Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

गर्मी में बिजली कटौती जनता पर पड़ रही भारी, 4-10 घंटे तक नहीं आ रही अनेक क्षेत्रों में

Patrika news network Posted: 2017-05-14 13:04:58 IST Updated: 2017-05-14 13:04:58 IST
गर्मी में बिजली कटौती जनता पर पड़ रही भारी, 4-10 घंटे तक नहीं आ रही अनेक क्षेत्रों में
  • कई जिलों में बिजली आपूॢत करने वाला ये डिस्कॉम बिजली कटौती का कारण आवश्यक सुधार और मेंटीनेंस बता रहा है। जबकि, एेसे मौसम में एक मिनट बिजली गुल होना परेशान कर रहा है....

जयपुर.

भीषण गर्मी से जूझ रहे शहर के लोगों पर बिजली कटौती भारी पड़ रही है। एेसे मौसम में एक मिनट बिजली गुल होना परेशान कर देता है वहीं अनेक क्षेत्रों में 4 से लेकर 10 घंटे तक लोग कटौती का सामना कर रहे हैं।


गर्मी में कटौती

शहर में शनिवार को भी बिजली कटौती का सिलसिला चला, जिसमें एक दर्जन से ज्यादा क्षेत्रों में लोग गर्मी से और ज्यादा परेशान हुए। कई क्षेत्रों में सुबह नौ से शाम तक बिजली कटौती चली। कूलर-पंखे बंद होने से लोग बेहाल हुए। डिस्कॉम बिजली कटौती का कारण आवश्यक सुधार और मेंटीनेंस बता रहा है।


अभी भी चल रहा कई क्षेत्रों में मेंटीनेंस का काम

गर्मी के पीक सीजन में कटौती को मेंटीनेंस में बरती लापरवाही माना जा रहा है। मेंटीनेंस का जो काम अप्रेल में पूरा हो जाना चाहिए था, वह अभी भी जारी है। एेसे में रोजाना ही राजधानी के कई क्षेत्रों में बिजली बंद की जा रही है। पिछले माह इस्तीफा देने वाले डिस्कॉम के दो आला अधिकारियों में से एक ने तो दो दिन पहले ही मेंटीनेंस का काम 30 मई तक पूरा करने के निर्देश दिए थे। जबकि यह पूरा महीना गर्मी का पीक सीजन रहेगा।


Read: राजस्थान में नीट के 'पेपर' दिलाने का झांसा देकर वसूली करने वाले गिरोह ने ऐसे गायब कर दिए सबूत

बिजली गुल से भी परेशान

अनेक क्षेत्रों में रोजाना बिजली गुल की शिकायतें भी मिल रही हैं। लोग कॉल सेंटर को फोन घुमाते हैं और थोड़ी देर में बिजली आ जाती है। लेकिन कई जगह लोगों को परेशान होना पड़ रहा है। इसका कारण भी मेंटीनेंस का काम बताया जा रहा है।


अभियंताओं ने दिए गोलमोल जवाब

इलाकों के अभियंताओं का कहना है कि गर्मी के मौसम में इसकी घरेलू मांग अधिक होने के कारण मेंटीनेंस की अधिक आवश्यकता होती है। कुछ ने तो साफ कहा कि कई इलाकों में जितना भार है, उस हिसाब से विद्युत तंत्र है ही नहीं। यहां व्यवस्था तब ही सुधर सकती है, जबकि स्थानीय लोग स्वेच्छा से नए ट्रांसफार्मर के लिए जगह बताएं।


Read: जमीन आवंटन रद्द करने वाले अफसर पर राजस्थान हाईकोर्ट ने कार्रवाई का आदेश दिया, मामला ये है

rajasthanpatrika.com