Breaking News
  • जोधपुर- बाप उपखंड के माण्डली में पांच कच्चे मकानों में लगी आग, हजारों की नकदी सहित लाखों का सामान खाक
  • डूंगरपुर- कसारिया के पास गरासिया फला में घरेलू गैस सिलेंडर भभकने से घर में लगी आग, कोई जन​हानि नहीं
  • जयपुर- सिरसी रोड पर स्थित तीन दुकानों में चोरी, व्यापारियों में आक्रोश
  • जयपुर- सिरसी रोड पर स्थित तीन दुकानों में चोरी, व्यापारियों में आक्रोश
  • बीकानेर- पीबीएम अस्पताल से देर रात बंदी फरार, पुलिस ने कराई नाकाबंदी, हाथ नहीं लगा
  • बीकानेर- बज्जू के तेजपुरा में शॉर्ट सर्किट से मकान में लगी आग में जला लाखों का सामान
  • कोटा- बपावर के पास मोतिया खाल की पुलिया से नीचे गिरा ट्रक, चालक की मौके पर ही मौत
  • सवाई माधोपुर- शिवाड़ के घुश्मेश्वर महादेव मंदिर में संगीतमय राम कथा शुरू
  • श्रीगंगानगर- राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष मनन चतुर्वेदी ने बाल अधिकारों के संबंध में लिया फीडबैक
  • सवाईमाधोपुर- राजस्थान दिवस के उपलक्ष्य में मान टाउन क्लब में क्राफ्ट मेला शुरू
  • जयपुर- हरमाडा पुलिस ने दौलतपुरा टोल पर शराब से भरा ट्रक पकड़ा
  • जयपुर- नाईजीरियन ने नाईजीरियन युवक से ही की नौ लाख की ठगी, सांगानेर थाना पुलिस ने किया दो को गिरफ्तार
  • श्रीगंगानगर- कृष्णा टॉकीज के पास ट्रक की टक्कर से बिजली के पांच पोल और दो डीपी क्षतिग्रस्त
  • सवाईमाधोपुर- छप्परपोश में आग से बुजुर्ग माता-पिता के साथ बेटा भी झुलसा, मलारना डूंगर के दिवाड़ा गांव हादसा
  • जयपुर- आरबीआई बैंक के बाहर नोट बदलवाने को लेकर पहुंचे कुछ लोग
  • जयपुर- आदर्श नगर थाना पुलिस ने पकड़ा चोरी की बाइक बेचने की फिराक में घूम रहे वाहन चोर को
  • जयपुर- आदर्श नगर थाना पुलिस ने पकड़ा चोरी की बाइक बेचने की फिराक में घूम रहे वाहन चोर को
  • जयपुर- चौमू में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे युवक ने लगाई फांसी, तीन दिन पहले ही किराये लिया था कमरा
  • नागौर- मिंडा के पास मालगाड़ी की चपेट में आने से युवक की मौत
  • जोधपुर- पंजाब से प्रोडक्शन वारंट पर लाया गया कुख्यात अपराधी लॉरेंस बिश्नोई आठ दिन के रिमाण्ड पर
  • नागौर- मिंडा कस्बे में खाना बनाते समय घरेलू गैस सिलेंडर भभका, बड़ा हादसा टला
  • श्रीगंगानगर- डॉक्टर अशोक गुप्ता की तलाश में रायसिंहनगर में अस्पताल पर छापा मारा, लेकिन नहीं मिला डॉक्टर
  • हिंडौन सिटी- बजरिया में शराब की दुकान खोले जाने के विरोध में धरने पर बैठी महिलाएं
  • अलवर- युवक ने की आत्महत्या, शाहजहांपुर के पास सकतपुरा बावद निवासी था मृतक
  • सिरोही- पुलिस लाइन स्थित क्वार्टर में हैडकांस्टेबल ने लगाई फांसी
  • जयपुर- विधायक रमेश मीणा को सदन से निष्कासित करने की मांग, संसदीय कार्यमंत्री राजेंद्र राठौड़ ने रखा विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव
  • राजसमंद- आमेट की मार्बल फैक्ट्री में करंट लगने से युवक की मौत
  • भीलवाड़ा- दो दिन पहले खेत में झुलसी मासूम की जयपुर में इलाज के दौरान मौत, बदनौर के करमा का बाड़िया गांव में हुआ था हादसा
  • हनुमानगढ- भादरा के भिरानी थाने से युवक के भाग निकलने पर ग्रामीणों ने जताया आक्रोश, डाबड़ी के ग्रामीणों ने युवक को पकड़कर सौंपा था पुलिस को
  • धोलपुर- गांधीपार्क के पास बाजार में पेड़ गिरने से छप्परपोश दुकानें ध्वस्त, बिजली लाइन भी टूटी
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

उस साधु के पास थी ऐसी सिद्धि, कदम रखता तो पानी पर भी चल सकता था!

Patrika news network Posted: 2017-01-15 15:52:13 IST Updated: 2017-01-15 16:07:01 IST
उस साधु के पास थी ऐसी सिद्धि, कदम रखता तो पानी पर भी चल सकता था!
  • महात्माजी खड़े हुए और पानी की सतह पर चलते हुए लंबा चक्कर लगाकर वापस स्वामीजी के पास आ खड़े हुए। स्वामीजी ने आश्चर्यचकित होते हुए पूछा- महात्माजी, यह सिद्धि आपने कहां और कैसे पाई?

स्वामी विवेकानंद एक बार कहीं जा रहे थे। रास्ते में नदी मिली तो वे वहीं रुक गए क्योंकि नदी पार कराने वाली नाव दूसरी छोर पर थी। तभी वहां एक चमत्कारी महात्मा आए और विवेकानंद से बोले, अगर ऐसी छोटी-मोटी बाधाओं को देखकर रुक जाओगे तो दुनिया में कैसे चलोगे? तुम तो बड़े आध्यात्मिक गुरु और दार्शनिक माने जाते हो। जरा-सी नदी नहीं पार कर सकते? देखो, नदी ऐसे पार की जाती है। 



इस चमत्कारी चट्टान को भूकंप भी नहीं गिरा सका, महिलाओं का स्पर्श है यहां वर्जित



महात्माजी खड़े हुए और पानी की सतह पर चलते हुए लंबा चक्कर लगाकर वापस स्वामीजी के पास आ खड़े हुए। स्वामीजी ने आश्चर्यचकित होते हुए पूछा- महात्माजी, यह सिद्धि आपने कहां और कैसे पाई? 



शिवजी के क्रोध से उबलने लगा था इस कुंड का पानी, आज तक नहीं हुआ ठंडा, निकल रही है भाप



महात्माजी मुस्कुराए और बड़े गर्व से बोले, यह सिद्धि ऐसे ही नहीं मिल गई। इसके लिए मुझे हिमालय की गुफाओं में तीस साल तपस्या करनी पड़ी। 



महात्मा की बातें सुन स्वामीजी मुस्कराकर बोले, मैं आश्चर्यचकित तो हूं लेकिन नदी पार करने जैसे काम जो दो पैसे में हो सकता है, उसके लिए आपने जिंदगी के तीस साल बर्बाद कर दिए। यानी दो पैसे के काम के लिए तीस साल की बलि! ये तीस साल अगर आप मानव कल्याण के किसी कार्य में तो आपका जीवन सचमुच सार्थक हो जाता। महात्मा उन्हें अपलक देखते रह गए।



भारत से दूर यहां भी है एक और 'रामसेतु', सिर्फ 2 घंटे दर्शन देकर हो जाता है गायब!



rajasthanpatrika.com

Bollywood