Breaking News
  • जयपुर- चाकसू बायपास पर कार की टक्कर से बाइक सवार की मौत
  • बीकानेर- तेहनदेसर गांव में युवक ने पेड़ से लटक कर दी जान
  • बीकानेर से चार नाबालिग लड़कियां गायब, घर से स्कूल के लिए निकली थी
  • जयपुर : विधिक सेवा प्राधिकरण की टीम ने SMS के बांगड़ अस्पताल ​के रैन बसेरे का किया दौरा
  • राजस्थान के सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों की पोशाक तय, शिक्षा सत्र 2017-18 की पोशाक के लिए निर्देश जारी
  • जोधपुर : युवक की पिटाई के मामले में थानेदार पर एफआईआर दर्ज, एसीपी करेंगे जांच
  • धौलपुर : चलती बाइक में लगी आग, बाल-बाल बचे तीन सवार
  • सूरतगढ़ : बाजार में बिजली के खंभे से टकराई कार, बड़ा हादसा टला
  • बीकानेर : किस्तुरिया गांव के पास दो ट्रकों की टक्कर के बाद लगी आग, एक जिंदा जला
  • भीलवाड़ा : कलह के कारण जहरीला पदार्थ खाने वाली महिला ने दम तोड़ा, बेटे व दो पोतों की हालत गम्भीर
  • रोहट (पाली) : जैन मोहल्ले में घर में घुसा चोर, ग्रामीणों ने पकड़ पुलिस को सौंपा
  • जयपुर : पायलट ने की कोटा मामले की न्यायिक जांच की मांग, डूडी ने सरकार को घेरा
  • उदयपुर : मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय में मार्च में शुरू होगा प्रदेश का पहला एयर कैफे
  • राजसमंद : श्रीनाथ ट्रेवल्स परमिट मामले में आरटीओ ने धांधली की बात मानी
  • सीकर : खाटूवासियों ने चढ़ाया बाबा श्याम को निशान
  • जैसलमेर : नहरों में पानी छोड़ने के बाद किसानों का धरना समाप्त
  • राजसमंद : निढाल मिला निशक्त पैंथर, प्राथमिक उपचार के बाद उदयपुर भेजा
  • महाराष्ट्र निकाय चुनावों के नतीजे आज, तय होगा भाजपा-शिवसेना का रिश्ता
  • जयपुर-प्रतापनगर में देर रात छात्रा फंदे से लटकी, सेक्टर १८ की घटना
  • जयपुर- भांकरोटा में देर रात तेज रफ्तार वाहन ने बाइक को टक्कर मारी, युवक की मौत
  • कोटा: पुलिस के समर्थन में छात्रसंघ पदाधिकारी देंगे इस्तीफा
  • अलवरः किशनगढ़वास में पकड़े गए चिकित्सक के कम्प्यूटर से खुल सकते हैं भ्रूण लिंग परीक्षण के कई मामले
  • जयपुरः बकायादारों के बदले तेवर, कुर्की ढोल बजे तो जमा करवाए साढ़े 7 लाख, आज भी चलेगा नगर निगम का वसूली अभियान
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

बस्तर के जंगलों में बैखोफ एके-47 लिए घूमती हैं उषा, बनाई गईं महिला असिस्टेंट कमांडेंट

Patrika news network Posted: 2017-01-12 09:33:35 IST Updated: 2017-01-12 14:43:36 IST
  • उषा किरण अपने परिवार से सीआरपीएफ में सेवा देने वाली तीसरी पीढ़ी हैं, इससे पहले उनके दादा और पिता सीआरपीएफ में रह चुके हैं। साथ ही वो ट्रिपल जंप में गोल्ड मेडल जीत राष्ट्रीय विजेता भी रह चुकी हैं।

बस्तर। (छत्तीसगढ़)

अब महिला भी किसी पुरुष से कम नहीं है, वो पुरुषों की तरह हर वो काम करने में सक्षम है जो लोगों की नजरों में कठिन माना जाता है। आपको बता दें कि लगभग तीन दशक से नक्सलवाद का दंश झेल रहा छत्तीसगढ़ का बस्तर इलाका अब एक महिला सीआरपीएफ जवान की वजह से शांति की ओर कदम बढ़ा रहा है। 



दरअसल, यहां के नक्सल क्षेत्र में पहली किसी महिला को असिसटेंट कमांडेंट का पदभार दिया गया है। जिस कारण काफी चर्चा हो रही है। बस्तर में सीआरपीएफ की पहली महिला असिस्‍टेंट कंमांडेंट उषा किरण के पदभार संभालने के बाद यहां के जवानों का भी हौसला बढ़ गया है। 



गौरतलब हो कि उषा किरण अपने परिवार से सीआरपीएफ में सेवा देने वाली तीसरी पीढ़ी हैं, इससे पहले उनके दादा और पिता सीआरपीएफ में रह चुके हैं। फिलहाल उनके भाई भी फोर्स में अपनी सेवा दे रहे हैं। तो वहीं उषा किरण मूल रुप से गुड़गांव की रहने वाली हैं। साथ ही वो ट्रिपल जंप में गोल्ड मेडल जीत राष्ट्रीय विजेता भी रह चुकी हैं। 



उषा मिशन ने बताया कि वो 2017 को ध्यान में रखकर बस्तर को नक्सलवादियों से पूरी तरह मुक्त करने के इरादे से आई हैं। उनके हौसले को देख यहां के आदिवासियों और लोगों में आशा की किरण चमक उठी है। तो वहीं उषा किरण ने कहा कि वो खुद बस्तर आना चाहती थी, क्योंकि उन्होंने सुना है कि यहां लोग काफी सीधे साधे है और नक्सल प्रभावित होने की वजह से लोगों का विकास नहीं पाया है, जिससे मुझे आने की प्रेरणा मिली। 



महिला असिस्टेंट कमांडेंट के तौर पदभार संभालने के बाद उन्होंने बताया कि इससे पहले वो 332 महिला बटालिन से जुड़ी थी। साथ ही उन्हें अपनी सेवा के रुप में यहां आना स्वीकार किया है। यहां वो सीआरपीएफ की 80 महिला बटालिन में नियुक्त हुई हैं। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood