Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

सीडीएम मशीन में अटक रही ग्राहकों की राशि, ग्राहक काट कर बैंक के चक्कर

Patrika news network Posted: 2017-07-13 12:01:09 IST Updated: 2017-07-13 12:01:09 IST
सीडीएम मशीन में अटक रही ग्राहकों की राशि, ग्राहक काट कर बैंक के चक्कर
  • कुम्हेर गेट स्थित एसबीआई बैंक की कैश डिपोजिट मशीन (सीडीएम) के आएदिन खराब होने से ग्राहकों की सिरदर्दी बढ़ा दी है। मशीन में राशि चले जाने के बाद नेटवर्क गड़बड़ होने पर जमा कराने की रसीद नहीं मिल पाती है।

भरतपुर.

कुम्हेर गेट स्थित एसबीआई बैंक की कैश डिपोजिट मशीन (सीडीएम) के आएदिन खराब होने से ग्राहकों की सिरदर्दी बढ़ा दी है। मशीन में राशि चले जाने के बाद नेटवर्क गड़बड़ होने पर जमा कराने की रसीद नहीं मिल पाती है।

मशीन की गड़बड़ी को लेकर ग्राहकों ने बैंक प्रबंधन और जिला ्रप्रशासन से शिकायत की, लेकिन फिलहाल समस्या का हल नहीं होने से ग्राहक परेशान बने हुए हैं। विशेष कर रोजमर्रा की आय जमा कराने वाले ग्राहक चिंतित हैं, जिनकी राशि मशीन में अटकी हुई है। उधर, बैंक का कहना है कि मशीन में जमा राशि की जांच कर ग्राहकों को उनकी राशि वापस कर दी जाएगी। लेकिन उन्होंने इस प्रक्रिया में कुछ समय लगने की बात कही है।

ई-मित्र संचालक कृष्णमुरारी ने बताया कि कुम्हेर गेट शाखा की सीडीएम मशीन में उसने 10 जुलाई को ग्राहकों के बिजली बिल की राशि तीन बार जमा कराई। इसमें पहला नकदी 48 हजार 500 की थी, जो जमा हो गई। दूसरी बार जमा कराया तो राशि मशीन में ही रह गई। कुछ देर इतंजार करने पर बिना नोट विवरण के साथ असफल ट्रांर्जेेक्शन की पर्ची निकल आई। तीसरी बार 61 सौ जमा कराए, जिसकी सही रसीद मिल गई। मशीन में फंसी दूसरी राशि के संबंध में बैंक में शिकायत की।

दूसरे दिन उन्होंने शाखा में संपर्क किया, जिस पर उन्होंने मशीन खुलने पर जांच करने की बात कही। ग्राहक ने बताया कि उसे 14 जुलाई तक राशि जमा कराना जरुरी है, नहीं तो बिलों पर उसे विलम्ब शुल्क भरना पड़ेगा।

राशि को लेकर उलझन

इसी तरह ग्राहक नरेन्द्र जिंदल ने भी गत 27 जून को सीडीएम मशीन में 49 हजार 900 रुपए जमा कराए थे। राशि जमा होने पर असफल ट्रांर्जेक्शन की रसीद मिली। जिस पर बैंक में शिकायत की। उन्होंने बताया कि कई दिन बाद मशीन खुलने पर बैंक ने राशि कम बताई। बैंक ने ग्राहक से नोट की संख्या पूछी लेकिन थोड़े दिन होने से वह असमर्थ रहे। फिलहाल उनका मामला अटका हुआ है।

वापस कर देंगे ट्रांर्जेक्शन फीस

ई-मित्र संचालक का कहना है कि बैंक ने उनकी जमा राशि पर लिए जाने वाला शुल्क गत 13 जून से माफ कर दिया था। लेकिन बैंक का कहना है कि आदेश 23 जून से लागू हुए हैं, इस तिथि से शुल्क नहीं लिया जाएगा। उधर, ग्राहक उप-महाप्रबंधक की ओर से जारी आदेश तिथि के बाद लिए शुल्क को वापस करने की बात कही। बैंक ने मामला दिखवा शुल्क वापस करने का भरोसा दिया है।

rajasthanpatrika.com

Bollywood