह्मपुरी शीतला मंदिर के पुजारी कुम्हार हैं, जो माता को ठंडे व्यंजनों का भोग लगाते। 


वर्ष1961 की रिपोर्ट के मुताबिक शीतला माता को चेचक ठीक करने वाली देवी माना  है। 1961 में शील की डूंगरी मंदिर में एक लाख श्रद्धालु दर्शन करने पहुंचे। डूंगरी पर पशु मेला भी भरता था। गुलाब सिंह मीठड़ी ने बताया कि वर्ष 1964 के पशु मेले में सरकार को 10 हजार रुपए की आय हुई। गांवों में लोग खेजड़ी के नीचे बिराजी महामाई शीतला को भोग लगा परिवार को स्वस्थ रखने की कामना करते हैं। वर्ष 1918 तक ढूंढाड़ में चेचक, बोदरी, प्लेग और लाल बुखार जैसे संक्र्रामक रोगों का दौर आया था। 


सियाशरण लश्करी के मुताबिक माधोसिंह द्वितीय के पुत्र लालजी गोपालसिंह के चेचक ठीक होने पर वे पासवान रूपराय के साथ शील की डूंगरी में धोक देने गए। माता की 36 कौमों में मान्यता रहने के लिहाज से माधोसिंह ने डूंगरी पर 36 खंभों की बारादरी बनवाई। गालीगायन के उस्ताद कैलाश गौड़ ने बताया कि होली के बाद गणगौर पूजने वाली युवतियां व महिलाएं स्त्री-पुरुष का स्वांग रचाकर ढूंढाड़ी गीत गाते हुए बागों में जाती हैं। 


शील डूंगरी पर सवाई जयसिंह द्वितीय के भी जाने का उल्लेख मिलता है। वहां लांगड़ा बाबा की मान्यता है। जिंदा बकरा, मुर्गा और भेड़ चढ़ाने का रिवाज रहा हैं। रामनिवास बाग, रामबाग चौराहा, चौपड़ों पर श्रद्धालु अलगोजे के साथ भजन गाते। शहर में चौराहों व मंदिरों के बाहर बिराजी शीतला की पूजा होती है। 


देवर्षि कलानाथ शास्त्री के अनुसार ढूंढाड़ में शीतला को सैढ़ल माई के नाम से पूजते हैं। चेचक आदि  बीमारी को रोकने को ठंडे भोजन व जल चढ़ाने की परम्परा है।     

rajasthanpatrika.com

Bollywood