Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

राजधानी में 100 करोड़ की पुरानी करेंसी! 7 करोड़ बदलने का किया था सौदा नए नोट हाथ में आते ही 35 करोड़ और बदलवाते

Patrika news network Posted: 2017-07-10 07:55:46 IST Updated: 2017-07-10 07:55:46 IST
राजधानी में 100 करोड़ की पुरानी करेंसी! 7 करोड़ बदलने का किया था सौदा नए नोट हाथ में आते ही 35 करोड़ और बदलवाते
  • शहर में 100 करोड़ रुपए से अधिक की पुरानी करेंसी अभी भी जनता के पास है, जिसे मोटे कमीशन का झांसा देकर कई गिरोह बदलवाने में लगे हुए हैं।

जयपुर।

शहर में 100 करोड़ रुपए से अधिक की पुरानी करेंसी अभी भी जनता के पास है, जिसे मोटे कमीशन का झांसा देकर कई गिरोह बदलवाने में लगे हुए हैं। आशंका है कि बैंक अधिकारियों की मिलीभगत से अब भी नोट बदलवाने का खेल चल रहा है। रामगंज में 2.76 करोड़ की पुरानी करेंसी जब्त होने के मामले की पड़ताल में आतंकवाद निरोधक दस्ता (एटीएस) को यह जानकारी लगी है। आतंकी संगठनों को फंडिंग की छनबीन में एटीएस को शहर में पुरानी करेंसी होने का सुराग मिला था। दस दिन से एटीएस की टीम और अन्य सुरक्षा एजेंसियों की कपड़ा व्यापारी संजय जैन, मिठाई विक्रेता रामप्रसाद व होमगार्ड भगवान सिंहसे बात चल रही थी। ये तीनों ही शनिवार रात पुरानी करेंसी के साथ पकड़े गए थे।


नए नोट के बदले 40 फीसदी कमीशन

पहली बार में यह तय हुआ था कि तीनों आरोपित सात करोड़ की पुरानी करेंसी बदलवाएंगे, जिसके एवज में 40 प्रतिशत कमीशन देंगे। तभी तीनों ने कहा था कि सात करोड़ के बाद पुरानी करेंसी के 35 करोड़ रुपए और देंगे। एटीएस टीम की इसी डीलिंग व मुखबिरों की सूचना में यह खुलासा हुआ था कि राजधानी में करीब 100 करोड़ से ज्यादा पुरानी करेंसी है।


आयकर विभाग : 'चल' करेंसी में ही कार्रवाई

नोटबंदी के बाद सभी राज्यों में पुरानी करेंसी पकड़ी गई। पहले जहां एनआरआई के जरिए पुरानी करेंसी बदलने का खेल चला। अब भी यह खेल जारी है। जानकारों के अनुसार इसमें आयकर विभाग की लापरवाही जिम्मेदार है। रामगंज में 2.76 करोड़ की करेंसी के मामले में आयकर विभाग ने हाथ खड़े कर दिए। कहा कि वे चलन वाली करेंसी के मामले में ही कार्रवाई करते हैं, जो करेंसी चलन में नहीं है, उसे पकडऩा और कार्रवाई करना उनका काम नहीं है।


करेंसी माल खाने में जमा

- आयकर अधिकारियों को सूचना दी, उन्होंने भी तीनों आरोपितों से पूछताछ की। रकम थाने के मालखाने में जमा है, अब अनुसंधान के बाद ही आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

चैन सिंह महेचा, एसीपी रामगंज।

rajasthanpatrika.com

Bollywood