Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

'ट्रैजिडी किंग' दिलीप कुमार का पाकिस्तान के पेशावर में स्थित पुश्तैनी मकान ढहा

Patrika news network Posted: 2017-06-16 12:47:48 IST Updated: 2017-06-16 12:47:48 IST
  • मशहूर अभिनेता दिलीप कुमार के लिए पड़ौसी मुल्क पाकिस्तान से गुरुवार को एक बुरी खबर आई है। फिल्म इंडस्ट्री के दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार का तकरीबन एक सदी पुराना पैतृक मकान ढह गया है। दिलीप कुमार का यह पुश्तैनी आवास पाकिस्तान के पेशावर में है।

मुंबई।

बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता दिलीप कुमार के लिए पड़ौसी मुल्क पाकिस्तान से गुरुवार को एक बुरी खबर आई है। दिलाीप कुमार बॉलीवुड हिंदी सिनेमा के वरिष्ठ अभिनेता है। उन्होंने अपने दमदार अभिनय से फिल्म इंडस्ट्री में सभी का दिल जीत लिया है। इसलिए आज भी उनके अभिनय के लिए फिल्म इंडस्ट्री में उन्हें याद किया जाता है। इन दिनों दिलीप कुमार की तबियत खराब होने के चलते वह बहुत समय से बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री से दूर है।

रिलीज से पहले ही सलमान खान की फिल्म 'ट्यूबलाइट' ने अमेरिका में गाड़े झंडे, ऐसा करने वाली बनी बॉलीवुड की पहली फिल्म


फिल्म इंडस्ट्री के दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार का तकरीबन एक सदी पुराना पैतृक मकान ढह गया है। आपको बता दें कि दिलीप कुमार का यह पुश्तैनी आवास पाकिस्तान के पेशावर में है, दिलीप कुमार के इस मकान को पाकिस्तान के पुरातत्व विभाग ने 2014 में  राष्ट्रीय धरोहर घोषित कर दिया था।हालांकि प्रशासन का कहना है कि बहुत ही जल्दी इस जगह पर दोबारा वैसा ही मकान बनाया जाएगा। 

'दबंग गर्ल' सोनाक्षी सिन्हा के पिता बनेंगे सुनील शेट्टी, साथ में 'सर्कस' करते आएंगे नजर


इस दुर्घटना को लेकर शहर के गणमान्य लोगों ने खैबर पख्तूनख्वा सरकार की आलोचना की है। वहीं लोगों ने ऐतिहासिक स्थल के संरक्षण में लापरवाही के लिए भी सरकार पर निशाना साधा है। सांस्कृतिक विरासत परिषद के महासचिव शकील वहीदुल्ला के मुताबिक ऐतिहासिक किस्सा ख्वानी बाजार के निकट मोहल्ला खुदा दाद स्थित इस मकान का सामने वाला हिस्सा और दरवाजा ही बाकी बचा है। बाकी सारा मकान ढह गया है।

भारत-पाकिस्तान फाइनल मैच से पहले ऋषि कपूर के ट्विटस से मचा बवाल, कहा- 'पाकिस्तान से हार मंजूर लेकिन....'


आपको बता दें कि 94 साल के हो चुके अभिनेता दिलीप कुमार का जन्म 11 दिसंबर 1922 को पेशावर में हुआ था। 1930 में उनके पिता मुंबई में बसे थे,जहां उन्होंने हिन्दी फिल्मों मे काम करना शुरू किया। बॉलीवुड में 'ट्रेजिडी किंग' के नाम से मशहूर दिलीप कुमार ने 'ज्वार भाटा', 'देवदास', 'दीदार','मुगल-ए-आजम' और 'दाग' जैसी फिल्मों में अपने अभिनय से वह मुकाम हासिल किया जिसके लिए आज भी कई लोग तरसते है। इन्हीं फिल्मों के जरिए उन्होंने फिल्मी दुनिया में अपने पैर जमा लिए।

बॉलीवुड की 'देसी गर्ल' हॉलीवुड में बनी नंबर 1 स्टार, ड्वेन जॉनसन को दिया पछाड़


गौरतलब है कि दिलीप कुमार को 8 बार 'फिल्म फेय'र के 'बेस्ट एक्टर अवार्ड' से नवाजा जा चुका है। 1995 में उन्हें भारतीय फिल्मों के सर्वोच्च सम्मान 'दादा साहब फाल्के' पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इसके अलावा 1998 में दिलीप कुमार को पाकिस्तान का सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'निशान-ए-इम्तियाज' से भी सम्मानित किया गया है। दिलीप कुमार की पहली फिल्म 'ज्वार भाटा' थी, जो 1944 में आई थी। जबकि 1998 में बनी फिल्म 'किला' उनकी आखिरी फिल्म थी। बॉलीवुड का पहला फिल्म फेयर पुरस्कार दिलीप कुमार को 'दाग' फिल्म के लिए मिला था। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood