Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

कुलिश स्मृति वन: अब वनाधिकारियों ने ढूंढा तेंदुए को पकड़ने का ये तरीका

Patrika news network Posted: 2017-03-11 09:29:59 IST Updated: 2017-03-11 09:29:59 IST
कुलिश स्मृति वन: अब वनाधिकारियों ने ढूंढा तेंदुए को पकड़ने का ये तरीका
  • पैंथर और शावक के चलते पांच दिन से कुलिश स्मृति वन बंद है। आस-पास की कॉलोनियों के लोगों ने मॉर्निंग और ईवनिंग वॉक का समय भी बदल दिया है।

जयपुर

कुलिश स्मृति वन में कुनबे को पकडऩे के लिए अब पिंजरे में बकरा परोसा गया है। इसके लिए सरिस्का से पिंजरा मंगवाकर वन विभाग के अधिकारियों ने शुक्रवार को स्मृति वन में लगा दिया है। वहीं दूसरी ओर पैंथर कुनबे को पर्याप्त भोजन मिल सके, इसके लिए झालाना के वन क्षेत्र में चीतल छोडऩे की तैयारी की जा रही है। 





दरअसल, 5 मार्च को देर रात करीब पौने बारह बजे कॉमर्स कॉलेज फिर जेएलएन मार्ग पर नर-मादा पैंथर और उनका शावकघूमता देखा गया था। तभी से तीनों ने जेएलएन मार्ग स्थित कुलिश स्मृति वन में डेरा जमा लिया है। वन विभाग के मुताबिक, पैंथर और शावक पहाड़ी पर ही छिपे हैं। 






उनके पदमार्ग बार-बार मिल रहे हैं। पैंथर और उसका परिवार लगातार श्वान का शिकार कर रहा है। वन विभाग को पहाड़ी के पास से शिकार हुए श्वान की हड्डियां भी मिल चुकी हैं। फॉरेस्टर राधेश्याम ने बताया कि टीम कुलिश स्मृति वन और आस-पास के क्षेत्र में पैंथर और शावक को तलाश रही है।

बंद है कुलिश स्मृति वन

पैंथर और शावक के चलते पांच दिन से कुलिश स्मृति वन बंद है। आस-पास की कॉलोनियों के लोगों ने मॉर्निंग और ईवनिंग वॉक का समय भी बदल दिया है। वन विभाग अधिकारियों के मुताबिक, जब तक पैंथर और शावक स्मृति वन में हैं, तब तक सुरक्षा की दृष्टि से इसे बंद ही रखा जाएगा।

झालाना सफारी कल से 3 दिन बंद 

झालाना वन क्षेत्र में सफारी पर्यटकों के लिए रविवार से तीन दिन बंद रहेगी। रेंजर सुरेन्द्र शर्मा ने बताया कि होली पर 12 से 14 मार्च तक सफारी बंद रहेगी। इसके बाद बुधवार से सफारी यथावत शुरू हो जाएगी। 




चार दिन से कुलिश स्मृति वन में ही हैं 3 पैंथर, अब जंगल में छोड़ेंगे बूढ़े हरिण, फिर मिले पगमार्क

rajasthanpatrika.com

Bollywood