Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

अब टी-20 अंदाज़ में पढ़ें खबरें, यहां जानें 17 जुलाई की बड़ी- ताज़ा और रोचक खबरें

Patrika news network Posted: 2017-07-17 08:38:36 IST Updated: 2017-07-17 08:41:27 IST
अब टी-20 अंदाज़ में पढ़ें खबरें, यहां जानें 17 जुलाई की बड़ी- ताज़ा और रोचक खबरें
  • भागदौड़ भरी जिंदगी में हम आपके लिए लाए हैं फ़टाफ़ट फॉर्मेट में बड़ी और दिलचस्प खबरें। अगर आप तमाम बड़ी खबरें नहीं पढ़ पाए हैं या फिर आपके पास समय की कमी है तो एक ही खबर में पढ़िए अब तक की बड़ी व महत्वपूर्ण खबरें।

राष्ट्रपति चुनाव आज, राजस्थान विधानसभा में भी होगा मतदान, कोविंद को 171 आैर मीरा को 28 विधायकों के समर्थन का दावा

नई दिल्ली/जयपुर। देश के अगले राष्ट्रपति के लिए आज मतदान होगा और 20 जुलाई को वोटों की गिनती होगी। इसके लिए एनडीए की तरफ रामनाथ कोविंद और विपक्ष की तरफ से मीरा कुमार मैदान में हैं। मौजूदा राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल आगामी 24 जुलाई को पूरा हो रहा है। नए राष्ट्रपति 25 को कार्यभार संभालेंगे। संसद में दोनों सदनों के सांसद 23 जुलाई को राष्ट्रपति मुखर्जी को विदाई देंगे।

देश के नए राष्ट्रपति के लिए विभिन्न राज्यों के साथ प्रदेश के विधायक भी सोमवार को सुबह 10 से शाम 5 बजे तक विधानसभा में मतदान करेंगे। जयपुर में 199 विधायक मतदान करेंगे। अशोक गहलोत गुजरात में अपना वोट डालेंगे। एनडीए ने राष्ट्रपति पद पर बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद और यूपीए ने पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार को उम्मीदवार बनाया है।

मतदान की प्रक्रिया को लेकर भाजपा ने रविवार को अपने सभी विधायकों को प्रशिक्षण दिया। संसदीय कार्य मंत्री राजेन्द्र राठौड़ ने  विधायकों को बताया कि मतपत्र में पहले नंबर पर मीरा कुमार और दूसरे नंबर पर रामनाथ कोविंद का नाम है। मतपत्र पर किसी तरह का निशान नहीं बनाया जाए और उसी पेन का इस्तेमाल करें, जो चुनाव आयोग देगा। खुद के पेन का इस्तेमाल नहीं करें। साथ ही सबको यह भी बताया गया कि सभी विधायक सुबह दस बजे तक विधानसभा में हां पक्ष लॉबी में पहुंच जाएं। भाजपा ने तय किया है कि सभी मंत्री चार से पांच विधायकों को अपने साथ ले जाकर वोट डलवाएंगे, जिससे किसी तरह की परेशानी ना हो। सभी को यह भी निर्देश दिए गए हैं कि वोट दिखाकर नहीं देना है। इसलिए राज्यसभा चुनाव की तरह कोई गलती ना की जाए। सही तरीके से वोट डाला जाए।

यह है वोटों का गणित, भाजपा के पास 85 प्रतिशत से ज्यादा वोट

सूत्रों के मुताबिक भाजपा को विश्वास है कि राजस्थान में कोविंद के समर्थन में कम से कम 171 वोट पड़ेंगे। वहीं कांग्रेस को विश्वास है कि मीरा कुमार के पक्ष में 28 वोट डाले जाएंगे। एेसे में एक निर्दलीय के वोट की स्पष्ट स्थिति नहीं है। भाजपा की कोशिश है कि हर हाल में सुबह तक इस संख्या को बढ़ाया जाए। राजपा और जमींदारा पार्टी के छह विधायक और चार निर्दलीय कोविंद को वोट  देने के लिए पहले ही समर्थन दे चुके हैं। उधर, कांग्रेस के पास 24 तो खुद के विधायक हैं, जबकि कांग्रेसी दावा कर रहे हैं कि दो निर्दलीय उनके साथ हैं, जबकि बसपा के दो सदस्य भी यूपीए उम्मीदवार के साथ हैं। जिन 17 दलों ने मीरा कुमार को समर्थन दे रखा है, बसपा इन दलों में शामिल है।

