Breaking News
  • सीकरः नीमकाथाना में अज्ञात वाहन की टक्कर से बाइक सवार की मौत, दो लोग घायल
  • भीलवाड़ाः रेलवे स्टेशन पर सफाई अभियान चलाकर मनाएंगे संत निरंकारी बाबा हरदेवसिंह का जन्मदिन
  • भीलवाड़ा- फसलों की रखवाली करते समय विषैले कीट के काटने से एक व्यक्ति की मौत, जहाजपुर के पास गुढा गांव की घटना
  • जयपुर- अजमेर-दिल्ली हाइवे पर तेज रफ्तार ट्रेलर ने बाइक सवार को कुचला, चालक ले भागा ट्रेलर, हरमाड़ा थाना पुलिस जुटी जांच में
  • चित्तौड़गढ़ः सड़क हादसे में घायल निम्बाहेड़ा कॉलेज के प्रो. नित्यानन्द द्विवेदी का अहमदाबाद में निधन
  • धौलपुर- नवविवाहिता की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत
  • धौलपुर- मनिया क्षेत्र में चलती ट्रेन से गिरने से बालक की मौत, देर रात्रि की घटना
  • जैसलमेरः अनियंत्रित होकर कार पलटने से एक की मौत, रामगढ़ बिजलीघर बाइपास के पास देर रात हुआ हादसा
  • दौसा- सेल टेक्स विभाग की मंडी रोड पर एक साथ कई जगह कार्यवाही
  • भरतपुर- यूपी सीमा में मथुरा रोड पर सड़क हादसे में तीन साल की बच्ची की मौत, तीन घायल
  • अलवर- लक्ष्मणगढ़ क्षेत्र के तीन राशन डीलरों के लाइसेंस रद्द
  • हनुमानढ़- दोस्त की हत्या का आरोपित रिमांड पर, शराब के नशे में दोस्त की जान लेने का आरोप
  • जयपुर- आज भी जारी है बीट कर्मचारियों की हड़ताल, वेतन नहीं मिलने पर कार्य बहिष्कार
  • नागौर- स्वच्छता सेनानी सम्मान समारोह में खुले में शौच मुक्त हो चुकी पंचायतों के सरपंचों का सम्मान
  • करौली-बस की चपेट में आने से बाइक सवार की मौत, हाथी घटा क्षेत्र में हादसा
  • सवाईमाधोपुर- रिश्वत मांगने के मामले में बैंक मैनेजर गिरफ्तार, सीबीआई टीम की कार्रवाई
  • बांसवाड़ा- कुशलगढ़ के चुड़ादा गांव में पेड़ से लटा मिला युवक-युवती का शव
  • जयपुर- रामगंज थाना क्षेत्र में बदमाशों ने किया किशोरी को अगवा, पुलिस की नाकाबंदी देख भागे बदमाश
  • जयपुर- टोंक में बाइक में लगी आग, बाइक सवार ने कूद कर बचार्इ जान
  • ब्यावरः मोर के शिकार की ताक में बैठे युवक को ग्रामीणों ने पकड़ा, दो जने भाग छूटे
  • जालोरः दमण गांव में स्कूली छात्रा से दुष्कर्म का प्रयास, बागोड़ा थाने में मामला दर्ज
  • उदयपुरः एसडीआरआई ने झामर कोटड़ा माइंस में वाहन टेक्स चोरी मामले में निजी फर्म पर मारा छापा
  • जयपुरः पांच किलो गांजे के साथ कालवाड़ पुलिस ने दो लोगों को किया गिरफ्तार
  • झुंझुनूं: बुहाना में घर में घुसकर अकेली लड़की के साथ छेड़छाड़ का आरोप, पुलिस ने शुरू की जांच
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

सेहत से खिलवाड़, डराकर लालच में निकाले 2200 महिलाओं के यूट्रस

Patrika news network Posted: 2017-02-08 08:59:37 IST Updated: 2017-02-08 09:01:17 IST
सेहत से खिलवाड़, डराकर लालच में निकाले 2200 महिलाओं के यूट्रस
  • कर्नाटक के कलबुर्गी में एक ऐसे रैकेट का पर्दाफाश हुआ है, जो महिलाओं के गर्भाशय को निकालने का काम करता था।

