Breaking News
  • भरतपुर: नदबई के नगला कुरवारिया गांव में फूड प्वाइजनिंग से 12 लोग बीमार
  • हनुमानगढ़: भादरा के सरदारगढ़िया गांव में सार्वजनिक पेयजल डिग्गी में डूबने से 6 साल की बच्ची की मौत
  • सीकर: खाटूश्यामजी के पास हृदयघात से मंडा ग्राम पंचायत के सरपंच की मौत
  • बाड़मेर : बिजली चोरी के मामले में डिस्कॉम का तकनीकी सहायक निलंबित
  • भीलवाड़ा : विक्षिप्त महिला के साथ दुष्कर्म, पति ने कराया बागोर थाने में मुकदमा दर्ज
  • बाड़मेर : चौहटन क्षेत्र में बोलेरो कैम्पर की टक्कर से बालिका की मौत, चालक फरार
  • बाड़मेर : शादी से लौट रहे पति-पत्नी का रास्ता रोककर मारपीट, चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज
  • उदयपुर : शराब-रियल एस्टेट कारोबारी की करोड़ों की अघोषित आय, आयकर विभाग की कार्रवाई जारी
  • सिरोही : कारोबारी पर आयकर कार्रवाई, नोटबंदी में अधिक राशि जमा कराने का मामला
  • मारवाड़ : प्रसिद्ध कागा मेले में उमड़ रहा सैलाब, गेर देखने के लिए लोगों में भारी उत्साह
  • अजमेर : फिल्म देखकर लौट रहे दंपती से लूट, कुंदन नगर चौराहे से पर्स छीन भागे बदमाश
  • कोटा : 1 अप्रेल से आंगनबाड़ी हो जाएंगी आंगनबाड़ी पाठशाला, समय में भी होगा बदलाव
  • हनुमानगढ़ : कार पेड़ से टकराई, तीन की मौत, रावतसर नोहर रोड पर हुआ हादसा
  • भरतपुर : हलैना में बाइक रैलिंग से टकराई, मौके पर ही दो की मौत
  • जयपुर- अजमेर रोड पर तेज रफ्तार पिकअप ने साइकिल सवार को कुचला
  • अलवर- जागुवास मोड़ पर पारले कंपनी की बस को डंपर ने मारी टक्कर, आधा दर्जन कर्मचारी घायल
  • सीकर- विभिन्न मांगों को लेकर ग्राम सेवक आज करेंगे विधानसभा का घेराव
  • जेसलमेर- पोकरण में अस्पताल परिसर से देर रात बोलेरो चोरी
  • भीलवाड़ा- राजीव गांधी ऑडिटोरियम में चार दिवसीय शिल्प बाजार आज से
  • भीलवाड़ा- यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ता सुबह 11 बजे करेंगे कलक्ट्रेट का घेराव
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

राज्य कैबीनेट का फैसला: अब लिखित करार के बाद ही किराएदारी

Patrika news network Posted: 2016-11-29 21:00:01 IST Updated: 2016-11-29 21:00:01 IST
राज्य कैबीनेट का फैसला: अब लिखित करार के बाद ही किराएदारी
  • राज्य में अब लिखित करार के बिना किराएदार नहीं रखे जा सकेंगे। राज्य सरकार ने राजस्थान रेंट एक्ट (किराएदारी कानून) 2001 में संशोधन कर दिया है।

जयपुर।

राज्य में अब लिखित करार के बिना किराएदार नहीं रखे जा सकेंगे। राज्य सरकार ने राजस्थान रेंट एक्ट (किराएदारी कानून) 2001 में संशोधन कर दिया है। पहले यह कानून 44 शहरों में था, लेकिन अब प्रदेश के सभी शहरी क्षेत्रों में लागू होगा। संशोधन के बाद एसडीएम को रेंट अथॉरिटी बनाया गया है। मकान मालिक व किराएदार को रेंट अथॉरिटी के यहां रजिस्टे्रशन कराना जरूरी होगा। राज्य कैबीनेट ने मंगलवार को किराएदारी कानून संशोधन का अनुमोदन कर दिया।


कैबीनेट बैठक के बाद संसदीय कार्यमंत्री राजेंद्र राठौड़ ने बताया कि राज्य में एक अप्रेल 2003 से रेंट कंट्रोल एक्ट 2001 लागू हुआ था। यह प्रदेश के 44 शहरी क्षेत्रों में लागू था, लेकिन संशोधन के बाद राज्य के सभी शहरी क्षेत्रों में लागू होगा। संशोधन में एसडीएम को रेंट अथॉरिटी बनाते हुए उसे रेंट ट्रिब्यूनल वाले अधिकार दिए गए हैं। इसके लिए जल्द आर्डिनेंस जारी होगा।


राशि का प्रावधान हटाया-

राठौड़ ने बताया कि रेंट कंट्रोल एक्ट में नगर निगम क्षेत्र में सात हजार या अधिक, अन्य संभाग मुख्यालयों पर चार हजार या अधिक तथा अन्य शहरों में दो हजार या अधिक किराए का प्रावधान था। संशोधन में राशि के इस प्रावधान को हटा दिया गया है। अब सभी प्रकार की राशि के किरायों के मामले यह कानून लागू होगा। इससे किराए के विवाद काम होंगे।


एक महीने का एडवांस किराया -

राठौड़ ने बताया कि एक्ट संशोधन के अनुसार किराएदार से एक माह का किराया एडवांस में लिया जा सकेगा। सहमति के आधार पर किराया घटाया या बढ़ाया भी जा सकेगा। किराएदार व मकान मालिक को सौ रुपए के स्टांप पर किराएनामे की रजिस्ट्री करवानी होगी। परिवाद पेश करने की फीस भी 100 रुपए ही है।


लीज पर किराए में लागू नहीं होगा -

राठौड़ ने बताया कि किराया कानून ग्रामीण क्षेत्रों में लागू नहीं होगा। शहरी क्षेत्रों के सभी आवासी व कामर्शिलय किराएदारी के मामलों में लागू होगा। हालांकि यह वाणिज्यिक क्षेत्रों में लीज रेंट के मामलों में लागू नहीं होगा।


बेदखली के अधिकार नहीं -

राठौड़ ने बताया कि एसडीएम को एक्ट में दिए गए रेंट अथॉरिटी के सभी अधिकार होंगे, लेकिन उसे किराएदार की बेदखली का अधिकार नहीं होगा। बेदखली के मामले में पूर्व की भांति रेंट अथॉरिटी ही देंगे। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood