मौत से कुछ देर पहले हुई थी पिता से बात, इकलौता बेटा था मनीष

Patrika news network Posted: 2017-05-17 16:24:54 IST Updated: 2017-05-18 16:33:23 IST
मौत से कुछ देर पहले हुई थी पिता से बात, इकलौता बेटा था मनीष
  • यहां हुई मनीष की मौत एक हादसा था या कुछ और इसका जवाब अभी पुलिस के पास नहीं है।

जयपुर.

एक दिन पहले ऊंचाई से गिरने पर मौत का शिकार हुआ कॉलेज छात्र मनीष का बुधवार को एग्जाम था। पिता ने कहा कि मंगलवार को उनकी मनीष से मोबाइल पर बात हुई थी।


उसके कुछ देर बाद ही हादसे की सूचना मिली। मनीष की मौत एक हादसा था या कुछ और इसका जवाब अभी पुलिस के पास नहीं है। पुलिस कहती है कि साथी छात्र बुधवार को एग्जाम देने गए हैं। उनसे पूछताछ के बाद ही स्थिति का खुलासा होगा। सांगानेर थाना पुलिस ने जयपुरिया अस्पताल में पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया।


निम्बाहेड़ा की सविता कॉलोनी निवासी रामनिवास बैरागी ने बताया कि उनकी जब मोबाइल पर मनीष से बात हुई तो वह आराम से बात कर रहा था। उन्होंने फोन उसे भेजे गए रुपयों की जानकारी देने के लिए किया था। फिर ऐसा क्या हुआ कि कुछ देर बाद ही वह तीन मंजिल से गिर गया। उन्होंने बताया कि मनीष का 15 मई को एग्जाम था। इसके बाद बुधवार को भी एग्जाम देना था। अब साथी छात्रों से बातचीत पर ही कुछ खुलासे की उम्मीद है।


Read: राजस्थान में 41 खिलाडि़यों को महाराणा प्रताप अवार्ड, 13 प्रशिक्षकों को भी मुख्यमंत्री ने पुरस्कार से नवाजा

मनीष रामनिवास बैरागी का इकलौता बेटा था। दो बहन व एक भाई में मनीष सबसे छोटा था। बेटे की मौत से रामनिवास टूट गए हैं। अस्पताल में उन्होंने कहा कि मनीष ही हमारा सहारा था। उसे घर से दूर कॅरयिर बनाने के लिए छोड़ा था। हमे क्या पता यहां के बाद वह वापस ही नहीं लौटेगा।


Inspiring Story : 73 साल के चंद्रभान 30 साल से कर रहे हैं लोगों को जागरूक, बांट रहे हैं उनके घर का पता

rajasthanpatrika.com

Bollywood