Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

निगम अधिकारी मौन, हवा के झोंके से गुल हो जाती है बिजली, परेशान होती है जनता

Patrika news network Posted: 2017-06-19 11:59:22 IST Updated: 2017-06-19 11:59:22 IST
निगम अधिकारी मौन, हवा के झोंके से गुल हो जाती है बिजली, परेशान होती है जनता
  • गर्मी, बारिश और त्योहारों से पहले जोधपुर डिस्कॉम हर बार बिजली आपूर्ति सुचारू रखने के लिए रख-रखाव के नाम पर घंटों तक घोषित बिजली कटौती करता है।

सुजानगढ़.

केस एक :- ढीले तारों की वजह से एक माह पहले आए फाल्ट से सहायक अभियंता, विद्युत निगम कार्यालय मोहल्ले के एक दर्जन घरों में एलईडी, फ्रीज, पंखे, कूलर, बल्ब आदि जल गए।

 केस दो : मामूली अंधड़ से गत वर्ष विद्युत तार टूटने की चपेट में आने से इंद्रगिरी आश्रम के पास खीचड़ कॉलोनी में एक व्यक्ति की मौत हो गई। रास्ता जाम हुआ। यह विद्युत तार पांच-छह बार टूट चुका है।

केस तीन : तेलियान मदरसा के पास ढीले विद्युत तारो की स्पार्किंग से तार टूटा और करंट से एक बैल की वहीं मौत हो गई। लोगों ने तीन बार लिखित में पूर्व में सूचित किया था। मगर ध्यान नहीं दिया गया।

सुजानगढ़. गर्मी, बारिश और त्योहारों से पहले जोधपुर डिस्कॉम हर बार बिजली आपूर्ति सुचारू रखने के लिए रख-रखाव के नाम पर घंटों तक घोषित बिजली कटौती करता है। इसके बावजूद दिन में कई बार बिजली की ट्रिपिंग होती है। हालात ये है कि जरा सी बारिश और हवा के झोंके के साथ ही शहर के अनेक क्षेत्रों में बिजली गुल हो जाती है। इस तरह की अव्यवस्था जोधपुर डिस्कॉम की दावों की पोल खोल रही है।  गत 15 दिनों से शहर में स्थिति ये है कि थोड़ी से हवा चलने के साथ ही क्षेत्र के गांव-शहर अंधेरे की आगोश में समा जाते हैं।


हादसों को न्यौता


बिजली के तारों व ट्रांसफार्मर की मरम्मत पर हर साल लाखों रुपए खर्च किए जाते हैं। मगर तारों के पास से गुजर रहे पेड़ों की टहनियां काटने व तारों को खींचने में लापरवाही बरतने का खामियाजा लोगों को अंधेरे में रहकर भुगतना पड़ता है। ढीले तार आए दिन हादसों को न्योता दे रहे हैं। शहर व गांवों में लोग झूलते तारो, मकानों से सटकर गुजर रही एलटी लाईनों और भीड़-भाड़ वाले इलाकों में खुले ट्रांसफार्मरों में प्रवाहित कंरट के साए के बीच रहने को मजबूर हैं। बारिश के दिनों में मकानों में करंट दौडऩे लगता है। बिजली के खंभों के करंट से मवेशी अकाल मौत का शिकार हो रहे हैं। इसके बावजूद निगम के अभियंता सुध लेने की जहमत नहीं उठा रहे हैं।


''विद्युत लाइनों में ट्रिपिंग, कम वॉल्टेज की वार्ड 10 में काफी समस्या है। जर्जर पोल बदलने के लिए कई बार अधिकारियों का ध्यान दिलाया। मगर समाधान नहीं हुआ। शहर में कई बार हादसे भी हो चुके हैं फिर भी ध्यान नहीं दिया जा रहा है।''

मोहम्मद इदरीश गौरी, वार्ड 10, धिंगानिया बास, सुजानगढ़

''गत दो महीनों में मरम्मत के नाम पर तीन बार कटौती की गई थी। समझ में नहीं आता कि दो-चार बरसाती बूंदें गिरते ही बिजली क्यों गुल हो जाती है।वार्ड 22 में  लोहे के तीन पोल में बरसाती समय में करंट आता है। मगर इन्हें बदला नहीं गया है।''

विजय चौहान, वार्ड 22, सुजानगढ़


''गांव चरला के केसाराम गोदारा के खेत के पास नीचे हो रहे बिजली के तारों के कारण यहां से ऊंटगाडा भी नहीं निकल सकता। जगह-जगह ढ़ीले तार है। कलक्टर चौपाल में भी ध्यान दिलाया था।''

रामसुख गोदारा, प्रगतिशील किसान, गांव, चरला

''ढीले तार कसे जा रहे हैं। खराब पोल बदल रहे हैं। रख रखाव के दौरान टहनियां काटी जा रही है। बारिश व आंधी में बिजली आपूर्ति बाधित होना सामान्य बात है।''

अरुणकुमार मीना, कार्यवाहक सहायक अभियंता, जोधपुर डिस्कॉम, सुजानगढ़

rajasthanpatrika.com

Bollywood