Breaking News
  • उदयपुर : सेना के कैम्पस एकलिंगगढ़ छावनी के पास भीषण आग, दमकल पहुंचीं
  • जोधपुर : पांच दिन से नहीं चल रही बस, फिर भी दिया एडवांस टिकट, रोडवेज की कारगुजारी
  • उदयपुर:सेना की एकलिंगगढ़ छावनी के पास भीषण आग,एसपी-कलक्टर मौके पर
  • सीकर : देह व्यापार में शामिल नेपाल की कॉल गर्ल, दलाल एवं होटल मैनेजर को जेल
  • किशनगढ़ : 50 लाख की अवैध शराब जब्त, चालक-खलासी हिरासत में
  • करौली : कई स्थानों पर आयकर की कार्रवाई, हिंडौन सिटी में भी छापे
  • नागौर : पैदल सड़क पार कर रहे पंजाब निवासी ट्रक चालक को बोलेरो ने मारी टक्कर, मौके पर ही मौत
  • जोधपुर:पावटा चौराहे के पास सड़क किनारे मिला बालिका का भ्रूण
  • बांसवाड़ा : गर्मी ने किया हाल बेहाल, मार्च में ही पारा 44 के पार
  • अलवर : ज्वैलरी खुर्द-बुर्द करने वाली मां गिरफ्तार, रेलवे में है कर्मचारी, मोहम्मद नूर हत्याकांड मामला
  • बांसवाड़ा : कार की चपेट में आने से बालिका घायल, उदयपुर लिंक रोड पर कर रही थी सड़क पार
  • उदयपुर : मसाज पार्लर संचालक के खिलाफ 20 घंटे में चालान पेश, ऑस्ट्रिया की महिला से छेड़छाड़ का मामला
  • भीलवाड़ा : सवा किलो अफीम के साथ गिरफ्तार किए गए तीन जनों को किया कोर्ट में पेश, लिया रिमांड पर
  • दौसा : राजस्थान स्थापना दिवस को लेकर कलक्ट्रेट से गेटोलाव तक निकाली साइकिल रैली
  • जोधपुर : पावटा चौराहे के पास सड़क किनारे मिला बालिका का भ्रूण, फैली दहशत
  • जयपुर : विधानसभा ने बनाया इतिहास, 2010 के बाद चला सबसे लंबा सदन, 16 घंटे 27 मिनट चला
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

स्टडी में खुलासा, पढऩे-लिखने वालों को कम होता है हार्ट अटैक का खतरा

Patrika news network Posted: 2017-03-05 12:44:42 IST Updated: 2017-03-05 12:44:42 IST
स्टडी में खुलासा, पढऩे-लिखने वालों को कम होता है हार्ट अटैक का खतरा
  • पढऩे लिखने से व्यक्ति उदार ह्रदय होता है, पर एक स्टडी में इस बात का खुलासा हुआ है कि इससे हार्ट से जुड़ी बीमारियों का खतरा कम होता है, साथ मेंटल हेल्थ भी अच्छी रहती है।

जयपुर

पढऩे लिखने से व्यक्ति उदार ह्रदय होता है, पर एक स्टडी में इस बात का खुलासा हुआ है कि इससे हार्ट से जुड़ी बीमारियों का खतरा कम होता है, साथ मेंटल हेल्थ भी अच्छी रहती है। रिसर्चरों ने शिक्षा और हार्ट के बीच के संबंधों पर स्टडी की, तो उन्हें आश्चर्यजनक रूप से चौंकाने वाले नतीजे मिले।


इक्वलिटी इन हेल्थ नाम के एक अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य जनरल में इस अध्ययन में छपी ये रिपोर्ट 45 साल से अधिक उम्र वाले 237153 महिला पुरुषों पर की गई। इस रिसर्च में पाया गया कि कम पढऩे लिखने वालों को स्ट्रोक का खतरा अधिक होता है। ऐसे अधेड़ व्यक्ति जिन्होंने ग्रेजुएशन या उससे ऊपर की उच्च शिक्षा नहीं ली है, यूनिवर्सिटी स्तर की पढ़ाई करने वालों की अपेक्षा उनमें स्ट्रोक का खतरा 50 फीसदी अधिक होता है।


इस रिसर्च से पहले किताब पढऩे की आदत को लेकर एक और रिसर्च किया गया था। उसमें पाया गया था कि किताब पढऩे से तनाव और अवसाद जैसी समस्याएं होने का खतरा बहुत कम होता है, साथ  में नींद भी बहुत अच्छी आती है क्योंकि ऐसा करने से हमारा दिमाग शांत हो जाता है। इसमें इस बात का भी खुलासा किया गया है कि उच्च शिक्षा से मानसिक बीमारी डाइमेंशिया में भी कमी आती है।


विशेषज्ञों के मुताबिक इस रिसर्च से साबित होता है कि शिक्षा निजी जीवन की गुणवत्ता को बेहतर बनाती है। ऑस्ट्रेलिया स्थित न्यू साउथवेल्स के हार्ट फाउंडेशन से जुड़े कैरी डोयल के अनुसार स्वास्थ्य पर अच्छी शिक्षा का दीर्घकालिक प्रभाव पड़ता है। इससे जॉब,  रहना, खाना-पीना आदि सब कुछ प्रभावित होता है।

rajasthanpatrika.com

Bollywood