Breaking News
  • भीलवाड़ा- शिवसेना की भगवा रैली से पुलिस ने हटाया डीजे, शिवसेना कार्यकर्ताओं ने किया विरोध
  • धौलपुर- हड्डी विशेषज्ञ की अनुपस्थिति से नहीं बन सके दिव्यांगों के प्रमाण पत्र, दिव्यांग हुए परेशान
  • धौलपुर- मतदाता जागरुकता के लिए यूपी बॉर्डर तक बनाई जाएगी 130 किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला
  • धौलपुर- शिक्षक हटाने के विरोध में छात्रों ने किया कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन, कलेक्टर को दिया ज्ञापन
  • चूरू- घंटेल गांव में छेड़छाड़ से परेशान नाबालिग किशोरी की कुंड में गिरने से मौत
  • श्रीगंगानगर- गजसिंहपुर कस्बे में होटल और दुकान के ताले तोड़कर चोरी
  • भरतपुर- नदबई कस्बे में बैंककर्मी बनकर दिया महिला को झांसा, 10 हजार लेकर फरार हुआ आरोपी
  • प्रतापगढ़- नौकरी की मांग को लेकर 4 विद्यार्थी मित्रों ने टंकी पर चढ़कर किया प्रदर्शन
  • जैसलमेर- वन्यजीव अपराध नियंत्रण को लेकर विशेषज्ञ दे रहे हैं वन विभाग के कर्मचारियों को प्रशिक्षण
  • जैसलमेर- पंचायत में हुए कार्यों की जांच कराने की मांग को लेकर बडोडा गांव के ग्रामीणों ने अटल सेवा केंद्र पर लगाया ताला
  • जैसलमेर- 8 घंटे बिजली रही गुल, लोग हुए परेशान
  • अलवर- सरिस्का में फायरिंग का आरोपी शिकारी मुंडावर से गिरफ्तार, पुलिस ने किया कोर्ट में पेश
  • जालोर- मुंथलाकाबा गांव में रंजिश के चलते दो भाइयों में खूनी संघर्ष, एक की मौत
  • अलवर - शाॅर्ट सर्किट से मोबाइल की दुकान में लगी आग, डेढ़ लाख रुपए का सामान जलकर खाक
  • राजसमंद- निजी संस्थानोंं को फायदा पहुंचाने के मामले में जिला परिवहन कार्यालय में एसीबी की कार्रवाई
  • जयपुर- अब नीलामी से होंगे खान के सभी आवंटन, खान विभाग ने जारी की अधिसूचना
  • हनुमानगढ़- जिले में ढाई हज़ार बालिकाओं को मिलेगा प्रोत्साहन और गार्गी पुरस्कार
  • पाली- मारवाड़ जंक्शन की काली घाटी में बेकाबू होकर पलटी बोरिंग मशीन की गाड़ी
  • चूरू-जिला परिषद के भवन पर चढ़ा आवारा सांड
  • अलवर- जामडोली के अटल सेवा केंद्र में ईएनटी शिविर का आयोजन
  • पाली-अनोपपुरा से शराब चोरी के दो आरोपी गिरफ्तार
  • जैसलमेर- फलसुण्ड पुलिस ने चोरी के आरोपियों को किया कोर्ट में पेश, कोर्ट ने जेल भेजने के दिए आदेश
  • जालोर-कॉलेज छात्र संघ महासचिव ने एबीवीपी पदाधिकारी को मारा थप्पड़
  • बाड़मेर- आदर्श विद्या मंदिर के विद्यार्थियों ने निकाला पथ-संचलन
  • सवाईमाधोपुर- बोली में जहरीला दाना खाने से आधा दर्जन मोरों समेत दो दर्जन पक्षियों की मौत
  • श्रीगंगानगर- सेतिया फार्म से चोर बाइक चोरी कर ले गए
  • श्रीगंगानगर- नेहरा नगर झुग्गियों के पास कचरे में पड़ा मिला भ्रूण
  • अलवर- बरेली एक्सप्रेस में विस्फोटक की सूचना से हड़कंप, जांच के बाद किया गया रवाना
  • श्रीगंगानगर- प्रेम प्रसंग के चलते युवक के पिता और भाई पर फायरिंग, चक 34 एमजेडी की घटना
  • अलवर- जानलेवा हमले के फरार आरोपी को तिजारा पुलिस ने किया गिरफ्तार
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

पाक अधिकृत कश्मीर से आए शरणार्थियों को मोदी सरकार ने दिया सबसे बड़ा राहत पैकेज

Patrika news network Posted: 2016-12-01 13:01:14 IST Updated: 2016-12-01 13:01:47 IST
पाक अधिकृत कश्मीर से आए शरणार्थियों को मोदी सरकार ने दिया सबसे बड़ा राहत पैकेज
  • इन परिवारों में ऐसे लोग हैं जो 1947 के विभाजन के दौरान विस्थापित हो गए थे और बाकी के परिवार 1965 और 1971 की भारत - पाक युद्ध के समय स्थान परिवर्तन किए थे।

पाक अधिकृत कश्मीर से आए शरणार्थियों के लिए मोदी सरकार ने 2000 करोड़ रुपए की एक पैकेज की घोषणा की है। इसके लिए जम्मू कश्मीर सरकार ने ऐसे 36,348 शरणार्थी परिवारों की पहचान कर केंद्र सरकार को बता दिया है। ध्यान हो कि जम्मू-कश्मीर में बसे पश्चिमी पाकिस्तान से आए विस्थापितों की दिक्कतों को देखते हुए मोदी सरकार ने जनवरी 2015 में शरणार्थियों के लिए कुछ रियायतों को मंजूर किया था।



गौरतलब हो कि POK से आए इन परिवारों के पहचान के बाद हर परिवार को सरकार के तरफ से 5 लाख रुपए मिलेगा। साथ इस पैकेज का उपयोग पाक अधिकृत कश्मीर से आए शरणार्थियों के विकास कार्यों पर खर्च किया जाएगा। ये सभी शरणार्थी पाकिस्तान के पश्चिमी इलाके POK से आकर जम्मू, कठुआ और राजौरी जिलों के अलग - अलग हिस्सों में रह रहे हैं। बावजूद इसके वो जम्मी कशमीर के संविधान के मुताबिक राज्य के स्थाई निवासी के अंतर्गत नहीं आते हैं। 



इन परिवारों में ऐसे लोग हैं जो 1947 के विभाजन के दौरान विस्थापित हो गए थे और बाकी के परिवार 1965 और 1971 की भारत - पाक युद्ध के समय स्थान परिवर्तन किए थे। ये सभी शरणार्थी लोकसभा चुनाव के दौरान तो वोट डाल सकते हैं लेकिन जम्मू कश्मीर विधानसभा चुनावों में इनको वोट डालने की अनुमति नहीं है। 



इससे पहले अगस्त महीने में पाक पाक अधिकृत कश्मीर से आए परिवारों के लिए जम्मू कश्मीर शरणार्थी कार्य समिति ने सरकार से 9,200 करोड़ रुपए की मांग की थी। मोदी सरकार ने इन विस्थापित परिवारों के लिए जिन रियायतों को मंजूरी दी है उसमें अर्धसैनिक बलों में भर्ती करने के लिए विशेष भर्ती अभियान चलाने के अलावा राज्य में समान रोजगार अवसर उपलब्ध कराने के साथ - साथ शरणार्थियों के बच्चों को केंद्रीय विद्यालयों में दाखिला से जुड़े कई अहम फैसले शामिल हैं।

rajasthanpatrika.com

Bollywood