94 प्रतिशत सांसदों के वोट

सांसदों के प्रदेश में 35 वोट है। 25 लोकसभा और 10 राज्यसभा सदस्य हैं। लोकसभा के सभी सदस्य भाजपा के हैं और राज्यसभा के दस में से आठ भाजपा के हैं। एेसे में भाजपा के पास प्रदेश से 94 प्रतिशत सांसदों के वोट हैं। वहीं, कांग्रेस के खाते में मात्र दो ही सांसद है, जो इस समय राज्यसभा में है। सांसद अपना वोट सोमवार को दिल्ली में ही डालेंगे।

पोलिंग एजेंट नियुक्त

भाजपा व कांग्रेस विधायक दलों की बैठक में दोनों पार्टियों ने पोलिंग एजेंट नियुक्त किए। भाजपा ने नगरीय विकास मंत्री श्रीचंद कृपलानी और कांग्रेस ने रमेश मीणा व गोविंद डोटासरा को पोलिंग एजेंट नियुक्त किया है।



जम्मू-कश्मीर: रामबन में एसआरटीसी की बस खाई में गिरी,16 श्रद्धालु की मौत,19 घायल


श्रीनगर।

जम्मू कश्मीर के रामबन जिले में जम्मू -श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर रविवार को अमरनाथ यात्रियों को ले जा रही राज्य सड़क परिवहन निगम(एसआरटीसी) की बस गहरी खाई में गिर गई। इस हादसे में जाने से कम से कम 16 श्रद्धालुओं की मौत हो गई और 19 अन्य घायल हो गए हैं। 


पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि एसआरटीसी की बस नंबर जेके02वाई-0594 दोपहर के आसपास यात्रियों को लेकर अमरनाथ जा रही थी और रामबन में रामसू के समीप नचलाना के समीप एक गहरी खाई में गिर गई। इस हादसे में 16 श्रद्धालुओं की मौके पर ही मौत हो गई और 19 अन्य घायल हो गए। इनमें 11 की हालत बहुत ही नाजुक है। इन यात्रियों को हेलीकॉप्टर के जरिए जम्मू भेजा गया है और मामूली रूप से घायल आठ लोगों को रामबन अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 


राजनाथ व राहुल ने जताया शोक 

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बस दुर्घटना में अमरनाथ यात्रियों की मौत पर शोक जताया और इस संबंध में राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती से बातचीत की। राजनाथ सिंह ने ट्वीट करके कहा कि मुख्यमंत्री ने उन्हें वहां चल रहे बचाव कार्यों से अवगत कराया है। 


घटना पर शोक व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि बस दुर्घटना में यात्रियों की मौत पर मैं उनके परिजनों के प्रति समवेदना व्यक्त करता हूं और घायलों के शीघ स्वस्थ होने की कामना करता हूं।


कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस दुर्घटना पर शोक व्यक्त किया और पीड़ति परिवारों के सदस्यों के प्रति संवदेना व्यक्त की। राहुल गांधी ने ट्वीट किया कि अमरनाथ यात्रा पर गए श्रद्धालुओं की बस दुर्घटना के कारण आज हुई मौत खबर सुनकर दुखी हूं। मैं पीड़ति परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं। 



सर्वदलीय बैठक में बोले पीएम मोदी- गोरक्षा के बहाने हिंसा करने पर होगी सख्त कार्रवाई

नई दिल्ली।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि गोरक्षा के नाम पर हिंसा को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और इसमें शामिल लोगों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। संसद के सुचारु संचालन के लिए मानसून सत्र की पूर्वसंध्या पर यहां संसद भवन में आयोजित सर्वदलीय बैठंक की अध्यक्षता करते हुए मोदी ने गोरक्षा के नाम पर हिंसा करने वालों को सख्त चेतावनी दी और कहा कि राज्य सरकारों को भी ऐसे लोगों के खिलाफ कड़े कदम उठाने की हिदायत दी गई है। 


