Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

राजस्थान के इस दिग्गज नेता की गंभीर शिकायतें पहुंची PM मोदी के पास, कई विधायकों ने मिलकर लगाई एक्शन लेने की गुहार

Patrika news network Posted: 2017-04-21 12:41:03 IST Updated: 2017-04-21 16:09:15 IST
  • पूर्व विधानसभा अध्यक्ष के खिलाफ विधायकों ने खोला मोर्चा, पीएम मोदी को लिखा पत्र, एपीएमओ ने कहा जांच करो, एक साल पहले भी विधायकों ने उठाया था यह मुद्दा, चालीस से ज्यादा विधायकों ने लिखा पत्र

जयपुर।

विधानसभा में चालीस से ज्यादा विधायकों ने पूर्व विधानसभा अध्यक्ष दीपेन्द्र सिंह शेखावत पर अपने कार्यकाल में घोटाले का आरोप लगाते हुए मोर्चा खोल दिया है। विधायकों ने इसे लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को जांच कर कार्रवाई करने के लिए पत्र लिखा है। 


इससे पहले विधायकों की तरफ से लिखे पत्र पर प्रधानमंत्री कार्यालय के ​डायरेक्टर संतोष डी.वैद्य ने मुख्य सचिव राजस्थान को मामले में जांच के लिए लिखा था लेकिन एक्शन नहीं होने पर अब फिर से विधायकों ने पीएमओ से गुहार लगाई है।


पहली बार आया एेसा मामला

विधानसभा के इतिहास में शायद यह पहला मामला है जब विधायकों ने किसी विधानसभा अध्यक्ष के खिलाफ मोर्चा खोला हो। पूर्व अध्यक्ष पर जांच की बात पर सरकार और विधानसभा सचिवालय ने चुप्पी साध रखी है।


READ: ... तो किरोड़ी लाल मीणा फिर बदलेंगे पाला! 



विधायकों की तरफ से पूर्व अध्यक्ष पर आ​र्थिक अनियमितताओं का आरोप लगाते हुए 11 जनवरी, 2016 को पत्र लिखा गया था। पत्र के साथ ऑडिट ऑब्जेक्शन पैरों की प्रतियां भी पेश की गई थी। विधायकों ने शेखावत पर सरकारी धन की फिजूलखर्ची कर राजनीतिक लोगों को उपहार देने और होटल किराए पर पैसा उड़ाने का आरोप लगाया था।


अपनी सरकार पर उठाए गए सवाल

भाजपा विधायकों की तरफ से अब 28 मार्च को फिर से प्रधानमंत्री को चिट्टी लिख कर जांच के लिए कहा है। विधायकों ने इस पत्र में अपनी ही सरकार के मुख्यसचिव पर राजनीतिक दबाव के चलते जांच बाधित करने का आरोप लगाया है।


READ: राजस्थान में किसानों से अब तक की सबसे बड़ी ठगी का मामला आया सामने



यह है ऑडिट ऑब्जेक्शन

शेखावत के विधानसभा अध्यक्ष कार्यकाल के दौरान कम्प्यूटर के सॉफ्टवेयर खरीद में गलत भुगतान और पीठासीन अधिकारियों के सम्मेलन में दो करोड़ की खरीद बिना निविदाओं के करने को लेकर ऑडिट पैरा बनाया गया था। जिसमें साफ कहा गया है कि इस पैसे को भोजन-उपहार आदि में खर्च किया गया, जिसकी स्वीकृति नहीं की गई, न ही निविदा की गई।

rajasthanpatrika.com

Bollywood