Breaking News
  • चित्‍तौड़गढ़ : निम्बाहेडा में अवैध रुप से गोवंश ले जाते दाे ट्रक जब्‍त, एक ग‍िरफ्तार एक फरार
  • प्रतापगढ़:पानी और सफाई की मांग पर महिलाओं का गुस्सा फूटा, मिनिसचिवालय पर प्रदर्शन किया
  • चूरू: एसबीबीजे बैंक में अज्ञात ने बैग में चीरा लगाकर निकाले 50 हजार रुपए
  • जोधपुर:भोपालगढ़ की अरटिया कलां सरपंच के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज, सार्वजनिक चौक की जमीन की खुर्द बुर्द
  • अलवर: लूटपाट और दर्जनों ATM काटने में आरोपी को किया हथियार सहित गिरफ्तार
  • जयपुर:डोटासरा ने की विधायक मेघवाल, आनंदपाल और अन्य प्रकरणों की जांच सदन में रखने की मांग
  • जयपुर :अवैध सब्जी मंडी हटाने को लेकर वैशाली मार्ग पश्चिम व्यापार मंडल का प्रदर्शन
  • जयपुर: शाहपुरा में एम्बुलेंस और हरियाणा रोडवेज़ बस में भिड़ंत,आधा दर्जन लोग घायल
  • हनुमानगढ़: दहेज हत्या में पति और सास-ससुर को दस साल की सजा, गांव सलेमगढ़ मसानी का मामला
  • करौली: पांचना बांध में डूबने से दो जनों की मौत
  • पाली:जैतारण के गरनिया में वृद्धा के गले से सोने की कंटी लूटी
  • भीलवाड़ा: नाबाल‍िग से छेड़छाड़ के मामले मेें समुदाय व‍िशेष का युवक ग‍िरफ्तार
  • सवाईमाधोपुर: बाल कल्याण समिति से भागे बालक-बालिका
  • जोधपुर : टेकरा में डिस्कॉम के तकनीकी सहायक के साथ मारपीट, चिकित्सालय में भर्ती
  • जयपुर : योगा और प्राकृतिक चिकित्साधिकारी की होगी सीधी भर्ती, कार्मिक विभाग ने जारी की अधिसूचना
  • उदयपुर : घूसखोर फरार कांस्टेबल ने सवा पांच माह बाद किया आत्मसमर्पण, भेजा जेल
  • उदयपुर : चित्रकूट नगर की पहाड़ियां धधकीं, तेजी से बढ़ रही है आग, नहीं पहुंच पा रही दमकल
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

गोवा के एक गांव में राजा-महाराजा के पोस्टर-बैनर पर प्रतिबंध

Patrika news network Posted: 2017-02-17 18:50:33 IST Updated: 2017-02-17 18:50:33 IST
गोवा के एक गांव में राजा-महाराजा के पोस्टर-बैनर पर प्रतिबंध
  • फारिया ने कहा, ''जहां तक पंचायत का सवाल है, तो हम बीते साल 18 नवंबर को पारित प्रस्ताव के अनुरूप कदम उठा रहे हैं जिसमें राजाओं-महाराजाओं के पोस्टर-बैनर पर रोक लगाने का प्रावधान है।

पणजी।

चाहे मैसूर के राजा टीपू सुल्तान हों या फिर मराठा सम्राट छत्रपति शिवाजी, दक्षिण गोवा के एक गांव में किसी भी राजा-महाराजा का पोस्टर-बैनर लगाने पर प्रतिबंध है। गांव की पंचायत के इस फैसले से छत्रपति शिवाजी के समर्थक चकित हैं।


रुमदामोल-दावोरलिम गांव की पंचायत ने एक लिखित जवाब में शिव समाज संघ को शिवाजी की जयंती के मौके पर बैनर लगाने की अनुमति देने से मना कर दिया है। पंचायत ने इस सिलसिले में एक आधिकारिक प्रस्ताव का हवाला दिया जिसमें पंचायत क्षेत्र के अंदर किसी भी राजा-महाराजा का बैनर लगाने पर रोक लगाई गई है।


शिव समाज के सदस्य महादेव विरदीकर ने गुरुवार को आईएएनएस से कहा, ''हम पंचायत के फैसले के खिलाफ अपील करेंगे। यह हास्यास्पद है कि शिवाजी के प्रशंसक उनकी जयंती पर उनका बैनर नहीं लगा सकते। पश्चिमी भारतीय राज्यों में 18 फरवरी को शिव जयंती मनाई जानी है।


पंचायत ने शिव समाज को भेजे अपने 15 फरवरी के पत्र में कहा है, ''अपने 13 फरवरी के पत्र का संदर्भ लें। आपको यह सूचित करना है कि इस पंचायत ने प्रस्ताव के अनुरूप रुमदामोल-दावोरलिम क्षेत्र में किसी भी राजा-महाराजा का बैनर लगाने के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी नहीं करने का फैसला किया है।


पणजी से 45 किलोमीटर दूर स्थित रुमदामोल-दावोरलिम के पंचायत सचिव कस्टोडिओ फारिया ने बताया कि राजा-महाराजा के बैनर-पोस्टर पर रोक लगाने का प्रस्ताव पंचायत ने बीते साल पारित किया था। यह फैसला पिछले साल गांव में टीपू सुल्तान का बैनर लगाए जाने के बाद पैदा हुई कानून-व्यवस्था की स्थिति के मद्देनजर लिया गया।


फारिया ने कहा, ''जहां तक पंचायत का सवाल है, तो हम बीते साल 18 नवंबर को पारित प्रस्ताव के अनुरूप कदम उठा रहे हैं जिसमें राजाओं-महाराजाओं के पोस्टर-बैनर पर रोक लगाने का प्रावधान है।

rajasthanpatrika.com

Bollywood