उन्होंने कहा कि इस तरह की हिंसा को राजनीतिक लाभ के लिए सांप्रदायिक रंग देकर देश का भला नहीं किया जा सकता। बैठक के बाद संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार ने संवाददाताओं को सर्वदलीय बैठक के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने सख्त लहजे में कहा कि देश में गोरक्षा की भावना है लेकिन इसके नाम पर हिंसा बर्दाश्त नहीं की जाएगी। इस संबंध में राज्य सरकारों को भी मशविरा दिया गया है कि गोरक्षा के नाम पर होने वाली हिंसा को लेकर सख्त कार्रवाई की जाए। 


मोदी ने कहा कि राज्य सरकारों से कहा गया है कि गोरक्षा के नाम पर हिंसा फैलाने वालों को बख्शा नहीं जाना चाहिए। इस तरह की घटनाओं से राष्ट्र का भला नहीं किया जा सकता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि गोरक्षा के नाम पर कई लोग निजी दुश्मनी के कारण कानून हाथ में लेकर भयानक अपराध कर रहे हैं। 


जो लोग अपनी दुश्मनी का बदला लेने के लिए ऐसी घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं, उनके खिलाफ कठोर कार्रवाई जरूरी है। उन्होंने कहा कि यह ठीक है कि गाय को मां कहा जाता है लेकिन इसके बहाने कानून हाथ में लेने का अधिकार किसी को नहीं है। देश के विभिन्न हिस्सों में गोरक्षा के नाम आए दिन ङ्क्षहसा की खबरें आ रही हैं और लोगों की पीट -पीटकर हत्या की जा रही है।मोदी इससे पहले भी गोरक्षकों को हिंसा नहीं करने की सलाह दी थी।



विमान दुर्घटना में नहीं हुई थी नेताजी की मौत, फ्रांस की खुफिया रिपोर्ट में दावा

पेरिस।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत कैसे हुई यह आज तक रहस्य है। इस सवाल के जवाब के लिए भारत सरकार अब तक तीन कमेटियां गठित कर चुकी हैं। जहां 1956 में गठित शहनवाज कमेटी और 1970 में बनी खोसला आयोग ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र की मौत 18 अगस्त 1945 को जापान के ताइपे के ताईहोकु एयरपोर्ट पर विमान दुर्घटना में हुई वहीं 1999 में गठित मुखर्जी आयोग की रिपोर्ट में कहा गया कि उनकी मौत विमान दुर्घटना में नही हुई थी। हालांकि, सरकार ने मुखर्जी आयोग के दावे को खारिज कर दिया। लेकिन जांच से जुड़े लोगों पर रोक नहीं लगाई। वहीं अब पेरिस के इतिहासकार जेबीपी मोरे ने 11 दिसंबर 1947 की एक फ्रेंच सीक्रेट सर्विस रिपोर्ट के आधार पर कहा है कि नेताजी की मौत हवाई दुर्घटना में नहीं हुई थी।

पेरिस में पढ़ाने वाले मोरे कहते हैं कि कागजातों में भी नहीं लिखा है कि बोस की मौत हवाई दुर्घटना में हुई थी। मोरे ने होट कमिसरीट डी फ्रांस फॉर इंडोचाइना एसडीईसीई इंडोचाइना बेस बीसीआरआई नंबर 41283 सीएसएएच ईएक्स नंबर 616, शीर्षक वाली रिपोर्ट का हवाला दिया है।

ब्रिटेन व जापान ने किया था दावा

गौरतलब है कि ब्रिटेन और जापान ने कहा था कि नेताजी की टोक्यो जाते समय एक हवाई दुर्घटना में मौत हो गई थी। हालांकि फ्रांस सरकार ने इसपर चुप्पी साध रखी थी। वियतनाम/इंडोचाइना 1940 फ्रांसीसी उपनिवेश था। वहीं किंगशुक नाग जैसे विद्वानों का भी कहना है कि इस बात को सीरियसली लिया जाना चाहिए।

1947 तक उनके ठिकाने के बारे में थी खबर

एक रिपोर्ट में मोरे ने लिखा है कि नेताजी भारत-चीन सीमा से जिंदा बच निकले थे और 1947 तक जिंदा भी थे और उनके ठिकाने के बारे में भी खबर थी। मोरे ने रिपोर्ट का हवाला देते हुए बताया कि वह जापान की हिकारी किकान के सदस्य होने के साथ-साथ इंडियन इंडिपेंडेंस लीग के पूर्व मुखिया भी थे।

rajasthanpatrika.com

Bollywood