Breaking News
  • जोधपुर- बाप उपखंड के माण्डली में पांच कच्चे मकानों में लगी आग, हजारों की नकदी सहित लाखों का सामान खाक
  • डूंगरपुर- कसारिया के पास गरासिया फला में घरेलू गैस सिलेंडर भभकने से घर में लगी आग, कोई जन​हानि नहीं
  • जयपुर- सिरसी रोड पर स्थित तीन दुकानों में चोरी, व्यापारियों में आक्रोश
  • जयपुर- सिरसी रोड पर स्थित तीन दुकानों में चोरी, व्यापारियों में आक्रोश
  • बीकानेर- पीबीएम अस्पताल से देर रात बंदी फरार, पुलिस ने कराई नाकाबंदी, हाथ नहीं लगा
  • बीकानेर- बज्जू के तेजपुरा में शॉर्ट सर्किट से मकान में लगी आग में जला लाखों का सामान
  • कोटा- बपावर के पास मोतिया खाल की पुलिया से नीचे गिरा ट्रक, चालक की मौके पर ही मौत
  • सवाई माधोपुर- शिवाड़ के घुश्मेश्वर महादेव मंदिर में संगीतमय राम कथा शुरू
  • श्रीगंगानगर- राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष मनन चतुर्वेदी ने बाल अधिकारों के संबंध में लिया फीडबैक
  • सवाईमाधोपुर- राजस्थान दिवस के उपलक्ष्य में मान टाउन क्लब में क्राफ्ट मेला शुरू
  • जयपुर- हरमाडा पुलिस ने दौलतपुरा टोल पर शराब से भरा ट्रक पकड़ा
  • जयपुर- नाईजीरियन ने नाईजीरियन युवक से ही की नौ लाख की ठगी, सांगानेर थाना पुलिस ने किया दो को गिरफ्तार
  • श्रीगंगानगर- कृष्णा टॉकीज के पास ट्रक की टक्कर से बिजली के पांच पोल और दो डीपी क्षतिग्रस्त
  • सवाईमाधोपुर- छप्परपोश में आग से बुजुर्ग माता-पिता के साथ बेटा भी झुलसा, मलारना डूंगर के दिवाड़ा गांव हादसा
  • जयपुर- आरबीआई बैंक के बाहर नोट बदलवाने को लेकर पहुंचे कुछ लोग
  • जयपुर- आदर्श नगर थाना पुलिस ने पकड़ा चोरी की बाइक बेचने की फिराक में घूम रहे वाहन चोर को
  • जयपुर- आदर्श नगर थाना पुलिस ने पकड़ा चोरी की बाइक बेचने की फिराक में घूम रहे वाहन चोर को
  • जयपुर- चौमू में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे युवक ने लगाई फांसी, तीन दिन पहले ही किराये लिया था कमरा
  • नागौर- मिंडा के पास मालगाड़ी की चपेट में आने से युवक की मौत
  • जोधपुर- पंजाब से प्रोडक्शन वारंट पर लाया गया कुख्यात अपराधी लॉरेंस बिश्नोई आठ दिन के रिमाण्ड पर
  • नागौर- मिंडा कस्बे में खाना बनाते समय घरेलू गैस सिलेंडर भभका, बड़ा हादसा टला
  • श्रीगंगानगर- डॉक्टर अशोक गुप्ता की तलाश में रायसिंहनगर में अस्पताल पर छापा मारा, लेकिन नहीं मिला डॉक्टर
  • हिंडौन सिटी- बजरिया में शराब की दुकान खोले जाने के विरोध में धरने पर बैठी महिलाएं
  • अलवर- युवक ने की आत्महत्या, शाहजहांपुर के पास सकतपुरा बावद निवासी था मृतक
  • सिरोही- पुलिस लाइन स्थित क्वार्टर में हैडकांस्टेबल ने लगाई फांसी
  • जयपुर- विधायक रमेश मीणा को सदन से निष्कासित करने की मांग, संसदीय कार्यमंत्री राजेंद्र राठौड़ ने रखा विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव
  • राजसमंद- आमेट की मार्बल फैक्ट्री में करंट लगने से युवक की मौत
  • भीलवाड़ा- दो दिन पहले खेत में झुलसी मासूम की जयपुर में इलाज के दौरान मौत, बदनौर के करमा का बाड़िया गांव में हुआ था हादसा
  • हनुमानगढ- भादरा के भिरानी थाने से युवक के भाग निकलने पर ग्रामीणों ने जताया आक्रोश, डाबड़ी के ग्रामीणों ने युवक को पकड़कर सौंपा था पुलिस को
  • धोलपुर- गांधीपार्क के पास बाजार में पेड़ गिरने से छप्परपोश दुकानें ध्वस्त, बिजली लाइन भी टूटी
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

ईएलएसएस है एक तीर से दो शिकार, टैक्स सेविंग के साथ शानदार रिटर्न भी

Patrika news network Posted: 2017-02-19 16:30:32 IST Updated: 2017-02-19 16:30:32 IST
ईएलएसएस है एक तीर से दो शिकार, टैक्स सेविंग के साथ शानदार रिटर्न भी
  • नए साल की शुरुआत के साथ ही टैक्स फाइल करने की चिंता भी शुरू हो जाती है। खासकर फरवरी में अधिकांश लोग अपनी टैक्स प्लानिंग व निवेश विकल्पों को अंतिम रूप देते हैं।

नई दिल्ली।

नए साल की शुरुआत के साथ ही टैक्स फाइल करने की चिंता भी शुरू हो जाती है। खासकर फरवरी में अधिकांश लोग अपनी टैक्स प्लानिंग व निवेश विकल्पों को अंतिम रूप देते हैं। ऐसे में आज हम इक्विटी लिंक्ड सेविंग्स स्कीम (ईएलएसएस) के बारे में बता रहे हैं, जिससे टैक्स सेविंग व सम्पत्ति निर्माण दोनों संभव होते हैं। 


वाल स्ट्रीट जनरल में हाल के एक दिलचस्प लेख में जीवन की सांझ में लोगों की वित्तीय भूलों का उल्लेख था। उम्र के पांचवें दशक में यह अहसास किसी दु:स्वप्न की तरह सताता है कि रिटायरमेंट के लिए वे पर्याप्त पैसे नहीं बचा पाए। यहां ईएलएसएस की अहमियत बढ़ जाती है।


जोखिम उठाने से डरना है खतरनाक

सही जगह पर सही निवेश सबसे अहम होता है। अक्सर लोग कम जोखिम वाले विकल्पों- फिक्स डिपॉजिट और पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) आदि में निवेश करते हैं। ऐसे में वे ऊंचे लाभ की संभावना से हाथ धो बैठते हैं। यदि आप रिटायरमेंट के लिए धन जमा करना चाहते हैं तो आपको बचत का एक हिस्सा मार्केट में निवेश करना पड़ेगा। 15 वर्षों के दौरान पीपीएफ की चक्रवृद्धि वार्षिक विकास दर (सीएजीआर) 8.3 ही रही है, जबकि सेंसेक्स ने 14.7 दिया।


कम लॉक-इन पीरियड का भी मिलता है लाभ

पश्चिमी देशों के उलट भारतीय बाजारों में बहुत गुंजाइश और चमक बाकी है। मिसाल के तौर पर अधिकांश फंड अपने-अपने बेंचमार्कों को मात दे चुके हैं। न तो इन फंडों से मिले दीर्घावधि के रिटर्न पर कोई कर लगाया जाता, न ही इनके डिविडेंड पर। यही नहीं, टैक्स-बचत के अन्य विकल्पों के मुकाबले ईएलएसएस का लॉक-इन पीरियड भी सबसे कम है, जो महज तीन साल का है।


इसलिए ईएलएसएस है उम्दा विकल्प

एक उदाहरण से समझते हैं- अगर हम 1.5 लाख से निवेश शुरू करते हैं, जो टैक्स-बचत के विकल्पों में निवेश की अधिकतम सीमा है। (नोट : इसमें एनपीएस शामिल नहीं है, जो आपको 50000 रुपए अतिरिक्त बचाने का अवसर देती है)। 2 दशकों तक 1.5 लाख हर वर्ष निवेश करने पर आपने कुल 30 लाख रुपए जमा किए।


 यदि आपने यह रकम पीपीएफ में निवेश की होती तो 9.59 फीसदी वार्षिक औसत रिटर्न की दर से वर्ष 2015 के आखिर तक यह बढ़कर 82.14 लाख रुपए हो गई होती। लेकिन अब इसकी ब्याज दरों में कटौती हो चुकी है। इतनी ही रकम इतने ही समय के लिए ईएलएसएस में निवेश करने पर इससे आपको 2.74 करोड़ रुपए मिलते, जो पीपीएफ पोर्टफोलियो की वैल्यू से लगभग तीन गुना अधिक है। साफ तौर पर इसकी वार्षिक औसत रिटर्न दर 19.81त्न रही।


सम्पत्ति बनाने के लिए करें निवेश

1.5 लाख रुपए प्रतिवर्ष निवेश करके एक मोटी कर राशि की बचत की जा सकती है। हालांकि ऐसा नहीं करने पर यह मुफ्त में 46,350 रुपए (ञ्च 30.9) देने जैसा है। यदि आप करयोग्य 1.5 लाख निवेश करें तो आप यह पूरी रकम बचा सकते हैं। सरकार उपायों में पीपीएफ, एनपीएस, पोस्ट ऑफिस डिपॉजिट, पंचवर्षीय बैंक डिपॉजिट, जीवन बीमा और इक्विटी लिंक्ड सेविंग्स स्कीम (ईएलएसएस) शामिल हैं। राजीव गांधी इक्विटी सेविंग्स स्कीम का लाभ भी उठा सकते हैं। 


3 साल काफी नहीं

अधिकांश ईएलएसएस निवेशक तीन वर्ष का लॉक-इन पीरियड समाप्त होते ही यूनिटों को बेचने की गलती करते हैं। जबकि उन्हें यह समझना चाहिए कि अगर तीन वर्ष पूरा होते ही वे निकासी कर लेते हैं, और उन्हें प्राप्त रकम की जरूरत नहीं है तो उस राशि को फिर से कहीं निवेश करने की जरूरत पड़ेगी। कर विहीन लाभ पाने के लिए इस रकम को दोबारा एक निश्चित अवधि के लिए रोक कर रखना ही पड़ेगा।


अदिति कोठारी

एग्जीक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट व सेल्स-मार्केटिंग की प्रमुख, डीएसपी ब्लैकरॉक

rajasthanpatrika.com

Bollywood