Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

पीबीएम अस्पताल में हर दिन मिल रही नई शिकायतें

Patrika news network Posted: 2017-07-14 09:47:55 IST Updated: 2017-07-14 09:47:55 IST
पीबीएम अस्पताल में हर दिन मिल रही नई शिकायतें
  • मॉनिटरिंग के अभाव में राज्य के बेहतरीन अस्पतालों में शुमार पीबीएम इन दिनों अव्यवस्थाओं के कारण चर्चा में है। अव्यवस्थाओं के चलते आए दिन कोई न कोई नया हंगामा हो रहा है।

बीकानेर

संभाग के सबसे बड़े पीबीएम अस्पताल में अव्यवस्थाओं की शिकायतें मिल रही है, जिनके निस्तारण को लेकर न तो एसपी मेडिकल कॉलेज और पीबीएम प्रशासन गंभीर है। मॉनिटरिंग के अभाव में राज्य के बेहतरीन अस्पतालों में शुमार पीबीएम इन दिनों अव्यवस्थाओं के कारण चर्चा में है। अव्यवस्थाओं के चलते आए दिन कोई न कोई नया हंगामा हो रहा है। कॉलेज व अस्पताल प्रशासन  अव्यवस्थाओं को दूर करें। 



कुछ इस तरह की सख्ती गुरुवार को एसपी मेडिकल कॉलेज के सेमिनार हाल में आयोजित राजस्थान मेडिकल रिलीफ सोसायटी की बैठक में संभागीय आयुक्त सुवालाल ने दिखाई। उन्होंने कहा कि पीबीएम के चिकित्सक निजी अस्पतालों में सेवाएं देने से बाज आए। इससे पीबीएम की छवि खराब होने के साथ-साथ मरीजों का अहित हो रहा है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। 



उन्होंने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. देवेन्द्र चौधरी को प्रत्येक निजी  अस्पताल को औचक निरीक्षण करने के निर्देश दिए और इसकी रिपोर्ट देने को कहा। संभागीय आयुक्त ने कॉलेज प्राचार्य डॉ. अग्रवाल से कहा कि दवाइयों की खरीद, वितरण और ठेके पर हो रहे कार्यो में पारदर्शिता रखें। एक माह में कितनी दवाइयां खरीद की और कितनी वितरण हुई। 



इसका लेखा-जोखा समाचार-पत्रों में साझा करें। प्लेसमेंट एजेंसी के माध्मय से लगे कार्मिकों को पूरा वेतन नहीं देने वाली एजेंसी को ब्लेक लिस्टेड किया जाए। उन्होंने कहा कि पीबीएम में 150 से अधिक सुरक्षा गार्ड लगे हुए हैं। इसके उपरांत भी सांड पीबीएम की गैलरियों तक कैसे पहुंच जाते हैं। इस पर उन्होंने नाराजगी जताई।


read : अस्पताल परिसर बना पार्किंग स्थल, हर जगह खड़े वाहन ऐसे में कैसे निकलें मरीज और एम्बुलेंस


पटरी पर दिखी व्यवस्था

शुक्रवार को पीबीएम अस्पताल में संभागीय आयुक्त के आने की सूचना से सारी व्यवस्थाएं चाक-चौबंद नजर आई। पीबीएम में सफाई और परिसर में पार्किंग व्यवस्थित नजर आई। इतना ही नहीं वार्डों में नर्सिंग कर्मी व चिकित्सक एप्रिन व नेमप्लेट सहित नजर आए।



रोगी को चूहे ने काटा

बैठक में डॉ. गजेन्द्र वर्मा ने संभागीय आयुक्त के समक्ष रोगियों को चूहे के काटने का मुद्दा उठाया। उन्होंने वार्ड में चूहों के विचरण व मरीज को काटे के फोटो दिखाए। इस पर संभागीय आयुक्त ने ने पीबीएम अधीक्षक से इस मामले की जांच कराने के निर्देश दिए।



ये रहे बैठक में मौजूद

बैठक में पीबीएम अधीक्षक डॉ. पीके बैरवाल, एडीएम सिटी शैलेन्द्र देवड़ा, नगर  निगम आयुक्त आरके जायसवाल, अति. प्राचार्य डॉ. रंजन माथुर, डॉ. एलए गौरी, डॉ. माणक गुजरानी, डॉ. बीसी घीया, डॉ. मुकेश आर्य, डॉ. राजेन्द्र बोथरा, डॉ. सुरेन्द्र चौपड़ा, डॉ. जितेन्द्र नागल, डॉ. अभिषेक क्वात्रा, डॉ.गजेन्द्र वर्मा, सुरेन्द्र सिंह, विजयमोहन जोशी सहित मेडिकल कॉलेज के लेखाधिकारी  व अन्य अधिकारी उपस्थित थे।



पीबीएम हेल्प कमेटी का अनशन स्थगित

पीबीएम हेल्प कमेटी की ओर से शुक्रवार को प्रस्तावित धरना एवं अनशन संभागीय आयुक्त सुवालाल के आश्वासन के बाद एकबारगी स्थगित कर दिया गया है। गुरूवार को मेडिकल कॉलेज में आयोजित बैठक में संभागीय आयुक्त ने कमेटी की ओर से दिए गए 24 सूत्रीय ज्ञापन पर बिन्दुवार चर्चा की।



 करीब दो घंटे से ज्याद चली बैठक में संभागीय आयुक्त ने मेडिकल कॉलेज प्राचार्य और पीबीएम अधीक्षक को दिशा निर्देश देते हुए कमेटी की ओर से संज्ञान में लाए गए बिन्दुओं पर आवश्यक कार्रवाई करने के आदेश दिए तथा 15 दिनों में   इसकी रिपोर्ट देने को कहा। क मेटी अध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह राजपुरोहित ने बैठक ने कमेटी की ओर से की गई शिकायतों के प्रमाण प्रस्तुत किए। राजपुरोहित ने चेतावनी दी किअगर 15 दिनों में कार्रवाई नहीं हुई तो कमेटी फिर से आन्दोलन करेगी।

rajasthanpatrika.com

Bollywood