SMS के मेडिकल छात्र बोले- इंसेंटिव मार्क्स हटाएंं, दूरदराज गांवों में ही सेवारत डॉक्टर्स को 30% ज्यादा दिए जाएं

Patrika news network Posted: 2017-04-16 14:19:42 IST Updated: 2017-04-16 16:38:55 IST
SMS के मेडिकल छात्र बोले- इंसेंटिव मार्क्स हटाएंं, दूरदराज गांवों में ही सेवारत डॉक्टर्स को 30% ज्यादा दिए जाएं
  • राजस्थान फ्रेशियर डॉक्टर्स कॉउन्सिल (आरएफडीसी)और स्टूडेंट्स यूनियन के छात्रों ने पोस्ट ग्रेजुएट में सेवारत चिकित्सकों को 30 प्रतिशत तक अतिरिक्त अंक दिए जाने को अनैतिक फैसला करार दिया।

जयपुर.

सवाई मानसिंह अस्पताल के जयपुर मेडिकल एसोसिएशन सभागार में मेडिकल के छात्रों ने एकजुट हो अपनी समस्या के बारे में चर्चा की। इस दौरान राजस्थान फ्रेशियर डॉक्टर्स कॉउन्सिल (आरएफडीसी)और स्टूडेंट्स यूनियन के छात्रों ने पोस्ट ग्रेजुएट में सेवारत चिकित्सकों को 30 प्रतिशत तक अतिरिक्त अंक दिए जाने को अनैतिक फैसला करार दिया।


 छात्रों का कहना था कि राज्य में मेडिकल पीजी की कुल सीटों में से 50 प्रतिशत सीटें पिछले 20 वर्ष से सेवारत चिकित्सकों के लिए आरक्षित थी, लेकिन बिना किसी पूर्व सूचना के सभी सेवारत चिकित्सकों को 30 प्रतिशत अतिरिक्त बोनस अंक देने से राज्य की लगभग सभी सीटें इन्ही के खाते में चली जाएंगी।


इस बात का पुरजोर विरोध करते हुए छात्रों ने इसे उच्च वरियता प्राप्त फ्रेशियर्स के भविष्य के साथ खिलवाड़ होना बताया। छात्रों का कहना था कि दुर्गम और दूरदराज गांवों में ही सेवारत डॉक्टर्स को 30 प्रतिशत अतिरिक्त अंक देने का प्रावधान होना चाहिए।


मंत्री ने दिलाया भरोसा

आरएफडीसी के अध्यक्ष डॉ. नवेन्दू रंजन ने कहा कि यह मेरिटोरियस छात्रों की प्रतिभा पर कुठाराघात है। इससे मेडिकल छात्रों की मेरिट होने के बाद भी कॉलेज में प्रवेश नही हो पाएगा। उन्होंने बताया कि कॉलेज में अध्ययनरत अनुराग गुप्ता जो कि स्टेट में न बर एक रैंक पर है, जबकि ऑल इंडिया में उनकी 126 वी रैंक थी, लेकिन सरकार के इस फैसले के बाद उनकी रैंक गिरकर सीधे 197 पर पहुंच गई है। छात्रों ने चिकित्सा मंत्री कालीचरण सराफ से इस मसले के बारे में बात की तो मंत्री ने उन्हें आश्वासन दिया।


Read: जयपुर में हुआ सेन्टर फॉर एडवांस्ड गायनोकोलोजीकल एंडोस्कोपिक सर्जरी के ट्रेनिंग सेंटर का उद्घाटन

rajasthanpatrika.com

Bollywood