Breaking News
  • करौली: ट्रक ने बुजुर्ग को कुचला, मौके पर ही मौत, सड़क पार कर डीजल लेने जा रहे थे बुजुर्ग
  • श्रीगंगानगर: हड्डा रोडी के मामले में हाईकोर्ट में सुनवाई आज
  • भरतपुर: सेवर थाने के बहनेरा गांव के पास ट्रक ने कार में मारी टक्कर, कार सवार की मौत, एक घायल
  • बीकानेर- गंगाशहर के उदयरामसर गांव में एक व्यक्ति ने फांसी लगाकर जान दी
  • चित्तौड़गढ़: विद्युत निगम के एईएन के घर चोरी, हजारों का सामान ले उड़े चोर
  • अलवर : बहरोड में NH-8 पर अज्ञात बदमाशों ने लाखों रुपए के सामान से भरी गाड़ी लूटी
  • कोटा: स्वाइन फ्लू को लेकर आज भी घरों में सर्वे
  • धौलपुर- पिकअप और टैम्पो में भिड़ंत, तीन की मौत, एनएच 11 पर सरमथुरा के पास हादसा
  • जोधपुर: लोहावट पुलिस ने चोरी के मामले में एक व्यक्ति को किया गिरफ्तार
  • जयपुर: शाहपुरा में 7 मार्च के गोलीकांड में घायल युवक की मौत, बाजार बंद, लोग आक्रोशित
  • श्रीगंगानगर: कांग्रेस कमेटी की ओर से किसानों की विभिन्न मांगों को लेकर कलेक्ट्रेट के समक्ष प्रदर्शन
  • भरतपुर: पुलिस लाइन में कांस्टेबल और हेड कांस्टेबल के पद के लिए परीक्षा
  • जयपुर- शाहपुरा में गोलीकांड में व्यापारी की मौत के बाद व्यापारियों ने करवाया बाजार बंद
  • भीलवाड़ा: खेत में खड़ी फसल से अफीम के डोडे चोरी
  • प्रतापगढ़: पानमोड़ी गांव के पास हादसे में युवक की मौत
  • जयपुर- भाजपा महिला मोर्चा अध्यक्ष आज जाएंगी महारानी कॉलेज, हॉस्टल की छात्राओं से करेंगी काउंसलिंग
  • जयपुर- अवैध शराब की ब्रिक्री करते जवाहर नगर पुलिस ने एक महिला को पकड़ा
  • जोधपुर: बालेसर कस्बे में 2 महिलाओं ने एक घर में अकेली महिला को नशीला पदार्थ सुंघाकर सोने के आभूषण लूटे, महिलाओं का सीसीटीवी फुटेज किया जारी
  • जयपुर- मुरलीपुरा पुलिस ने दो वाहन चोर पकडे, सात बाइक बरामद
  • बीकानेर: खाजूवाला इलाके में 13 साल की बच्ची से दुष्कर्म का मामला, सौतेली मां और एक अन्य पर आरोप
  • बीकानेर- जूनागढ़ किले की खाई में लगी आग, कोई जनहानि की सूचना नहीं
  • सवाईमाधोपुर: निजी भूमि पर सरकारी बोरवेल लगाने के मामले सरसोप की पूर्व सरपंच समेत 3 गिरफ्तार
  • सवाईमाधोपुर के सरसोप गांव की पूर्व सरपंच और तत्कालीन सचिव समेत दो अन्य गिरफ्तार, निजी भूमि पर सरकारी बोरवेल लगाने का मामला
  • भरतपुर: कामां कस्बे की बिजली व्यवस्था ठप, 4 दिन से चल रही समस्या, लोग परेशान
  • सीकर- बढ़ाढर के पास पलटी बस, एक दर्जन से अधिक यात्री घायल
  • जयपुर- जैतपुरा में एईएन व तकनीकी कर्मचारियों में नोकझोंक, एईएन को निलंबित करने की मांग
  • कोटपूतली- शराब से भरा ट्रक पकड़ा, तीन गिरफ्तार
  • जयपुर- राजस्थान कच्ची बस्ती महासंघ का ज्योति नगर टी पॉइंट पर विरोध प्रदर्शन
  • जोधपुर: शॉर्ट सर्किट की वजह से उत्कर्ष प्लाजा में लगी आग, दमकल ने आग पर पाया काबू
  • बूंदी- नैनवां में युवक छत से गिरा युवक, मौत
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

