Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

इन 7 लोगों का आदर सत्कार आप को भी बना देता है महान गुरु

Patrika news network Posted: 2017-07-07 13:38:20 IST Updated: 2017-07-08 10:30:57 IST
इन 7 लोगों का आदर सत्कार आप को भी बना देता है महान गुरु
  • हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी गुरु पूर्णिमा आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा रविवार, 9 जुलाई 2017 को मनाया जायेगा। इसे व्यास पूजा के नाम से भी जाना जाता है।

जयपुर

हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी गुरु पूर्णिमा आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा रविवार, 9 जुलाई 2017 को मनाया जायेगा। इसे व्यास पूजा के नाम से भी जाना जाता है। वैसे तो किसी भी तरह का ज्ञान देने वाला गुरु कहलाता है, लेकिन दीक्षा प्राप्ति जीवन की आधारशिला माना जाता है। 


सही मार्गदर्शन कराने वाला, गुरु के समान ही समझना चाहिए

 मनु स्मृति के अनुसार, सिर्फ वेदों की शिक्षा देने वाला ही गुरु नहीं होता। हर वो व्यक्ति जो हमारा सही मार्गदर्शन करे, उसे भी गुरु के समान ही समझना चाहिए।


सच बोलने वाला वो भी गुरु होता है

हमेशा सच बोलने वाले व्यक्ति से भी शिक्षा लेनी चाहिए। सच बोलने वाला व्यक्ति यदि हमारा मार्गदर्शन करे या कोई उचित सलाह दे तो उसे भी गुरु मानकर उसकी बातों को गंभीरता से लेना चाहिए।


 भलाई चाहने वाले सगे-संबंधी

जिनसे हमारे घनिष्ठ संबंध हों और जो सदैव हमारा भला चाहते हों, उसे  भी  गुरु का दर्जा देना चाहिए। ऐसे रिश्तेदार कोई सलाह दे तो उसे गुरु की आज्ञा मानकर उसका पालन करना चाहिए


 नौकरी दिलाने वाला सच्चा गुरु होता है

जो व्यक्ति नौकरी दिलाता है। उससे भी शिक्षा लेने में हिचक नहीं करनी चाहिए। संकट की स्थिति में नौकरी दिलाने वाला  व्यक्ति गुरु के समान जैसा होता है।  ऐसा व्यक्ति सदैव आपको सही रास्ता दिखाएगा।


ज्ञान देने वाला व्यक्ति गुरु होता है

जो हमे ज्ञान देता है उसका आदर करना हमारा कर्तव्य होता है। यही नहीं उनकी सेवा करने का भी कोई मौका नहीं छोड़ना चाहिए।



भूखों को भोजन कराना वाला

भूखों को भोजन कराना और प्यासे को पानी पिलाने और  बेघरों को आश्रय देना, ये भी किसी धर्म से कम नहीं है। भूखे-प्यासे व्यक्ति को तृप्त करना ही सबसे बड़ा धर्म है।


गरीब, लाचार, बेसहारा की मदद करना

किसी गरीब, लाचार, बेसहारा को भरपेट भोजन और तन ढंकने के लिए पर्याप्त कपडे़ देना इसे भी धर्म माना जाता है। इससे बड़ा जग में कोई धर्म नहीं होता  है।  छोटो-छोटे बच्चों का तन ढकना धर्म से कम नहीं होता है। क्योकि बच्चे भगवान के रूप होते है।

rajasthanpatrika.com

Bollywood