Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

कपड़े पर जीएसटी लागू करने से आक्रोशित कपड़ा व्यापारियों ने रखे बाजार बंद

Patrika news network Posted: 2017-06-16 18:27:29 IST Updated: 2017-06-16 18:27:29 IST
कपड़े पर जीएसटी लागू करने से आक्रोशित कपड़ा व्यापारियों ने रखे बाजार बंद
  • कपड़े पर जीएसटी लागू करने के विरोध में गुरूवार को बून्दी जिले के कपड़ा व्यापारियों ने दुकाने बंद रखी एवं प्रधानमंत्री के नाम जिला कलक्टर को ज्ञापन दिया।

बूंदी.

कपड़े पर जीएसटी लागू करने के विरोध में गुरुवार को जिलेभर के कपड़ा व्यापारी एकजुट दिखे। जिलेभर की कपड़े की दुकानें बंद रही।

बूंदी शहर के कपड़ा व्यापारी इंद्रामार्केट में एकत्रित हुए। जहां से जुलूस के रूप में कलक्टे्रट पहुंचे। जहां उन्होंने प्रधानमंत्री के नाम जिला कलक्टर को ज्ञापन दिया।  कपड़ा व्यापारियों ने कपड़े पर पांच प्रतिशत जीएसटी लागू नहीं करने की मांग की। 

व्यापारियों ने बताया कि कपड़ा आमआदमी की मूलभूत आवश्यकता है। आजादी के बाद से कपड़ा कर मुक्त रहा है। कपड़े में जीएसटी लागू करने से व्यापारियों में रोष है। ऐसे में यदि व्यापारियों की अनदेखी की गई तो सभी को आंदोलन पर मजबूर होना पड़ेगा। इस दौरान बूंदी क्लोथ मर्चेंट एसोसिएशन अध्यक्ष विजय कुमार रंगवानी, सचिव फणी भूषण सुरलाया सहित कई व्यापारी मौजूद थे।


Read More: करंट लगने से झुलसा इंजीनियर


नैनवां. 

जीएसटी लागू करने के विरोध में गुरुवार को कस्बे के कपड़ा व्यापारियों ने  प्रतिष्ठान बंद रखे। कपड़ा व्यापारियों ने जुलूस के साथ उपखंड अधिकारी कार्यालय पर पहुचंकर प्रदर्शन किया तथा प्रधानमंत्री के नाम का उपखंड अधिकारी को ज्ञापन दिया। ज्ञापन में लिखा कि सरकार जीएसटी लागू कर भ्रष्टाचार एवं इंस्पेक्टर राज को बढ़ावा दे रही है। आजादी से आज तक कपड़ा सभी तरह से कर मुक्त रहा है।  



Read More: वो कौन थी! जिसकी वजह से शादी के पांच महीने बाद ही पत्नी ने लगा लिया मौत को गले



देई. 

कस्बे में गुरुवार को कपड़े पर जीएसटी के विरोध में कपड़ा व्यापारियों ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखे। व्यापारी सदर बाजार से जुलूस के साथ गढ़ का चौक, मेन मार्केट होते हुए देई पुलिस स्टेशान पर पहुंचे, जहां थानाधिकारी दयाराम मीणा को अपनी मांगों का ज्ञापन सौंपा। कपडा व्यापारियों ने एक जुलाई से लागू होने वाले जीएसटी कर से कपड़े को मुक्त करने की मांग की। इस दौरान कपड़ा व्यापारी नरेन्द्र जिंदल, पवन जैन, मुकेश जैन, ललित जैन, धर्मचंद जैन, शैलेन्द्र  जिंदल, सम्पत जैन, राजकुमार जैन, नन्दकिशोर जैन सहित कई व्यापारी मौजूद थे।


Read More: #Campaign: छत एक सुविधाएं अनेक, बस एक बार देखो... पसंद करो और ले जाओ


करवर. 

व्यापार महासंघ के आव्हान पर गुरुवार को कस्बे में कपड़े के व्यापारियों ने अपनी  प्रतिष्ठान बंद रखे। दुकानदारों ने कपड़े पर सरकार द्वारा 5 प्रतिशत जीएसटी टैक्स लगाने को अनुचित कदम बताते हुए इसे वापस लेने तथा व्यापारियों को राहत देने की मांग की।



Read More: किसान_आंदोलन: मांगों को लेकर 'तपे' किसान, दिखाई ताकत



लाखेरी. 

कपड़ा व्यापार संघ लाखेरी ने गुरुवार को वित्त मंत्री को ज्ञापन सौंपकर कपड़ा व्यवसाय को जीएसटी से मुक्त करने की मांग की। दोपहर बाद कस्बे के कपडा व्यापारी रैली के रूप में उपखण्ड कार्यालय पहुंचे और  ज्ञापन उपखण्ड अधिकारी  गरिमा लाटा को सौंपा। व्यवसायियों ने अपने प्रतिष्ठान भी बंद रखे। ज्ञापन देने वालों में राजेन्द्र कुमार शाह, ओमप्रकाश गोयल, श्याम सुन्दर अरोडा, शंकर गोयल, सुरेश गर्ग, प्रकाश सिंधी उपस्थित थे।

rajasthanpatrika.com

Bollywood