दिल्ली हाईकोर्ट : जेएनयू के 21 छात्रों के खिलाफ FIR दर्ज, अदालत ने वीसी दफ्तर से 100 मीटर दूर रहने के दिए आदेश

Patrika news network Posted: 2017-03-10 12:43:28 IST Updated: 2017-03-10 13:06:15 IST
दिल्ली हाईकोर्ट : जेएनयू के 21 छात्रों के खिलाफ FIR दर्ज, अदालत ने वीसी दफ्तर से 100 मीटर दूर रहने के दिए आदेश
  • प्रदशनकारियों ने फिलहाल बिना किसी औपचारिक घोषणा के प्रशासनिक खंड के सामने धरना-प्रदर्शन बंद कर दिया है।

नई दिल्ली।

दिल्ली में स्थित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय एक फिर चर्चा में है। दिल्ली उच्च न्यायालय ने गुरुवार को दिल्ली पुलिस को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के कुलपति व अन्य अधिकारियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। 




निर्देश जेएनयू के प्रशासनिक खंड पर छात्रों द्वारा लगातार किए जा रहे प्रदर्शनों के मद्देनजर दिया गया है। सूत्रों के मुताबिक जेएनयू प्रशासन ने कुलपति जगदीश के कुमार के साथ दुर्व्यवहार करने वाले छात्रों के खिलाफ कड़ी कार्यवाई करने की मांग की है। 




तो वहीं जेएनयू रजिस्ट्रार प्रमोद कुमार की ओर से की गई शिकायत और घटना के वीडियो को आधार मानकर वसंत कुंज पुलिस थाने में जेएनयू के 21 छात्रों के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज किया है।  अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त चिन्मय बिस्वाल के मुताबिक, पुलिस ने छात्रों के खिलाफ शांति भंग करने के अलावा उनके साथ जानबूझ कर दुर्व्यवहार और अपमानित करने को लेकर मामला दर्ज किया है।  



न्यायमूर्ति संजीव सचदेवा ने प्रदर्शनकारियों को भी निर्देश दिया कि वे प्रशासनिक खंड से 100 मीटर दूर ही रहकर शांतिपूर्ण प्रदर्शन करें। अदालत ने जेएनयू छात्रसंघ को इस आशय का नोटिस भी जारी किया है।




अदालत ने जेएनयू छात्रसंघ के पदाधिकारियों को मामले की सुनवाई की अगली तारीख पर हाजिर होने और आंदोलन की वजह बताने का निर्देश दिया। अदालत का मानना है कि समस्या का हल बातचीत, परामर्श और ध्यान (मेडिटेशन) से हो सकता है। अदालत जेएनयू प्रशासन की ओर से दायर एक याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें कहा गया है कि आंदोलनकारी छात्र प्रशासनिक खंड में प्रवेश करने का रास्ता अवरुद्ध कर देते हैं, जिससे कामकाज प्रभावित होता है।




आंदोलनकारी छात्रों ने 9 फरवरी को प्रशासनिक खंड पर कब्जा जमा लिया था। छात्रों ने विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा जारी एक अधिसूचना के खिलाफ धरना-प्रदर्शन किया, जिसके तहत एमफिल और पीएचडी कोर्सों की सीटों में कटौती सहित जेएनयू की दाखिला नीति में बदलाव लाया जाना है।




प्रदशनकारियों ने फिलहाल बिना किसी औपचारिक घोषणा के प्रशासनिक खंड के सामने धरना-प्रदर्शन बंद कर दिया है। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood