Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

शहर में अतिक्रमणों की भरमार, जिम्मेदार बने मूकदर्शक

Patrika news network Posted: 2017-06-19 11:11:29 IST Updated: 2017-06-19 11:11:29 IST
शहर में अतिक्रमणों की भरमार, जिम्मेदार बने मूकदर्शक
  • मास्टर प्लान की अनदेखी : 'सुगम' पर शिकायत, अधिकारियों ने नहीं देखा मौका

बीकानेर

मास्टर प्लान की अनदेखी के साथ शहर में धड़ल्ले से हो रहे अतिक्रमणों को लेकर लोगों ने जिला प्रशासन व सुगम पोर्टल पर शिकायत दर्ज कराई। परन्तु जिम्मेदार अधिकारियों ने कोई कार्रवाई नहीं। जिससे अतिक्रमियों के हौंसले और बुलंद होते गए। नतीजन मुख्य सड़कों के किनारे तो अतिक्रमण कराने के ठेके होने लगे है। 



सुदर्शना नगर के सामाजिक कार्यकर्ता ने बताया कि वार्ड 39 के मुख्य मार्गों व उपमार्गों पर कब्जे हो रहे हैं। लोगों ने अपने घरों के सामने सड़क पर करीब 8-10 फुट आगे तक चौकियां, रैम्प, सीढिय़ा, चार दीवारी बनाकर अतिक्रमण कर रखा है। करीब दो साल से अतिक्रमण हटाने के लिए बराबर शिकायत दर्ज करा रहे हैं। उन्होंने अतिक्रमण की पहली शिकायत 2 अप्रेल 2015 को सुगम पोर्टल पर दर्ज कराई। 




जिसका जवाब मिला कि 'यूआईटी के पास सीमित बजट है, बजट के अभाव में कार्य किया जाना संभव नहीं है।'बाद में 6 जून 2016 से बराबर नगर निगम में शिकायत दर्ज करा रहे है। परन्तु अतिक्रमण हटाने की अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि मास्टर प्लान की पालना को लेकर जिम्मेदार कितने गंभीर है। 



वहीं शहर में चिन्हित किए गए अतिक्रमणों को नहीं हटाने से नाराज कुछ लोगों ने इसके लिए आंदोलन करने की चेतावनी दी है। उनका कहना है कि दो-तीन दिन में कब्जों को हटाने की कार्रवाई नहीं की गई तो वे सामाजिक कार्यकर्ताओं को साथ लेकर अनशन पर बैठेंगे।




लाल निशानों की अनदेखी

नगर विकास न्यास और नगर निगम की ओर से शहर में अतिक्रमणों को चिन्हित कर, जो लाल क्रॉस लगाए गए है। कुछ स्थानों पर लाल निशानों को मिटाने के मामले भी सामने आए हैं। पुलिस लाइन चौराहे से आगे एक मकान की दीवार पर लगाए गए क्रॉस निशान पर मार्बल पट्टिकाएं लगाकर उसे ढाकने का प्रयास किया गया है। वहीं मुख्य मार्गों पर लगाए गए क्रॉस निशानों में कुछ स्थानों पर लाल निशान पर दूसरा रंग पोतकर उसे मिटाने का प्रयास किया गया है। 


read : नक्शे में स्कूल और पार्क, अब बन गए मकान



कब्जे नहीं हटाए तो बैठेंगे अनशन पर

यूआईटी व नगर निगम ने शहर में अतिक्रमणों को चिन्हित तो कर दिया है, लेकिन उनको हटाने की कार्रवाई नहीं की जा रही है। इसके लिए वे आंदोलन की रूपरेखा तैयार कर रहे हैं। तीन-चार दिन में चिन्हित अतिक्रमण नहीं हटाए गए तो वे अनशन पर बैठेंगे।

लक्ष्मण मोदी, अध्यक्ष मघा फाउण्डेशन।



सुनवाई नहीं

वार्ड 39 में मुख्य मार्ग व उपमार्ग पर लोगों ने घरों के आगे अतिक्रमण कर रखे हैं। जिससे रास्ते संकरे हो गए। निगम और सुगम पोर्टल पर शिकायत दर्ज कराई, मगर कार्रवाई नहीं हुई।   

हर्ष कुमार जग्गी, अध्यक्ष सुदर्शना नगर विकास समिति। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood