Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

शुभ कार्यों के लिए ये हैं आज के श्रेष्ठ मुहूर्त, तुरंत जानिए सोमवार का पंचांग

Patrika news network Posted: 2017-03-06 10:35:15 IST Updated: 2017-03-06 10:36:35 IST
शुभ कार्यों के लिए ये हैं आज के श्रेष्ठ मुहूर्त, तुरंत जानिए सोमवार का पंचांग
  • मृगशिर नक्षत्र सायं 7.42 तक, तदुपरान्त आर्द्रा नक्षत्र है। मृगशिर नक्षत्र में विवाह, यात्रा, देवप्रतिष्ठा, वास्तु व कृषि सम्बंधी कार्य करने योग्य हैं।

जयपुर

आज 6 मार्च 2017 तथा सोमवार है। शुभ विक्रम संवत् : 2073, संवत्सर का नाम : सौम्य, शाके संवत् : 1938, हिजरी सन् : 1438, अयन : उत्तरायण, ऋतु : बसन्त, मास : फाल्गुन, पक्ष - शुक्ल।



तिथि 

नवमी रिक्ता संज्ञक तिथि रात्रि 2.02 तक, तदुपरान्त दशमी पूर्णा संज्ञक तिथि प्रारम्भ हो जाएगी। नवमी तिथि में मद्यनिर्माण, आखेट, जुआ विग्रह, क्लेश व अभिघातादिक कार्य सिद्ध होते हैं। शुभ व मांगलिक कार्य शुभ नहीं रहते। पर दशमी तिथि में समस्त शुभ व मांगलिक कार्य शुभ होते हैं। 



नक्षत्र

मृगशिर नक्षत्र सायं 7.42 तक, तदुपरान्त आर्द्रा नक्षत्र है। मृगशिर नक्षत्र में विवाह, यात्रा, देवप्रतिष्ठा, वास्तु व कृषि सम्बंधी कार्य करने योग्य हैं। 



ये हैं भारत के रहस्यमय मंदिर, कहीं जलती है अखंड ज्योति तो कहीं चढ़ता है मदिरा का भोग



योग

प्रीति नामक योग सायं 4.21 तक, तदन्तर आयुष्मान नामक योग है। दोनों ही नैसर्गिक शुभ योग हैं। 



विशिष्ट योग

सूर्योदय से सायं 7.42 तक अमृत व सर्वार्थसिद्धि नामक शुभ योग, तदुपरान्त दोष समूह नाशक रवियोग नामक शक्तिशाली शुभ योग है। 



करण

बालव नामकरण दोपहर बाद 2.59 तक, तदन्तर कौलवादि करण रहेंगे।



शुभ मुहूर्त 

उपर्युक्त शुभाशुभ समय, तिथि, वार, नक्षत्र व योगानुसार आज मृगशिर नक्षत्र में विवाह व गृहप्रवेश आदि के शुभ मुहूर्त हैं।



कहते हैं शास्त्र, अगर इस समय लेंगे नींद तो दुर्भाग्य और रोग नहीं छोड़ेंगे पीछा



व्रतोत्सव

आज आनन्दा नवमी, श्री हरि जयंती, ब्रज में होली प्रारम्भ तथा आज बरसाना में होली है। 



दिशाशूल

सोमवार को पूर्व दिशा की यात्रा में दिशाशूल रहता है। चन्द्र स्थिति के अनुसार आज दक्षिण-पश्चिम दिशा की यात्रा लाभदायक व शुभ है। 



चन्द्रमा

चन्द्रमा प्रात: 8.20 तक वृष राशि में, इसके बाद मिथुन राशि में रहेगा। 



राहुकाल

प्रात: 7.30 से प्रात: 9.00 तक राहुकाल वेला में शुभकार्यारंभ यथासम्भव वर्जित रखना हितकर है।




rajasthanpatrika.com

Bollywood