Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

रिजर्व बैंक प्रेस का 500, 2000 के नोटों के कागज आयात का ब्योरा देने से इनकार

Patrika news network Posted: 2017-05-15 09:16:48 IST Updated: 2017-05-15 09:16:48 IST
रिजर्व बैंक प्रेस का 500, 2000 के नोटों के कागज आयात का ब्योरा देने से इनकार
  • रिजर्व बैंक की ओनरशिप वाली नोट प्रिंटिंग कंपनी ने देश में छप रहे 500 और 2000 रुपए के नोटों की छपाई में इस्तेमाल होने वाले कागज की जानकारी देने से इनकार कर दिया है।

नई दिल्ली।

 रिजर्व बैंक की ओनरशिप वाली नोट प्रिंटिंग कंपनी ने देश में छप रहे 500 और 2000 रुपए के नोटों की छपाई में इस्तेमाल होने वाले कागज की जानकारी देने से इनकार कर दिया है। नोट प्रिंटिंग कंपनी ने कहा है कि 500 और 2000 रुपए के नोटों की छपाई के लिए कागज के आयात की जानकारी देने से भारत की संप्रभुता प्रभावित होगी और एक तरह के अपराध को उकसावा मिल सकता है।


मीडिया में खबर थी कि नए नोटों की छपाई के लिए इस्तेमाल में लिए गए कागज काली सूची में डाली गयी कंपनी से आयात किए गए थे। इस लिहाज से आरबीआई प्रेस का सूचना देने से इनकार किया जाना अहम है। 


आरटीआई के जरिए पूछा गया सवाल

हाल ही में एक आरटीआई में देश में छपने वाले 500 और 2000 रुपए के नोटों की छपाई के बारे में पूछा गया था। इस आरटीआई आवेदन के जवाब में भारतीय रिजर्व बैंक नोट मुद्रण प्राइवेट लिमिटेड (बीआरबीएनएमपीएल) ने ऊंचे मूल्य के नोटों की छपाई के लिए कागजों के आयात से संबंधित सूचनाएं देने से इनकार कर दिया।


नए नोटों पर आरबीआई का रुख

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कालेधन पर लगाम लगाने की कोशिश के तहत पिछले साल 8 नवंबर को 500 और 1000 रुपए के नोटों को चलन से हटाने की एलान किया था। इसके बाद 500 और 2000 रुपए के नए नोट नए डिजाइन और बेहद एडवांस्ड सेफ्टी फीचर्स के साथ जारी किए गए हैं। रिजर्व बैंक का ये भी मानना है कि इन नोटों की असली जैसी नकल करना लगभग नामुमकिन है और ये नए नोट सुरक्षा के लिहाज से मापदंडों पर खरे उतरते हैं।

rajasthanpatrika.com

Bollywood