बेंगलूरु /कुलबर्गी

कर्नाटक के कलबुर्गी में एक ऐसे रैकेट का पर्दाफाश हुआ है, जो महिलाओं के गर्भाशय को निकालने का काम करता था। इस तरह के नापाक काम में चार अस्पतालों के शामिल होने का आरोप है। कलबुर्गी के स्थानीय लोग पिछले दो वर्ष से इस मुद्दे को उठा रहे हैं, लेकिन अभी तक अस्पतालों के खिलाफ  कार्रवाई नहीं हुई है। जिन 2200 महिलाओं के गर्भाशय को निकाले जाने का मामला सामने आया है, वो लुंबानी और दलित समुदाय से ताल्लुक रखती हैं।


कमाल का तरीका, नींबू बताएगा ब्रेस्ट कैंसर की निशानियां


पेट दर्द...कैंसर से डराकर निकाला यूट्रस

पीडि़त महिलाओं  की उम्र 40 साल तक है। पेट में दर्द की शिकायत लेकर जब वो अस्पताल में इलाज के लिए पहुंचती थीं तो डॉक्टर ने उन्हें पेट में कैंसर बता कर डरा देते थे और गर्भाशय (यूट्रस) निकलवाने की सलाह देते थे। महिलाओं ने डर के चलते अपना गर्भाशय निकलवा दिया।


जान पर जोखिम हैं खर्राटे, लंबे समय से आ रहे हैं तो हो सकती है आकस्मिक मौत


लाइसेंस रद्द, फिर भी चल रहे अस्पताल

एक अंग्रेजी दैनिक के मुताबिक, कर्नाटक के कुलबर्गी में चल रहे इस रैकेट का भंडाफोड़ लगभग डेढ़ साल पहले हुआ था। उस समय स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मामले की जांच करके अस्पतालों का लाइसेंस भी रद्द कर दिया था, लेकिन इसके वाबजूद इन अस्पतालों ने अपना कालाधंधा चालू रखा। रैकेट का पर्दाफाश अगस्त, 2015 में हुआ था और अक्टूबर 2015 में स्वास्थ्य विभाग की जांच समिति ने चार अस्पतालों के लाइसेंस रद्द कर दिए थे, लेकिन वे अस्पताल आज भी कार्य कर रहे हैं।


बड़े काम का है बाजरा, सर्दी के मौसम में बचाता है कई बीमारियों से


विरोध प्रदर्शन...कार्रवाई की मांग

सोमवार को हजारों की संख्या में प्रभावित महिलाओं और कार्यकर्ताओं ने कलबुर्गी उपायुक्त के कार्यालय के सामने विरोध प्रदर्शन किया। महिलाओं ने गैर सरकारी संगठनों जैसे वैकल्पिक कानून फोरम, विमोचना और बंगलूरु में स्वराज अभियान के माध्यम से अपनी आवाज उठाई। महिलाओं व प्रदर्शन कर रहे संगठनों का कहना है कि मानवाधिकार का घोर उल्लंघन करने वाले इन अस्पतालों  व डॉक्टरों के खिलाफ  कड़ी कार्रवाई हो और उन्हें सजा मिले।


प्रशासनिक मिलीभगत भी!

आरोपी अस्पतालों में बसवा अस्पताल जिस डॉक्टर के नाम पर रजिस्टर था, वह व्यक्ति एक सरकारी कर्मचारी था जो अपने आप में नियम का उल्लंघन है। खबर के मुताबिक लाइसेंस रद्द होने के बाद भी अस्पतालों का कार्यरत रहना दर्शाता है कि इस बड़े रैकेट में स्थानीय स्वास्थ्य  अधिकारियों की मिलीभगत हो सकती है।

rajasthanpatrika.com

Bollywood