VIDEO: चीता हेलीकॉप्टर क्रेश के बाद फिर उठे सवाल- आखिर कब तक हमारी सेना करेगी मौत की सवारी?

Patrika news network Posted: 2016-12-01 15:02:08 IST Updated: 2016-12-01 15:11:06 IST
  • लगातार हो रहे क्रेश की वजह से चीता एक बार फिर सुर्ख़ियों में है। सेना के अफसरों की पत्नियां चीता और चेतक दोनों को हटाने की मांग कर चुके हैं।

पश्चिम बंगाल के सुकना सैन्य शिविर में एक चीता हेलीकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त होने और इस दर्दनाक घटना में तीन सैन्य अधिकारियों की मौत होने के बाद कई तरह के सवाल खड़े होने लगे हैं। ख़ास तौर पर सवाल उठ रहा है कि आखिर चीता हेलीकॉप्टर कितना सुरक्षित है ? आखिर क्या वजह है कि चीता के बार-बार दुर्घटनाग्रस्त होने के बावज़ूद भी इसे हवाई बेड़े में शामिल किया हुआ है।


चीता हेलीकॉप्टर के अब तक के सफर के बारे में बात करें तो साल 1980 से अब तक इस तरह के 100 से ज्यादा हादसे हुए हैं। 1960 से आर्मी का हिस्सा बने हुए चीता हेलीकॉप्टर में चेतक की तरह एक ही इंजन है।  



लगातार हो रहे क्रेश की वजह से चीता एक बार फिर सुर्ख़ियों में है।  सेना के अफसरों की पत्नियां चीता और चेतक दोनों को हटाने की मांग कर चुके हैं। दरअसल, इसे हटाने के पीछे तर्क दिया जा रहा है कि चीता हेलीकॉप्टर 1960 की फ़्रांसिसी तकनीक के आधार पर बना हुआ है, जो वक्त के साथ काफी पुराना हो चला है। 




ख़ास बात ये भी है कि 1990 में दुनिया के अन्य देशों ने इसका प्रोडक्शन बंद कर दिया है।  ऐसे में सवाल उठ रहा है कि आखिर हमारी सेना कब तक इस मौत की सवारी को यूं ही 'ढोती' रहेगी?

rajasthanpatrika.com

Bollywood