Breaking News
  • अलवर- डकैती की योजना बनाते पांच लोग चढ़े पुलिस के हत्थे, कई वारदातों का खुलासा
  • सिरोही-फोरलेन पर वाहन की टक्कर से भालू की मौत, आम्बेश्वर धाम के निकट हुई दुर्घटना
  • करौली-महाराजपुर के जंगलों में मिला पैंथर का 24 घंटे पुराना शव
  • श्रीगंगानगर- गजसिंहपुर में विषाक्त भोजन से एक ही परिवार के चार जनों की हालत बिगड़ी
  • राजसमंद-चिकित्सा विभाग पर एसीबी का छापा, बायोमेट्रिक मशीनों की खरीद में घपले की जांच
  • उदयपुर- हिरणमगरी में रेती स्टैण्ड के निकट बाइक सवार ने किया युवती पर हमला, आक्रोशित लोगों ने फूंकी युवक की बाइक
  • बूंदी-रसद विभाग के प्रर्वतन अधिकारी इरफान कुरैशी निलम्बित, दस हजार रुपए रिश्वत लेते हुए थे गिरफ्तार
  • बूंदी- लम्बे समय से बिना सूचना गैर हाजिर जयपुर डिस्कॉम की दो महिला जेईएन निलम्बित
  • जैसलमेर - जवाहर चिकित्सालय के पालना आश्रय स्थल में मृत शिशु मिला
  • बीकानेर-सौर ऊर्जा के क्षेत्र में बीकानेर को मिला पुरस्कार, सौर ऊर्जा के क्षेत्र में देश में दूसरे नम्बर पर है बीकानेर
  • जयपुर-वैशाली नगर में स्पा की आड़ में देहव्यापार का पर्दाफाश, 4 युवतियों सहित एक गिरफ्तार
  • श्रीगंगानगर-सूरतगढ़ क्षेत्र के राधादेवी हत्याकांड का खुलासा, बेटी ने प्रेमी के साथ मिलकर की थी मां की हत्या
  • बाड़मेर-पानी भरने गए दो बच्चों सहित मां की मौत, बच्चों को बचाने के प्रयास में मां की भी डूबने से मौत
  • श्रीगंगानगर-नाबालिग लड़कियों का सौदा करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, पुलिस ने कार्रवाई कर महिला को किया गिरफ्तार
  • हनुमानगढ़-30 जनवरी को होगी डेजर्ट रैली की शुरूआत
  • सिरोही - अनादरा थाना क्षेत्र में शराब से भरा ट्रक पलटा
  • हनुमानगढ़- पीलीबंगा इलाके के एक मकान में रखे सिलेंडर में लगी आग, कई सामान जलकर खाक
  • हनुमानगढ़-रोडवेज की 11 बस 27 जनवरी से चलेंगी नए रूट पर
  • जैसलमेर-मोहनगढ़ में अधिकारियों और किसानों की वार्ता विफल, आज किसान करेंगे धरना-प्रदर्शन
  • हनुमानगढ़- अब 6 फरवरी हुई हज यात्रा के आवेदन की अाखिरी तारीख
  • जैसलमेर- लोहारकी गांव में शराब की दुकान पर मारपीट, दो लोगों की हालत गंभीर
  • झुंझुनूं- 27 जनवरी को आएंगे शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

गुलदाउदी की बिक्री 'गुल'

Patrika news network Posted: 2016-12-01 18:17:02 IST Updated: 2016-12-01 18:17:02 IST
गुलदाउदी की बिक्री 'गुल'
  • गुलदाउदी। जयपुर शहर को जिसने दीवाना कर रखा है, वह नोटबंदी की मार नहीं झेल पाया। यह पहला मौका है जब लोग प्रदर्शनी में आकर सिर्फ गुलदाउदी के फूल को निहार रहे हैं, खरीद नहीं रहे। पांच सौ व हजार के पुराने नोट बंद कर देने व नए नोटों की किल्लत के चलते अधिकतर लोग पौधे खरीदने से बच रहे है।

जयपुर. गुलदाउदी। जयपुर शहर को जिसने दीवाना कर रखा है, वह नोटबंदी की मार नहीं झेल पाया। यह पहला मौका है जब लोग प्रदर्शनी में आकर सिर्फ गुलदाउदी के फूल को निहार रहे हैं, खरीद नहीं रहे। पांच सौ व हजार के पुराने नोट बंद कर देने व नए नोटों की किल्लत के चलते अधिकतर लोग पौधे खरीदने से बच रहे है। राजस्थान विवि में चल रही गुलदाउदी की प्रदर्शनी के तीसरे दिन गुरुवार को इसकी बिक्री फीकी रही है।

खर्चों पर लगाम लगाना शुरू कर दिया

नोटबंदी का असर जीवन के हर क्षेत्र में देखने को मिल रहा है। पिछले 22 दिन में परेशान हो चुके लोगों ने अपने खर्चों पर लगाम लगाना शुरू कर दिया है। खासकर उन खर्चोंं पर जो शौक और पसंद से जुड़े हैं। एेसी ही एक हॉबी है बागवानी। जयपुर में बागवानी के शौकीन लोगों के लिए राजस्थान विवि में हर साल लगने वाली गुलदाउदी प्रदर्शनी आकर्षण का केंद्र होती है। हर साल की तरह इस साल भी दो दिन तक प्रदर्शनी लगने के बाद गुरुवार को तीसरे दिन विवि की नर्सरी से गुलदाउदी की बिक्री शुरू की गई। बिक्री शुरू होते ही एक चौंकाने वाली स्थिति सामने आई।

जहां खरीदते थे 10 गमले वहां खरीद रहे दो या तीन

आमतौर पर जहां हर साल बिक्री शुरू होते ही पहले तीन घंटे में ही पूरे के पूरे गुलदाउदी बिक जाते हैं वहीं इस साल एेसा गुरुवार को शुरू हुई प्रदर्शनी में दोपहर 12 बजे तक तो मात्र 35 प्रतिशत गमलों की बिक्री हुई। नर्सरी में लोग तो पहुंच रहे थे लेकिन वे पिछली साल की तुलना में कम गमले खरीद रहे थे। जो लोग हर साल 10-10 गमले खरीदते थे वे इस बार मात्र 1 या 2 गमले खरीद कर गए। लोगों का कहना था कि नगदी की समस्या के कारण एेसा कर रहे हैं। एेसे में एक ही दिन चलने वाली बिक्री की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जाएगा।

पौधे बच गए तो आगे भी बिक्री की जाएगी

इस बार पिछले सालों की तुलना में कम पौधे बिक रहे हैं। इसकी मुख्य वजह तो नहीं पता है। यह जरूर है कि जो लोग पिछले सालों तक पांच से दस गमले खरीदते थे वे इस बार मात्र एक या दो ही खरीद रहे हैं। पौधे बच गए तो आगे भी बिक्री की जाएगी।

- डॉ. रामअवतार शर्मा, नर्सरी प्रभारी

rajasthanpatrika.com

Bollywood