Breaking News
  • उदयपुर : सेना के कैम्पस एकलिंगगढ़ छावनी के पास भीषण आग, दमकल पहुंचीं
  • जोधपुर : पांच दिन से नहीं चल रही बस, फिर भी दिया एडवांस टिकट, रोडवेज की कारगुजारी
  • उदयपुर:सेना की एकलिंगगढ़ छावनी के पास भीषण आग,एसपी-कलक्टर मौके पर
  • सीकर : देह व्यापार में शामिल नेपाल की कॉल गर्ल, दलाल एवं होटल मैनेजर को जेल
  • किशनगढ़ : 50 लाख की अवैध शराब जब्त, चालक-खलासी हिरासत में
  • करौली : कई स्थानों पर आयकर की कार्रवाई, हिंडौन सिटी में भी छापे
  • नागौर : पैदल सड़क पार कर रहे पंजाब निवासी ट्रक चालक को बोलेरो ने मारी टक्कर, मौके पर ही मौत
  • जोधपुर:पावटा चौराहे के पास सड़क किनारे मिला बालिका का भ्रूण
  • बांसवाड़ा : गर्मी ने किया हाल बेहाल, मार्च में ही पारा 44 के पार
  • अलवर : ज्वैलरी खुर्द-बुर्द करने वाली मां गिरफ्तार, रेलवे में है कर्मचारी, मोहम्मद नूर हत्याकांड मामला
  • बांसवाड़ा : कार की चपेट में आने से बालिका घायल, उदयपुर लिंक रोड पर कर रही थी सड़क पार
  • उदयपुर : मसाज पार्लर संचालक के खिलाफ 20 घंटे में चालान पेश, ऑस्ट्रिया की महिला से छेड़छाड़ का मामला
  • भीलवाड़ा : सवा किलो अफीम के साथ गिरफ्तार किए गए तीन जनों को किया कोर्ट में पेश, लिया रिमांड पर
  • दौसा : राजस्थान स्थापना दिवस को लेकर कलक्ट्रेट से गेटोलाव तक निकाली साइकिल रैली
  • जोधपुर : पावटा चौराहे के पास सड़क किनारे मिला बालिका का भ्रूण, फैली दहशत
  • जयपुर : विधानसभा ने बनाया इतिहास, 2010 के बाद चला सबसे लंबा सदन, 16 घंटे 27 मिनट चला
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

शोध: गर्भधारण में समस्या बन सकता है मोटापा

Patrika news network Posted: 2017-03-18 11:09:11 IST Updated: 2017-03-18 11:14:47 IST
शोध: गर्भधारण में समस्या बन सकता है मोटापा
  • भारत में चिकित्सा विशेषज्ञों ने एक वैश्विक शोध के निष्कर्ष का समर्थन किया है, जिसमें कहा गया है कि ज्यादा वजन वाली महिलाओं को गर्भधारण करने में थोड़ा अधिक समय लगता है।

नई दिल्ली

भारत में चिकित्सा विशेषज्ञों ने एक वैश्विक शोध के निष्कर्ष का समर्थन किया है, जिसमें कहा गया है कि ज्यादा वजन वाली महिलाओं को गर्भधारण करने में थोड़ा अधिक समय लगता है। 


सर्जन डॉ. एम.जी. भट्ट ने बताया कि अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ (एनआईएच) में हाल ही में हुए एक शोध के अनुसार, अगर पति-पत्नी दोनों ही वजनी या मोटे हैं, तो पत्नी को गर्भधारण करने में सामान्य लोगों से 55 से 59 फीसदी ज्यादा समय लगता है।


उन्होंने कहा कि एनआईएच का शोध भारत के लिए भी काफी प्रासंगिक है, क्योंकि देश में बहुत से लोग मोटापे के शिकार हैं। एनआईएच की ओर से किया गया यह शोध 'मून रिप्रोडक्शन' जनरल में प्रकाशित हुआ है। 


एनआईएच के वरिष्ठ शोधकर्ता राजेश्वरी सुंदरम ने कहा कि प्रजनन और शारीरिक बनावट पर किए गए बहुत से शोध महिलाओं को केंद्र में रखकर ही किए गए हैं, लेकिन हमारी खोज से पता चलता है कि गर्भावस्था के लिए स्त्री और पुरुष दोनों की शारीरक बनावट का अध्ययन करना महत्वपूर्ण है। 


हमारे शोध के नतीजे यह भी संकेत देते हैं कि प्रजनन विशेषज्ञ नि:संतान दंपतियों से चर्चा के दौरान दोनों की शारीरिक बनावट पर विचार करना चाहते हैं। डॉ. भट्ट ने बताया कि मोटापे से शरीर का हार्मोन की प्रणाली बदल जाती है और इंसुलिन बनने में रुकावट आती है। ज्यादा वजन वाली महिलाएं मासिक धर्म में गड़बड़ी और पीसीओडी के साथ सामाजिक, सामान्य और मनोवैज्ञानिक समस्याएं भी झेलती हैं। 


उन्होंने कहा कि इन महिलाओं पर बांझपन या गर्भावस्था धारण न करने के इलाज का अच्छा असर नहीं होता। उन्हें गर्भधारण करने में भी समस्या होता है। उचित खान-पान के साथ वजन कम करने और व्यायाम से उनके गर्भधारण करने की संभावना में नाटकीय रूप से सुधार आता है। वजन कम करने के लिए किए जाने वाले ऑपरेशन और वजन कम करने के बाद कई ज्यादा वजन की महिलाएं गर्भवती हो सकी हैं।

rajasthanpatrika.com

Bollywood