Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

कलक्टर की ओर से भेजा गया पत्र नगर परिषद पहुंचा, लेकिन कार्रवाई से कतरा रहे आयुक्त

Patrika news network Posted: 2017-05-19 23:20:42 IST Updated: 2017-05-19 23:20:42 IST
कलक्टर की ओर से भेजा गया पत्र नगर परिषद पहुंचा, लेकिन  कार्रवाई से कतरा रहे आयुक्त
  • टाउन हाल के पास बिना कन्वर्जन के चल रहे जय श्रीनाथ हॉस्पिटल पर कार्रवाई के लिए जिला कलक्टर की ओर से लिखा गया पत्र आखिरकार शुक्रवार को नगर परिषद में पहुंच गया।

चूरू

टाउन हाल के पास बिना कन्वर्जन के चल रहे जय श्रीनाथ हॉस्पिटल पर कार्रवाई के लिए जिला कलक्टर की ओर से लिखा गया पत्र आखिरकार शुक्रवार को नगर परिषद में पहुंच गया। आश्चर्य की बात तो यह है इस पत्र को नगर परिषद में पहुंचने में करीब 15 दिन लग गए। जबकि दोनों कार्यालयों की बीच की दूरी मुश्किल से 800 मीटर है। 


इस संबंध में नगर परिषद आयुक्त प्रमोद जांगिड़ का कहना है कि जय श्रीनाथ हॉस्पिटल जिस भवन में चल रहा है। उस पर कन्वर्जन संबंधी कार्रवाई के लिए कलक्टर की ओर से पत्र मिला है। बहरहाल, इसकी पूरी जांच कराएंगे। नगर परिषद की संबंधित विंग को आदेश दे दिया है। पर सवाल यह है कि जिस आयुक्त ने पहले जिला प्रशासन को बिना कन्वर्जन के ही संबंधित भवन में जयश्री नाथ हॉस्पिटल संचालित होने की जानकारी दी थी। क्या उस समय उसकी जांच नहीं की गई थी। आयुक्त को अब दुबारा जांच कराने की क्या नौबत आ पड़ी।


कार्रवाई से बच रहा नगर परिषद


आवासीय भवन में किसी प्रकार का व्यावसायिक व संस्थानिक उपयोग किया जाता है तो उसका कन्वर्जन करवाना जरूरी होता है। नहीं करवाने पर नगर पालिका अधिनियम 2009 की धारा 182 के तहत संबंधित मकान मालिक पर कार्रवाई की जा सकती है।


लेकिन नगर पालिका प्रशासन कार्रवाई से बचना चाह रहा है। चूंकि जो कार्य नगर परिषद का स्वंय का है उसके लिए जिला कलक्टर के आदेश का इंतजार क्यों किया गया? इस तरह की कार्रवाई के लिए नगर परिषद आयुक्त खुद सक्षम हैं। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood