Breaking News
  • चित्‍तौड़गढ़ : पोक्‍सो एक्‍ट में एक गिरफ्तार, नाबालिग को भगाने और दुष्कर्म का मामला
  • कोटा: छत्रपुरा इलाके में मीणा छात्रावास के सामने हादसा, बाइक से गिरने से महिला की मौत
  • जयपुर: हरमाड़ा में 2.83 लाख के पुराने नोटों के साथ तीन को पकड़ा, आईटी व आरबीआई को दी सूचना
  • सिरोही: हाईवे पर ट्रोलर ने बाइक सवार दो लोगों को कुचला, जेब में मिले आधार कार्ड से हुई पहचान
  • जयपुर रेलवे जंक्शन पर मालगाड़ी के तीन डिब्बे पटरी से उतरे
  • उदयपुर : गोगुंदा के रावलिया गांव से दो कारों से 147 किलोग्राम डोडा-पोस्त जब्त, ले जाया जा रहा था मारवाड़, तीन गिरफ्तार
  • उदयपुर : सराड़ा ग्राम पंचायत में सरपंच पद के उपचुनाव में लक्ष्मी मीणा ने कांता मीणा को 398 मतों से हराया
  • भुसावर : गांव उलूपुरा में घर में आग लगने से हजारों का सामान खाक, तीन पशु भी झुलसे
  • बांसवाड़ा : घोटिया आंबा मेले का शुभारंभ, कलाकारों ने दी रंगारंग प्रस्तुतियां
  • उदयपुर : मावली प्रधान पर दूर के भतीजे ने ही चलाई थी गोली, जुर्म कबूला
  • पाली : रोहट में गंभीर रूप से घायल हुए युवक ने जोधपुर में उपचार के दौरान दम तोड़ा
  • जयपुर : जामडोली में विमंदित बच्चों के लिए सालभर में भी नहीं लगा पाए नए केयरटेकर
  • जयपुर : कल से शुरू होगा नवसंवत्सर वर्ष, प्रदेशभर में होंगे कई आयोजन, निकलेंगी रैलियां
  • जयपुर : कल से शुरू होगा नवसंवत्सर वर्ष, प्रदेशभर में होंगे कई आयोजन, निकलेंगी रैलियां
  • जयपुर: मालवीय नगर में बाइक सवार बदमाश छीन ले गया महिला का पर्स, बदमाश की तलाश में जुटी पुलिस
  • जयपुर- विश्वकर्मा में चालक को बंधक बनाकर नकदी व चीनी की बोरियां छीनी
  • अलवर: सरिस्का में पैंथर की मौत मामले में वन विभाग के आरोपों को लेकर ग्रामीणों की सभा आज, प्रशासन ने धारा 144 लगाई
  • अलवर: आज से होगा राजस्थान दिवस के कार्यक्रमों का शुभारम्भ, सूचना केन्द्र में लगाई जाएगी प्रदर्शनी
  • श्रीगंगानगर: एटा सिंगरासर माइनर निर्माण की मांग को लेकर किसानों का विरोध प्रदर्शन, बाजार बंद
  • जैसलमेर : पोकरण में जलदाय विभाग की पाइपलाइन फूटी, बह रहा हजारों लीटर पानी
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

शुरू हो गए होलाष्टक, अब शुभ कार्यों से पहले रखें इन बातों का ध्यान, तो खुशियों के रंग लेकर आएगी होली

Patrika news network Posted: 2017-03-05 12:58:23 IST Updated: 2017-03-05 13:00:41 IST
शुरू हो गए होलाष्टक, अब शुभ कार्यों से पहले रखें इन बातों का ध्यान, तो खुशियों के रंग लेकर आएगी होली
  • होली से ठीक आठ दिन पहले होलाष्टक लग जाते हैं, जिनमें कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है। इस वर्ष 5 मार्च को अष्टमी तिथि में प्रात: 07 बजकर 43 मिनट के बाद से होलाष्टक लग जाएंगे, जो होलिका दहन के पश्चात दूसरे दिन समाप्त होंगे।

जयपुर

होली स्नेह, प्रेम, सद्भाव और राग-रंग का अद्भुत समन्वय है। फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णमासी को यह पर्व हर्षोल्लास से मनाया जाता है। इस वर्ष 12 मार्च को होलिका दहन और 13 मार्च को धुलंडी मनाई जाएगी। 



होली से ठीक आठ दिन पहले होलाष्टक लग जाते हैं, जिनमें कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है। इस वर्ष 5 मार्च को अष्टमी तिथि में प्रात: 07 बजकर 43 मिनट के बाद से होलाष्टक लग जाएंगे, जो होलिका दहन के पश्चात दूसरे दिन समाप्त होंगे।



ये हैं भारत के रहस्यमय मंदिर, कहीं जलती है अखंड ज्योति तो कहीं चढ़ता है मदिरा का भोग



शुभ कार्य रहेंगे निषिद्ध 

धार्मिक और पौराणिक मान्यता के अनुसार होलाष्टक के दिनों में अर्थात अष्टमी से पूर्णमासी के दौरान केतु ग्रह को छोड़कर अन्य आठों ग्रह चंद्रमा, सूर्य, शनि, शुक्र, गुरु, बुध, मंगल और राहु क्रम से उग्र स्वरुप धारण कर लेते हैं इस कारण इन दिनों में शुभ कार्य निषिद्ध समझे जाते हैं। 



होलाष्टक में विवाह, नामकरण, गृह प्रवेश, नए वाहन या संपत्ति की खरीद आदि पर मनाही रहती है। माना जाता है कि होलाष्टक में शुभ कार्य करने से विपरीत परिणाम मिलते हैं तथा कार्य में रुकावट आने से मानसिक और शारीरिक तनाव एवं कष्ट उत्पन्न होता है। 



इसमें शुभ कार्य न करने का तर्क यह है कि भगवान नारायण के भक्त प्रह्लाद को बुआ होलिका के साथ अग्नि में बैठाने के आदेश के बाद दु:ख व्याप्त होने से शुभ कार्य करना अशुभ माना गया। हालांकि होलिका दहन में प्रह्लाद सकुशल बच गए जबकि बुआ अग्नि में ही भस्म हो गई।  



कहते हैं शास्त्र, अगर इस समय लेंगे नींद तो दुर्भाग्य और रोग नहीं छोड़ेंगे पीछा



भक्ति भाव से करें पूजन   

होलाष्टक के प्रथम दिन अर्थात अष्टमी वाले दिन होलिका दहन के लिए चयनित स्थान को गाय के गोबर से लीपकर शुद्ध किया जाता है और वहां आटे एवं हल्दी से स्वास्तिक बनाकर विधिवत पूजा-पाठ के उपरान्त सूखी लकड़ी, कंडे और होली का डंडा स्थापित किया जाता है। 



इस प्रक्रिया के बाद सभी शुभ कार्य बंद कर दिए जाते हैं। होलाष्टक के दौरान गीत-संगीत, पूजा-पाठ, कृष्ण भक्ति से जुड़े भजन आदि किए जा सकते हैं। 



माना जाता है कि ऐसा करने से जीवन में किसी वस्तु का अभाव नहीं रहता तथा सुख, शांति, सद्भाव और प्रेम का संचार होता है। कहते हैं कि जिस दिन भगवान शिव ने कामदेव को क्रोधावेश में आकर भस्म किया था। उस दिन फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि थी। तभी से होलाष्टक की शुरुआत मानी जाती है।     

प्रमोद कुमार अग्रवाल 




rajasthanpatrika.com

Bollywood