ऐसा जुर्म किया, अब रहना होगा उम्र भर सलाखों के पीछे

Patrika news network Posted: 2017-05-19 22:27:59 IST Updated: 2017-05-19 22:31:16 IST
ऐसा जुर्म किया, अब रहना होगा उम्र भर सलाखों के पीछे
  • अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश सोजत ने दिया फैसला

pali

ऐसा जुर्म किया, अब रहना होगा उम्र भर सलाखों के पीछे

सोजत (निप्र)

करीब दो वर्ष पुराने हत्या के एक मामले की सुनवाई करते हुए शुक्रवार को अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश सोजत दलपतसिंह राजपुरोहित आरएचजेएस ने फैसला सुनाया। जिसमें पांच आरोपितों को बूटेलाव निवासी ग्यारराम बावरी की हत्या का दोषी मानते हुए आजीवन कारावास एवं पांच-पांच हजार रुपए के अर्थदंड की सजा सुनाई।

अपर लोक अभियोजक ताराचन्द टांक ने बताया कि १४ जुलाई २०१५ को रात्रि करीब साढ़े दस बजे ग्यारराम बावरी अपने पिता के लिए बीडिय़ा लेने घर से निकला। जगदीश के घर के पास से निकला तो आपसी रंजिश के चलते पहले से ही उसे मारने की तैयारी में बैठे बूटेलाव निवासी वचनाराम पुत्र गंगाराम, श्रवण पुत्र वचनाराम, पिन्टू उर्फ पिन्टिया पुत्र वचनाराम, कानाराम पुत्र गंगाराम, बक्साराम पुत्र कानाराम बावरी ने उसे रोका तथा लाठियों से मारपीट की। सिर में गंभीर चोट लगने से ग्यारराम की मौत हो गई। मामला दर्ज होने पर सोजत थाना पुलिस ने जांच के बाद न्यायालय में चालान पेश किया। शुक्रवार को सुनवाई करते हुए अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश सोजत दलपतसिंह राजपुरोहित ने बूटेलाव निवासी वचनाराम पुत्र गंगाराम, श्रवण पुत्र वचनाराम, पिन्टू उर्फ पिन्टिया पुत्र वचनाराम, कानाराम पुत्र गंगाराम, बक्साराम पुत्र कानाराम बावरी को ग्यारराम बावरी की हत्या का दोषी मानते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई। साथ ही यह राशि जमा नहीं करने पर छह-छह माह के अतिरिक्त कारावास से दंडित करने की सजा सुनाई।

rajasthanpatrika.com

Bollywood