Breaking News
  • बूंदी: नमाना क्षेत्र में 10 साल के बच्चे की संदिग्ध अवस्था में मौत
  • हनुमानगढ:दो पेट्रोल पंप पर आयकर सर्वे, एक ने सरेंडर किए 10 लाख
  • जयपुर : गणगौर पर जयपुर शहर में आधा दिन का अवकाश, राज्य सरकार के सभी कार्यालय दोपहर डेढ़ बजे तक खुलेंगे
  • उदयपुर: फतहसागर में कूदी युवती का देर रात तक नहीं चला पता
  • राजस्थान विश्वविद्यालय की बीएससी द्वितीय वर्ष के फिजिकल केमेस्ट्री की निरस्त परीक्षा अब 30 मार्च को होगी
  • जयपुर : चित्रकूट कॉलोनी में जुआ खेलते 13 गिरफ्तार, 38970 रुपए और 8 वाहन जब्त
  • उदयपुर: फर्जी कंडक्टर को पकड़ा,अभिरक्षा में भेजा
  • जैसलमेर : पोकरण में आयकर विभाग की कार्रवाई, दस्तावेजों की जांच में जुटी है टीम
  • भरतपुर: कुबेर में मरीज को दिखाने अस्पताल आए व्यक्ति की बाइक हुई चोरी
  • भीलवाड़ा: करेड़ा कस्बे में फिर बढ़ाई धारा 144, अब 4 अप्रेल तक रहेगी लागू
  • नागौर: कांकरिया पम्प हाउस के विद्युत कनेक्शन में फॉल्ट, आधे शहर में 3 दिन से पेयजलापूर्ति बाधित
  • जोधपुर: मार्च लेखाबंदी के कारण आज से जीरा मंडी में नहीं होगा व्यापार
  • सीकर:खातीवास में पैंथर की सूचना से इलाके में दहशत
  • जयपुर-एसओजी ने गलता गेट स्थित गोदाम पर छापा, पकड़ा भारी मात्रा में विस्फोटक
  • जोधपुर- हाईकोर्ट ने किए तीस न्यायिक अधिकारियों के तबादले
  • बीकानेर- दो साल से कर रहे थे दुष्कर्म, निजी स्कूल के आठ शिक्षकों पर मामला दर्ज
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

सुप्रीम कोर्ट तक भी पहुंचा था मामला फिर भी नहीं मिल पाई राहत

Patrika news network Posted: 2017-03-21 09:28:54 IST Updated: 2017-03-21 09:28:54 IST
सुप्रीम कोर्ट तक भी पहुंचा था मामला फिर भी नहीं मिल पाई राहत
  • राष्ट्रीय राजमार्ग और राजकीय राजमार्ग सुविधा से ज्यादा टोल के जरिए कमाई का जरिया बन चुके हैं। यह मामला हाईकोर्ट से सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच चुका है लेकिन सरकार जनता को टोल वसूली से राहत नहीं दे पाई है।

जयपुर

राष्ट्रीय राजमार्ग और राजकीय राजमार्ग सुविधा से ज्यादा टोल के जरिए कमाई का जरिया बन चुके हैं। यह मामला हाईकोर्ट से सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच चुका है लेकिन सरकार जनता को टोल वसूली से राहत नहीं दे पाई है। 





राजमार्ग बनाने वाली कंपनियों और राजनेता-नौकरशाहों का गठजोड़ इतना गहरा है कि कानूनी दांव-पेच में मामला वर्षों तक अटका रहता है। राजस्थान हाईकोर्ट में टोल वसूली को लेकर पांच साल पहले दायर मामले में अब भी सुनवाई चल रही है। इस बीच मामला सुप्रीम कोर्ट तक भी पहुंच चुका है। 


राजस्थान: बेमौसम बरसात से प्रभावित किसानों पर 'राहत के छींटे', 5 हज़ार 565 गांव अभावग्रस्त घोषित




निस्तारित याचिका से जुड़वा दी याचिका 

टोल वसूली कमाई का जरिया बनने को लेकर करीब पांच साल पहले राजस्थान हाईकोर्ट में पूर्व न्यायाधीश आरएस वर्मा की ओर से जनहित याचिका दायर की गई थी। टोल कंपनियों की राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण से साठ-गाँठ का हाल यह है कि मामले को सुप्रीम कोर्ट में उस याचिका के साथ जुड़वा दिया गया, जिसका फैसला ही कई साल पहले हो चुका था। 




नहीं हुई सीबीआई जांच  

कोर्ट ने जयपुर-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर टोल वसूली से जुड़े मामले में गड़बड़ी या अनियमितता होने पर सीबीआई से जांच का आदेश दिया था। इस आदेश को डेढ़ साल से अधिक समय होने के बावजूद केन्द्र सरकार न तो सड़क विस्तार का काम पूरा करा पा रही है और न सीबीआई को जांच दी गई है। यह हाल तो तब है, जब प्रधानमंत्री कार्यालय तक इसकी निगरानी कर रहा है। 






मनमानी-टोल का ऐसा खेल, सड़क अधूरी हो या ऊबड़-खाबड़, वसूली बेधड़क




टोल वसूली का मुद्दा बड़ा ही गंभीर है, यह सीधे तौर पर जनता की जेब से जुड़ा है। केन्द्र सरकार को टोल नीति पर पुन: विचार करना चाहिए। इसी को ध्यान में रखते हुए मामला जनहित याचिका के जरिए हाईकोर्ट में भी उठाया गया है। कोर्ट में टोल वाले राजमार्गों और उनके द्वारा वसूली जा चुकी राशि का विवरण भी पेश किया जा चुका है।








rajasthanpatrika.com

Bollywood