पढ़े : महिलाएं क्यों नहीं कर पा रही अमृत कक्ष का उपयोग

Patrika news network Posted: 2017-02-03 09:40:27 IST Updated: 2017-02-03 09:41:18 IST
पढ़े : महिलाएं  क्यों  नहीं कर पा रही अमृत कक्ष का उपयोग
  • मेेट्रो स्टेशन में अमृत कक्ष शुरू तो कर दिए हैं, लेकिन मेट्रो प्रशासन की लापरवाही व उदासीनता के चलते महिलाओं को इस सुविधा के बारे में जानकारी बहुत कम है।

जयपुर

चांदपोल  में मेट्रो स्टेशन पर माताओं व मेट्रो के महिला यात्रियों के लिए अमृत कक्ष पिछले साल 2015 में शुरू किए जा चुके हैं। जो महिलाओं को सार्वजनिक स्थान पर स्तनपान कराने की सुविधा उपलब्ध करवा रहा है। 



इस कक्ष में छोटे बच्चों को स्तनपान कराने की पूरी व्यवस्था की गई है। यह  सेवा महिलाओं के लिए नि:शुल्क है। जयपुर मेट्रो ने ये व्यवस्था सेव द चिल्ड्रन मिशन के तहत सुरक्षित मातृत्व व स्वस्थ शिशु योजाना को पूरा करने के लिए की है। अभी ये सुविधा मानसरोवर व चांदपोल मेट्रो स्टेशन पर उपलब्ध है। 


देह व्यापार के चंगुल से छूटी किशोरी को अब मिला सुरक्षित आसरा



अमृत कक्ष की शुरूआत के साथ ही मेट्रो रेल के पहले व अंतिम कोच में गर्भवती व प्रसूता महिलाओं के लिए दो सीटें अलग से आरक्षित की गई हैं, जिससे महिलाओं को मेट्रो के सफर में सुविधा हुई है। 


राजस्थान का पहला मेट्रो स्टेशन का स्तनपान कक्ष

यह राजस्थान का पहला ऐसा स्तनपान कक्ष है, जहां महिलाओं को बच्चों को अलग से कमरे में स्तनपान करवाने की व्यवस्था की गई है। 



यहां महिलाएं आराम से स्तनपान करा सकती हैं। सुरक्षा की व्यवस्था मेट्रो के कस्टमर रिलेशन एक्जीक्यूटिव के पास है। कमरे मे फोन की व्यवस्था भी की गई है ताकि इमरजेंसी में महिला इसका उपयोग कर सके ।

ननद के लड़के ने उड़ा दी इज्जत की धज्जियां, नहीं किया रिश्तों का लिहाज



पता ही नहीं इस सुविधा के बारे में 

मेेट्रो स्टेशन में अमृत कक्ष शुरू तो कर दिए हैं, लेकिन मेट्रो प्रशासन की लापरवाही व उदासीनता के चलते महिलाओं को इस सुविधा के बारे में जानकारी बहुत कम है। 


याचकों का जमावड़ा, सैलानियों से छीना-झपटी


यहां तक कि स्टेशन के कर्मचारियों को भी इस सुविधा के बारे में पता नहीं है। सिर्फ कक्ष के बाहर ही इसका बैनर लगा है इसके अलावा कहीं भी इस सुविधा का जिक्र नहीं है। यही वजह है कि यहां पर दिन में 2-3 महिलाएं ही आती हैं। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood