Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

मास्टर प्लान, बड़ों ने रोकी पड़ौस की हवा, पानी और रोशनी

Patrika news network Posted: 2017-06-19 11:29:22 IST Updated: 2017-06-19 11:29:22 IST
मास्टर प्लान, बड़ों ने रोकी पड़ौस की हवा, पानी और रोशनी
  • शहर के मास्टर प्लान की अवहेलना करने में सरकारी एजेंसियों ने उन बहुमंजिला इमारतों को भी अभयदान दे रखा है, जिनके अवैध मालों से पड़ौसियों के हवा, पानी, रोशनी का मूल अधिकार छिनता जा रहा है।

भरतपुर.

शहर के मास्टर प्लान की अवहेलना करने में सरकारी एजेंसियों ने उन बहुमंजिला इमारतों को भी अभयदान दे रखा है, जिनके अवैध मालों से पड़ौसियों के हवा, पानी, रोशनी का मूल अधिकार छिनता जा रहा है।


इस बारे में आम आदमी के मूल अधिकारों का हनन करने में यह एजेंसियां उल्टे अवैध निर्माणकर्ताओं की मदद कर रही हैं। मास्टर प्लान की गुलाब कोठारी बनाम राज्य सरकार वाली याचिका में हाल ही हाईकोर्ट ने सख्ती से प्लान की क्रियान्विति करने को कहा है।


इससे पहले भी अदालतें समय समय पर यह आदेश देती रही हैं लेकिन न सरकार और न एजेंसियां इस पर ध्यान दे सकीं। अन्य शहरों की तरह भरतपुर में पड़ौसियों द्वारा हवा, पानी, रोशनी बंद कर देने की शिकायतें और झगड़े सामने आ रहे हैं।


शिकायतों पर भी ढीला-ढाला रवैया


नगर निकायों का निष्क्रियता की स्थिति ऐसी है कि लोगों द्वारा कईबार शिकायत करने के बाद भी अतिक्रमणों पर प्रभावी कार्रवाईनहीं होती। शासन का भय लगभग समाप्त होने का ही परिणाम है कि लोग अवकाश के दिनों में भरतपुर में अवैध निर्माण करने से नहीं चूकते। कईबार शिकायत होने पर मौके पर निचले स्तर के कर्मचारियों को भेजकर फौरी तौर पर काम रुकवा दिया जाता है जो कुछ दिन बाद फिर से चालू हो जाता है।


नई आवासीय कॉलोनियों में ज्यादा विवाद


शहर के विकास के साथ-साथ शहर के पुराने इलाकों में यह समस्या ज्यादा है। लक्ष्मण  मंदिर, गंगा मंदिर, चौबुर्जा, मोरी चार बाग, मथुरा गेट, आर्य समाज रोड, अटबलंध मंडी रोड, अनाह गेट बजरिया रोड, दही वाली गली पर तेजी से पुराने भवनों के स्थान पर बहुमंजिला निर्माणहुएहैं। बहुसंख्यक निर्माण मकानों में दुकान बनाने के लिएहुएहैं जिसके चलते आसपास के मकानों में रहने वाले लोगों के लिएसमस्या पैदा हो गई है।


बाहरी इलाके भी ज्यादा अछूते नहीं


सर्कुलर रोड के बाहरी क्षेत्र में बसी कॉलोनियों में भी बेतरतीब तरीके से  कृषि भूमि पर कॉलोनियां बसी हैं। लोगों ने बिना नक्शा आदि पास कराए अपनी सुविधा से मकान बनाएं हैं जिनमें आपपास रहने वाले लोगों को परेशानी होती है।


rajasthanpatrika.com

Bollywood